REWA : अतिक्रमण का मामला : कलेक्टर का आदेश नहीं मान रहे सिरमौर तहसीलदार, साहब मुझे अपनी जमीन पर जोतने और बोनी के लिए सुरक्षा दिलाइए

ख़बरों के बेहतर एक्सपीरिएंस के लिए डाउनलोड करें Rewa News Media ऐप, क्लिक करें

रीवा. कलेक्टर कार्यालय में मंगलवार को फरियादियों की लंबी कतार लगी। ज्यादातर मामले राजस्व, पंचायत समेत अन्य विभागों के रहे। अफसरों ने आवेदनों की सुनवाई कर न्याय दिलाने का दिलासा दिलाया है। इस दौरान सिरमौर तहसील के बगढ़ा दुबे गांव के राकेश तिवारी ने ज्वाइंट कलेक्टर एएन झा को आवेदन देकर कहा सिरमौर तहसीलदार कलेक्टर साहब का आदेश नहीं मानते हैं। कई बार आवेदन दे चुके हैं।

गाड़ी सर्विस एवं वर्कशॉप की दुकान खोलकर गंदगी करने वालों को कलेक्टर ने लगाई फटकार, बोले दोबारा दिखी गंदगी तो कटेगा चालान

जबरिया जमीन पर ट्रैक्टर से बुआई नहीं करने दे रहे हैं

इसके बावजूद निजी भूमि पर जोताई बुआई नहीं कर पा रहे हैं। साहब मुझे अपनी जमीन पर जोतने और बोनी के लिए सुरक्षा दिलाइए। सरहंग तहसीलदार से मिलकर कर जबरिया जमीन पर ट्रैक्टर से बुआई नहीं करने दे रहे हैं। इससे पहले लाठी-डंडे पिटाई कर चुके हैं। मामले में आवेदनों की सुनवाई कर रहे ज्वाइंट कलेक्टर ने संबंधित क्षेत्र के एसडीएम को आवेदन मार्क कर दिया है।

गाड़ी सर्विस एवं वर्कशॉप की दुकान खोलकर गंदगी करने वालों को कलेक्टर ने लगाई फटकार, बोले दोबारा दिखी गंदगी तो कटेगा चालान

साहब पुरखों के समय से मरघट की जमीन आरक्षित

जिले के नईगढ़ी नगर पंचायत एरिया में मरघट की जमीन पर अतिक्रमण कर लिया गया। जिससे दाहसंस्कार के लिए संकट खड़ा हो गया है। आवेदको ने ज्वाइंट कलेक्टर को आवेदन देकर बताया कि 100 साल से पूर्वज दाहसंस्कार करते आ रहे हैं। अब जमीन पर अतिक्रमण कर लिया गया है। ऐसे में गरीब परिवारों के सामने दाहसंस्कार के लिए संकट खड़ा हो गया है। नगर पंचायत के कमलेश कोल, सुखदेव, दिनेश, जयलाल, नंदलाल, रविशंकर, मुन्ना समेत सैकड़ो की संख्या में गरीब परिवारों ने कहा कि पुरखों के जमाने से मरघट के लिए आरक्षित भूमि पर अतिक्रमण कर लिया गया। गरीबों ने आवेदन देकर जमीन कब्जा करने वालों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है।

प्रतिदिन बढ़ रहा अपराध का ग्राफ : फिर बदमाशों ने बीएड कॉलेज से लौट रही महिला को गिराया फिर झपट्टा मार छीना बैग

माता-पिता की दुर्घटना में हो गई मौत, बच्चों के सामने आर्थिक संकट

रायपुर कर्चुलियान क्षेत्र के ग्राम जोगिनिहाई बस्ती में नन्हें कोल और बुटान कोल की करीब दो साल पहले सडक़ दुर्घटना में मौत हो गई। जिससे चार बेटियां व एक बेटा, कुल मिलाकर पांच छोटे-छोटे बच्चे मामा बसंत कोल के भरोसे जिंदगी काट रहे हैं। कोरोना काल में परिवार की आर्थिक संकट बिगड़ गई। जिससे मामा बसंत कोल मंगलवार को भांजे व भांजियों को लेकर कलेक्टर कार्यालय पहुंचा। बसंत को बताया गया कि कलेक्टर साहब ऐसे परिवारों की मदद कर रहे हैं।



Powered by Blogger.