NEW DELTA PLUS VARIANT : क्या है डेल्टा प्लस वैरिएंट? जाने एक्सपर्ट इसे क्यों बता रहे कोरोना की संभावित तीसरी लहर की वजह

ख़बरों के बेहतर एक्सपीरिएंस के लिए डाउनलोड करें Rewa News Media ऐप, क्लिक करें

Covid-19 New Delta Plus Variant: क्या है डेल्टा प्लस वैरिएंट? एक्सपर्ट इसे क्यों बता रहे संभावित तीसरी लहर की वजह. दुनिया में तबाही मचाने वाला कोरोना वायरस का एक नया वैरिएंट सामने आया है. इस वैरिएंड का नाम Delta Plus है. यह कोरोना वायरस का अति संक्रामक वैरिएंट ‘Delta’ से उत्परिवर्तित होकर ‘Delta Plus’ या ‘AY1’ बन गया है. 

Bitcoin क्या है ? क्या हमें Bitcoin में पैसे निवेश करना चाहिए ?

डेल्टा प्लस प्रकार, वायरस के डेल्टा या ‘बी1.617.2’ प्रकार में उत्परिवर्तन होने से बना है जिसकी पहचान पहली बार भारत में हुई थी और यह महामारी की दूसरी लहर के लिए जिम्मेदार था. डेल्टा प्लस उस ‘मोनोक्लोनल एंटीबाडी कॉकटेल’उपचार का रोधी है जिसे हाल ही में भारत में स्वीकृति मिली है. 

हुस्न का मायाजाल : राजनेता, उद्योगपति और छात्रों ने हुस्न के मोहजाल में फंसकर गंवा दिए लाखों रुपए; लॉकडाउन में ही ऐसे 36 केस

Should India worry about the Delta Plus Variant?

अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स, नई दिल्ली) के निदेशक डॉ. रणदीप गुलेरिया ने रविवार को बताया कि वायरस का डेल्टा प्लस वैरिेएंट रूप बी1.617.2 का आक्रामक रूप है. संभव है कि यह इम्युनिटी को आसानी से धोखा दे सकता है. डॉक्टर गुलेरिया ने कहा- अगले कुछ हफ्ते अहम. डॉक्टर गुलेरिया ने बताया कि भारत में वायरस के417एन नाम के साथ एक और म्यूटेशन कर रहा है. ब्रिटेन में कोरोना का डेल्टा वैरिएंट तेजी के साथ बढ़ रहा है. विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने इसे अभी वैरिएंट ऑफ इंटरेस्ट (वीओआई) की श्रेणी में रखा है. हालांकि वायरस का यह रूप समय के साथ आक्रामक हुआ तो इसे भी वैरिएंट ऑफ कन्सर्न की श्रेणी में रखना होगा.

देश में पहली बार 50 करोड़ की लागत से इंदौर शहर में बनेगा फिश एक्वेरियम : व्हेल, शार्क, ऑक्टोपस समेत 100 से ज्यादा मछलियों की होंगी प्रजातियां

Vaccine Effective on Delta Plus Variant?

सीएसआईआर-आईजीआईबी के निदेशक अग्रवाल ने पीटीआई-भाषा से कहा, “अभी वायरस के इस प्रकार को लेकर भारत में चिंता की कोई बात नहीं है.” उन्होंने कहा कि टीके की पूरी खुराक ले चुके लोगों के रक्त प्लाज्मा से वायरस के इस प्रकार का परीक्षण करना होगा जिससे पता चलेगा कि यह रोग प्रतिरोधक क्षमता को चकमा दे पाता है या नहीं.

Powered by Blogger.