REWA : मां के सामने घर से खेलने निकला था मासूम, शव देख परिजनों के उड़े होश : परिजन मान रहे हत्या तो पुलिस बता रही हादसा

रीवा। खेल-खेल में एक किशोर की जल समाधि का मामला सामने आया है। बताया गया कि बुधवार की शाम 4 बजे मां खेत चली गई और किशोर खेलने निकल गया। देर शाम जब मां लौटी तो बेटा घर से गायब था। उसने काफी तलाश की फिर भी बेटा नहीं मिला। लापता बेटे की याद में मां पूरी रात परेशान रही। फिर गुरुवार की अल सुबह से ही बेटे को खोजने लगी। तभी किसी ग्रामीण ने मुरम खदान में एक शव तैरने की जानकारी दी है। आनन फानन में परिजन भागकर खदान के पास पहुंचे।

शहर की सड़कों पर अब रुट के हिसाब से दौड़ेगी ऑटो, निर्धारित रुट में ही ढोयेंगे सवारियां, चार मार्गों में मिली अनुमति : उल्लंघन करने वाले आटो चालकों पर होगी कार्यवाही

जहां पर शव देखते ही घर वालों के होश उड़ गए। तुरंत मामले की सूचना पुलिस को दी गई। जानकारी के बाद पहुंची पुलिस ने ग्रामीणों के विरोध को देखते हुए वरिष्ठ अधिकारियों को पूरे मामले से अवगत कराया। ऐसे में एफएसएल यूनिट और डॉग स्क्वायड टीम को जांच के लिए बुलाया गया। जिन्होंने मौका मुआयना कर घटना के साक्ष्य जुटाए है। ये मामला नईगढ़ी थाना अंतर्गत माडौ गांव का है।

घर व दुकानों में डकैती की योजना बना रहे 5 बदमाश गिरफ्तार : डकैती से पहले पहुंची पुलिस

नईगढ़ी थाना प्रभारी निरीक्षक ओपी तिवारी ने बताया कि अनुराग जायसवाल पिता राजकुमार जायसवाल (10) निवासी माडौ बुधवार की शाम 4 बजे मां के सामने घर से खेलने निकला था। उसके जाने के बाद मां खेत चली गई। जो देर शाम घर लौटी तो अनुराग गायब था। आस पड़ोस के लोगों से पूछताछ की तो किसी ने अनुराग के बारे में कुछ नहीं बताया। पूरी रात मां बेटे की तलाश में परेशान रही। फिर भी सफलता नहीं मिली।

सुबह अवैध मुरम खदान में मिला शव

पुलिस ने बताया कि गुरुवार की सुबह 7 बजे घर से कुछ दूर ग्रामीणों ने किसी जायसवाल की मुरम खदान में एक शव तैरते देखा। ऐसे में घर के सदस्य पहुंचकर ​किशोर की शिनाख्त अनुराग के रूप में की। फिर ग्रामीणों ने पुलिस को सूचना देकर किशोर के शव को बाहर निकाला। जहां शव को देखने के बाद परिजनों ने पूरे मामले को संदिग्ध माना। ऐसे में नईगढ़ी निरीक्षक ओपी तिवारी ने वरिष्ठ अधिकारियों को अवगत कराते हुए एफएसएल यूनिट और डॉग स्क्वायड टीम को मौके पर बुलाया। फारेंसिक टीम ने घटनास्थल का निरीक्षण कर अहम सुराग जुटाए है।

कीड़ों के काटने का निशान

वरिष्ठ वैज्ञानिक अधिकारी डॉ. आरपी शुक्ला ने बताया कि एफएसएल यूनिट ने विभिन्न बिंदुओं को देखते हुए मौका मुआयना किया है। साथ ही शव की जांच में पाया है कि असल में वह चोंट के निशान नहीं है। दावा है कि किशोर खदान में गिरकर डूब गया था। जिसके बाद बावड़ी के अंदर मौजूद कीड़ो ने नाक, कान और आंखो को नोंच लिए थे। जिससे वहीं रक्त बहकर सिर की ओर जमा था। ऐसे में परिजन हत्या की आशंका जता रहे थे।

100 फिट लंबी व 50 फिट चौड़ी खदान

जिस खदान में हादसा हुआ है वह करीब 100 फिट लंबी व 50 फिट चौड़ी थी। जिसकी गहराई करीब 10 फिट थी। जहां खदान के एक छोर में 6 फिट का पानी भरा था। जबकि दूसरा छोर खाली था। कयास लगाए जा रहे है कि धोखे से अनुराग का पैर फिसल गया होगा और वह डूब गया। वहीं नईगढ़ी थाना प्रभारी ने कहा है कि पीएम के बाद शव परिजनों को सौंप दिया गया है। अब पीएम रिपोर्ट आने के बाद असली वजह सामने आएगी।

Powered by Blogger.