REWA : अतिथि शिक्षक घोटाले के मामले में कलेक्टर रीवा ने उठाया सख्त कदम : प्राचार्य के ऊपर अपनों को लाभ दिलाने का आरोप : हो सकती है बड़ी कार्यवाही

( ग्राउंड एमपी 17 ऋतुराज द्विवेदी की रिपोर्ट ) रीवा। कलेक्टर कार्यालय रीवा के जन सुनवाई में आज उस समय हाहाकार मच गया जब एक अतिथि शिक्षक वर्ग-2 अर्चना द्विवेदी जो कि विगत 2008 से लगातार भीर संकुल अंतर्गत पदस्थ थी उसे बिना किसी कारण के इस सत्र में प्राचार्य ने ज्वाइन नहीं करवाया। अर्चना द्विवेदी ने प्रेस को दी जानकारी में बताया कि संकुल प्राचार्य आदित्य नाथ तिवारी द्वारा अपने किसी रिश्तेदार राकेश तिवारी की नियुक्ति इस सत्र में कर दी गई है और उन्हें पद से हटा दिया गया है। 

जिला न्यायालय परिसर से चोरी और मारपीट का एक आरोपी फरार : 3 घंटे की कड़ी मशक्कत के बाद शिल्पी प्लाजा के क्लीनिक पास पकड़ा


आदित्य नाथ तिवारी प्राचार्य भीर संकुल

मध्यप्रदेश शासन स्कूल शिक्षा विभाग द्वारा इस सत्र के अतिथि शिक्षकों के लिए स्पष्ट आदेश जारी किए हैं कि पुराने शिक्षकों को प्राथमिकता के आधार पर रखा जाए उनके सहमत के आधार पर ही उन्हें हटाया जाए। किंतु शासन के नियमों को धता बताते हुए संकुल प्राचार्य भीर आदित्य नाथ तिवारी ने स्वेच्छा चारिता बरतते हूए अपने रिश्तेदार को वर्ग 2 के पद पर नियुक्त कर दिया। 

अवैध अतिक्रमण मामला : मेडिकल कॉलेज के डीन की बहुचर्चित बिल्डिंग पर निगम का हथौड़ा चलना शुरू, ढाई लाख में ​हुआ ठेका

पीड़िता श्रीमती अर्चना द्विवेदी ने कलेक्टर की जनसुनवाई में आवेदन प्रस्तुत किया जहां जिला कलेक्टर इलैया राजा टी ने कठोर कदम उठाते हुए तत्काल दूरभाष पर जिला शिक्षा अधिकारी को तत्संबंध में कार्यवाही के लिए निर्देशित किया। 

शहर की सड़कों पर अब रुट के हिसाब से दौड़ेगी ऑटो, निर्धारित रुट में ही ढोयेंगे सवारियां, चार मार्गों में मिली अनुमति : उल्लंघन करने वाले आटो चालकों पर होगी कार्यवाही

ऐसा भी माना जा रहा है कि उक्त प्राचार्य आदित्य नाथ तिवारी पर कड़ी कार्यवाही हो सकती है। फिलहाल कलेक्टर के निर्देश पर जिला शिक्षा अधिकारी के पी तिवारी ने गढ़ प्राचार्य को पूरे मामले की एक सप्ताह के भीतर जांच कर जांच प्रतिवेदन कलेक्टर को सौंपने के आदेश दिए हैं।

सहायक अध्यापक विजय तिवारी निलंबित

जिला शिक्षा अधिकारी ने शासकीय उ.मा.वि. तिवनी में पदस्थ सहायक अध्यापक विजय तिवारी को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया है। विजय तिवारी को घोर वित्तीय अनियमितता, लापरवाही व कपटपूर्ण एवं कूटरचित कार्य किये जाने का दोषी पाते हुए निलंबित कर मुख्यालय विकासखण्ड शिक्षा अधिकारी कार्यालय रायपुर कर्चुलियान नियत किया गया है।

Powered by Blogger.