SIDHI : वाह रे सरकार ! अजब ब्लड टेस्ट करवाने पहुंचे बच्चे की जबरन कर दी कोरोना जांच, फिर रिकाॅर्ड में मृत बताया; मां से रिश्तेदारों ने पूछा तो बेहोश होकर गिर पड़ी

सीधी जिले में स्वास्थ्य विभाग द्वारा 7 जिंदा लोगों को मृत बताने के मामले में नया खुलासा हुआ है। पीड़ित का दावा है कि ब्लड जांच कराने पहुंचे बच्चे की जबरन कोरोना जांच कर दी। क्योंकि, ग्रामीण क्षेत्र के अस्पतालों में एक ही जगह सब कुछ होता है। ऐसे में नियमों से अनजान पिता ने खून का सैंपल देने की जगह कोरोना का सैंपल दिलवा दिया। जब रिपोर्ट आई तो सुनकर चौंक गए, फिर भी सिस्टम ने एक नहीं सुनी। जबरन होम आइसोलेट कर दिया। 20 दिन बाद मृत घोषित कर दिया।

MP के इंदौर-भोपाल समेत सभी बड़े शहर अगले दो दिन के लिए हुए LOCK : जानिए दो दिन में क्या खुलेगा

बता दें, कुछ दिनों पहले सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र सेमरिया में 17 मृतकों की सूची लगाई गई। खुलासा हुआ कि इनमें 7 जिंदा हैं। सरकारी रिकाॅर्डों में मृत घोषित करने के बाद पीड़ित परिवार के सदस्य शुक्रवार को जिला मुख्यालय में पहुंचकर मीडिया के सामने बात रखी है। ​मृतकों की सूची में शामिल किए गए जिंदा लोगों का आरोप है कि सेमरिया अस्पताल में माधव पांडेय के नेतृत्व में सूची तैयार की गई थी। स्वास्थ्य विभाग द्वारा जिम्मेदारों पर कार्रवाई नहीं की गई है।

मृत्यु प्रमाण पत्र मांगा तो बोले- कोविड का लाल कार्ड दीजिए

मृतकों की सूची में शामिल अनुज सिंह के पिता धीरेन्द्र सिंह ने बताया कि मैं एक चिकित्सक के कहने पर बेटे का ब्लड जांच कराने सेमरिया अस्पताल पहुंचा था। जहां ब्लड जांच की जगह कोरोना जांच कर ​दी। दो दिन बाद रिपोर्ट आई, तो पॉजिटिव बताकर जबरन होम आइसोलेट कर दिया। फिर 20 दिन बाद 17 मृतकों की सूची में जिंदा बेटे को मरा बता दिया। मृत्यु प्रमाण पत्र मांगने गए, तो कोविड के लाल कार्ड की मांग की।

सरकार बोली- मरीजों के साथ ब्लैकमेलिंग ठीक नहीं, जूडा ने कहा- सुप्रीम कोर्ट जाएंगे

इसी बीच, 31 मई को मृतकों की सूची सोशल मीडिया में वायरल हो गई। किसी रिश्तेदार ने मेरी माता जी से पोते के मौत की जानकारी पूछी, तो वह बेहोश हो गई। आनन-फानन में अस्पताल में भर्ती कराया। अब भी रिश्तेदारों के फोन आते हैँ। जवाब दे-देकर हम थक चुके हैं।

Powered by Blogger.