कई जिलों में बाढ़ के हालात ख़राब : कोटा सहित कई जिलों में बाढ़ की स्थिति बेकाबू

ख़बरों के बेहतर एक्सपीरिएंस के लिए डाउनलोड करें Rewa News Media ऐप, क्लिक करें

भारी बारिश के चलते राजस्थान के कई जिलों में बाढ़ के हालात पैदा हो गए हैं। हाड़ौती, बारां, कोटा सहित कई जिलों में बाढ़ की स्थिति बेकाबू होती जा रही है। इन हालातों से निपटने के लिए राज्य की गहलोत सरकार ने सेना की मदद मांगी है। भारतीय सेना ने तुरंत मदद देते हुए यहां 100 से ज्यादा जवान भेज दिए हैं। इन जवानों ने शुक्रवार की देर रात राहत और बचाव कार्य शुरू कर दिया है। सेना सबसे पहले डोडिया मोहल्ले में फंसे 20 से ज्यादा लोगों को बचाने में जुटी हुई है।

पीएम मोदी ने किया अन्न उत्सव का शुभारंभ : बोले; बाढ़ के संकट में पूरा देश मध्यप्रदेश के साथ

राजस्थान में पिछले 7 दिनों से लगातार बारिश हो रही है। इस वजह से प्रदेश के कोटा, बारां, बूंदी और झालावाड़ जिलों में नदियों का जलस्तर बढ़ता जा रहा है।

अब विश्व के लिए बड़ा खतरा बन रही है गर्मी : 2018 में भीषण गर्मी के कारण भारत और चीन में 65 वर्ष से अधिक उम्र के तीन लाख लोगों की मौत : पढ़िए

रेस्क्यू ऑपरेशन शुरू

राहत और बचाव कार्य में जुटे जवानों की मदद के लिए स्थानीय लोग भी आगे आए हैं। सबसे पहले जवानों ने नाव के जरिए डोडिया मोहल्ले में फंसे 20 से ज्यादा लोगों का रेस्क्यू करने का ऑपरेशन शुरू किया है। वहीं सांगोद कस्बे के मुख्य बाजार में 6 से 7 फीट पानी है और कई जगहों पर 8 से 9 फीट पानी है। सेना के आने पर लोगों की हिम्मत बंधी है और कस्बे के लोग ऊंचाई वाले स्थानों पर चले गए हैं।

डिजिटल लेनदेन वाले पढ़ लीजिये ये जरुरी खबर : अगर आप PAYTM, PHONE PE, GOOGLE PE यूज़ कर रहें है तो इस फर्जी मैसेज से रहिये सावधान

भीमसागर के गेट खुलने से बाढ़ जैसे हालात

लोगों का कहना है कि झालावाड़ जिले में उजाड़ नदी पर बने भीमसागर डैम के पांच गेट खोले गए हैं और इससे 30000 क्यूसेक से ज्यादा पानी की निकासी हुई है। यही पानी बाढ़ की वजह बना है। सांगोद कस्बे में भी यह बाढ़ उजाड़ नदी में उफान के कारण ही आई है। लोगों ने बताया कि नदी में पानी इतनी तेजी से आया कि 3 घंटे में कई फीट पानी भराव हो गया।

देश की सबसे बड़ी डिजिटल पेमेंट कंपनी PAYTM देने जा रही रही बीस हजार अंडरग्रेजुएट्स को नौकरी : क्या काम करना होगा : पढ़िए पूरी खबर

70 से 80 हजार लोग फंसे

बाढ़ के कारण 70 से 80 हजार की आबादी का कस्बा टापू बन गया है। यहां पानी इतनी तेजी से आया कि लोगों को संभलने तक का मौका नहीं मिला। देखते ही देखते 3 घंटे में कई फीट पानी भराव हो गया। उजाड़ नदी की कोटा रोड की पुलिया पर करीब 25 से 30 फीट पानी की चादर चल रही है। बाढ़ के कारण दुकानों में पानी भर जाने से कस्बे के व्यापारियों को बड़ा भारी नुकसान होने की संभावना है। लोग बाढ़ के पानी का उतरने का इंतजार कर रहे हैं। कई लोग छतों पर रात गुजार रहे हैं।

Powered by Blogger.