REWA : अलग-अलग जरूरतमंदों को चिकित्सक डॉ राकेश पटेल व स्टाफ नर्स वंदना पांडेय ने रक्तदान कर बचाई जान

ख़बरों के बेहतर एक्सपीरिएंस के लिए डाउनलोड करें Rewa News Media ऐप, क्लिक करें

रीवा. संजय गाँधी अस्पताल में गुरुवार को दो अलग-अलग जरूरतमंदों को मेडिसिन विभाग में पदस्थ चिकित्सक डॉ राकेश पटेल व स्टाफ नर्स वंदना पांडेय ने रक्तदान कर जान बचाई है। चिकित्सक ने एनीमिया से पीडि़त महिला मुन्नीबाई को रक्तदान किया है। और स्टाफ नर्स ने तीन साल के बच्चे को रक्तदान कर जान बचाई है। दोनों रक्तवीरों ने स्वास्थ्य सेवाएं देने के दौरान रक्तदान कर मानवता का मिशाल पेश की है। इस दौरान रक्तवीरों को प्रयास रक्तदान सेवा संगठन की ओर से सम्मानित किया गया है।

हास्य कलाकार अविनाश तिवारी और शैलू शर्मा द्वारा अशोभनीय वीडियो बनाकर हिन्दूओ की धार्मिक भावनाओं को आहत करने का लगा आरोप : वीडियो जारी कर मांगी माफ़ी

टीच टू ईच संस्था के संस्थापक 22वां रक्तदान किया

संजय गांधी अस्पताल के मेडिसिन विभाग में पदस्थ चिकित्सक डॉ राकेश पटेल टीच टू ईच संस्था के सस्थापक भी हैं। उन्होंने पीडि़त महिला को रक्तदान कर जान बचाने के साथ ही 22वां रक्तदान किया है। इसी तरह संजय गांधी स्मृति चिकित्सालय में पदस्थ स्टाफ नर्स वन्दना पाण्डेय ने थैलेसीमिया से पीडि़त 3 साल के बच्चे को रक्तदान कर जान बचाई है। वंदना के पति समाजसेवी जयकृष्ण पाण्डेय ने कहा रक्तदान मानवीयता का सर्वोत्तम उदाहरण है।

संदिग्ध हालत में महिला के साथ पकड़ा गया था युवक, सुबह पेड़ में लटकता मिला शव : जांच में जुटी पुलिस

चिकित्सक. स्टाफ नर्स ने रक्तदान की

कोरोना की वैश्विक महामारी हो या सामान्य स्थिति, स्वास्थ्य कर्मी मरीज़ों के जीवन रक्षा के लिए अपनी जान जोखिम में डाल कर सेवा करते हैं। मेडिसिन के वरिष्ठ चिकित्सक सहित स्टाफ नर्स ने सेवा के साथ ही मरीजों की जिंदगी बचाने के लिए रक्तदान कर मिशाल पेश की है। बताया गया कि जीएमएच में तीन साल का आदर्श उपाध्याय निवासी हनुमना को ओ-पॉजीटिव रक्त की आवश्यकता थी। अस्पताल में पदस्थ स्टाफ नर्स वन्दना पाण्डेय ने 1 यूनिट रक्तदान कर मासूम बच्चे को नई जिन्दगी देने का पुनीत कार्य किया गया है।

Powered by Blogger.