MP : जान देकर निभाया साथ : सड़क दुर्घटना में कार में पति को जिंदा जलते देखा फिर सदमे में खुद भी 35 दिन बाद लगा ली फांसी

सागर। 35 दिन पहले एनएच-26 पर सागर के पास सड़क दुर्घटना में कार में जिंदा जलने से हुई पति की मौत के बाद सदमे में पत्नी ने फांसी लगा ली। मामले में शाहगढ़ पुलिस ने मर्ग कायम कर जांच में लिया है।

छेड़छाड़ करने वाले मनचले को फटकार लगाना एक छात्रा को पड़ा भारी, छात्रा का नंबर वायरल कर लिखा- कॉल गर्ल, 100 से ज्यादा काॅल आते : फिर ..

सूचना के अनुसार रिजवाना खान (32) अस्पताल से छुट्टी होने के बाद शाहगढ़ में पिता लियाकत खां के घर पर थी। शुक्रवार को परिवार वालों ने रिजवाना को उठाया। तैयार होने की बात कहकर कमरे से बाहर आ गए। काफी समय तक जब रिजवाना बाहर नहीं आई, तो परिवार वाले कमरे में गए, तो वहां का नजारा देख दंग रह गए। रिजवाना फंदे पर झूल रही थी।

जूडा V/s सरकार : इस्तीफा देने वाले जूनियर डॉक्टरों को अब बांड के जमा करने होंगे 30-30 लाख रुपए

परिजन ने पुलिस को सूचना दी। शाहगढ़ पुलिस मौके पर पहुंची। पुलिस ने शव का पीएम कराकर परिजन को सौंप दिया। मृतका के पास से सुसाइड नोट नहीं मिला है।

सरकार बोली- मरीजों के साथ ब्लैकमेलिंग ठीक नहीं, जूडा ने कहा- सुप्रीम कोर्ट जाएंगे

पिता लियाकत खां ने बताया, रिजवाना की शादी करीब 6 साल पहले साजिद खान (36) निवासी ग्राम काजी टीकमगढ़ से हुई थी। एक माह पहले साजिद और रिजवाना कार से घर की ओर आ रहे थे, तभी कार दुर्घटनाग्रस्त हो गई। हादसे में कार में आग लगी और दामाद साजिद की जिंदा जलने से मौत हो गई थी। वहीं, रिजवाना गंभीर अवस्था में झुलसी थी। उसे अस्पताल में भर्ती कराया था। कुछ समय पहले अस्पताल से छुट्टी होने पर शाहगढ़ लेकर आए थे। रिजवाना रोजाना दामाद की फोटो देखकर रोती रहती थी।

35 दिन पहले दुर्घटना में हुई थी पति की मौत

30 अप्रैल को सागर के बहेरिया थाना क्षेत्र में साईखेड़ा से लिधौरा के बीच कार अनियंत्रित होकर डिवाइडर पर चढ़ी और आग लग गई थी। हादसे में कार में सवार साजिद खान (36) निवासी ग्राम काजी टीकमगढ़ हाल मुकाम एसबीआई कालोनी के पास मकरोनिया की जिंदा जलने से मौत हो गई थी। वहीं पत्नी रिजवाना खान (32) आग की चपेट में आने से झुलसी थी।

Powered by Blogger.