REWA : हास्य कलाकार अविनाश तिवारी और शैलू शर्मा द्वारा अशोभनीय वीडियो बनाकर हिन्दूओ की धार्मिक भावनाओं को आहत करने का लगा आरोप : वीडियो जारी कर मांगी माफ़ी

ख़बरों के बेहतर एक्सपीरिएंस के लिए डाउनलोड करें Rewa News Media ऐप, क्लिक करें

( ग्राउंड एमपी 17 ऋतुराज द्विवेदी की रिपोर्ट ) रीवा. विंध्य के जाने माने हास्य कलाकार अविनाश तिवारी पर धार्मिक भावनाओं को आहत करने का आरोप लगा है. एक विवादित वीडियो की वजह से जिस जनता ने अविनाश को शिखर पर बैठाया आज वही जनता और सामाजिक संगठन कलाकार के विरोध में उतर आई है. सीधी जिले के निवासी अविनाश तिवारी खुद को सुपरस्टार कहते हैं और उसी स्वघोषित सुपरस्टार के खिलाफ सैकड़ों पोस्ट सोशल मीडिया में हो रहें हैं.

संदिग्ध हालत में महिला के साथ पकड़ा गया था युवक, सुबह पेड़ में लटकता मिला शव : जांच में जुटी पुलिस

जनता ने चुना तो जनता ने गिराया : दरअसल, अविनाश तिवारी एक हास्य कलाकार के तौर पर जाने जाते हैं. उन्होंने हास्य के क्षेत्र में बघेली को बढ़ावा दिया. बघेली भाषा में उन्होंने कई हास्यात्मक वीडियो बनाएं उन्हें सोशल मीडिया में अपलोड किए और जनता ने उन्हें शिखर पर बैठा लिया. लेकिन हास्य कलाकार बघेली भाषा में वीडियो बनाते बनाते ये तक भूल गए कि धार्मिक भावनाओं से खिलवाड़ नहीं करना चाहिए. यही जनता आपको शिखर से जमीन पर ला पटकती है. इसका ताजा उदाहरण अविनाश तिवारी पर देखा जा सकता है. अविनाश के खिलाफ कई संगठन और आम जनता विरोध करती दिख रही है. 

रीवा शहर की युवती से फेसबुक में दोस्ती करना महंगा, ब्लैकमेल करने वाला आरोपी यूपी के कुशीनगर से गिरफ्तार

यह है पूरा मामला :  कलाकार अविनाश तिवारी का एक वीडियो वायरल हो रहा है, जिसमें वे महादेव के वेशभूषा में है और शैलू नामक कलाकार को पार्वती के रूप में दिखाया गया है. इस वीडियो पर द्वय कलाकारों द्वारा बॉलीवुड के रोमांटिक गाने के बोल डाल दिए गए. उन पर इस वीडियो में धार्मिक भावनाओं एवं हिन्दू धर्म के देवी देवताओं का मजाक उड़ाने का आरोप लगाया गया है और इसी वीडियो का विरोध किया जा रहा है. 

रीवा शहर की युवती से फेसबुक में दोस्ती करना महंगा, ब्लैकमेल करने वाला आरोपी यूपी के कुशीनगर से गिरफ्तार

फिल्मी गाने पर शंकर पार्वती नृत्य के वीडियो पर बजरंग सेना ने जताई आपत्ति : बजरंग सेना रीवा के संगठन मंत्री लवकुश त्रिपाठी ने वीडियो को लेकर आपत्ति दर्ज कराते हुए कहा है कि 'भगवान भोलेनाथ का वेश धारण कर उनकी गरिमा का हनन करना आस्था के खिलाफ है जिस तरह से इंस्टाग्राम में शिव पार्वती का रूप बनाकर रोमांटिक टच देना और लाइव में आकर गप्प मारना हमारी मान्यताओं के साथ छेड़छाड़ है. अविनाश और शैलू मिलकर लगातार बघेली संस्कृति के साथ मजाक करते है. तमाम सामाजिक संगठन और बजरंग सेना इस तरह की अमार्यदित अभद्र नकारात्मक छवि के खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई की मांग करती है. इन्हें सामाजिक रूप से सामने आ करके माफी मांगनी चाहिए और भविष्य में इस तरह की गलती ना करने का आश्वासन देना चाहिए.

फेसबुक में लोगों ने दी अलग अलग प्रतिक्रिया 


निपनिया गोलीकांड खुलासा : ईद-उल-अजहा की नमाज पढ़ने मस्जिद जाते समय तीन आरोपी गिरफ्तार, डंडा और कट्टा बरामद कर न्यायिक अभिरक्षा में जेल भेजा

"अविनाश तिवारी माफी मांगो" : बघेली की सेवा नही बल्कि खुद का धंधा चलाने वाले स्वघोषित सुपरस्टार अविनाश तिवारी जब जनता के बीच से अपने गलत कारनामों और चरित्र की वजह से गायब होने लगे तो भगवान का भेष धारण कर रोमांस दिखाने लगे. भगवान भोलेनाथ अविनाश तिवारी और अधकटी ब्लाउस पहनकर माता पार्वती बनी शैलू शर्मा सोशल मीडिया में लाइव आकर गप्प मारते है और इंस्टाग्राम पर फिल्मी रील बनाकर सनातन संस्कृति में गंदगी घोलने का काम कर रहे है. बजरंग सेना इसका खुला विरोध करती है ये वीडियो हटाकर तुरंत सार्वजनिक माफी मांगे नही तो हम सड़कों पर उतरेगे और इसका सामूहिक बहिष्कार करेगे.

सोशल मीडिया पर पोस्ट वायरल 

              

संगठन ने पुलिस उप महानिरीक्षक को सौंपा ज्ञापन 

अविनाश तिवारी और शैलू शर्मा द्वारा भगवान भोलेनाथ और माता पार्वती का अशोभनीय वीडियो बनाकर हिन्दूओ की धार्मिक भावनाओं को आहत किया गया, जिसके सम्बन्ध में आज चैतन्य कुमार मिश्रा ,अमित द्विवेदी, राहुल तिवारी,अभिषेक तिवारी समेत पुलिस उप महानिरीक्षक को ज्ञापन दिया गया और मांग की गई कि मामले को संज्ञान में लेकर त्वरित कानूनी कार्यवाही की जाए। अविनाश तिवारी को चेतावनी दी जाती है कि तुरन्त सार्वजनिक मांफी मांगे अन्यथा हमारे द्वारा सड़क पर उतरकर पुतला दहन किया जाएगा।

अजब प्रेम की गजब कहानी / प्रेमी को लेकर भाग गई प्रेमिका परिजन पहुंचे थाने

वीडियो जारी कर अविनाश ने मांगी माफ़ी

  :  

वीडियो का जबरदस्त विरोध होने के बाद अविनाश ने माफ़ी मांगने का पोस्ट सोशल मीडिया में डाला है. उन्होंने कहा है कि उस गाने में कोई बुराई नहीं थी, न ही वह अश्लील था. मैनेजर द्वारा इंस्टाग्राम में रील डाल दिया गया था. बावजूद इसके मैं इस कृत्य के लिए माफ़ी माँगता हूँ और आगे से ऐसा न करने का वचन देता हूँ. 

धार्मिक भावना को ठेस पहुंचाना हमारा उद्देश्य नहीं था

Powered by Blogger.