INDORE ZOO : दो सप्ताह में बाद आएगा 18 फीट लंबा दुनिया का सबसे जहरीला सांप KING COBRA, इसे देखने दर्शकों के लिए बढ़ेगी ललक

ख़बरों के बेहतर एक्सपीरिएंस के लिए डाउनलोड करें Rewa News Media ऐप, क्लिक करें

इंदौर प्राणी संग्रहालय में जल्द एक और नया सदस्य आने वाला है। कर्नाटक के जंगल में पाए जाने वाला दुनिया का सबसे घातक सांप किंग कोबरा इंदौर के रूम में लाया जाएगा। 2 सप्ताह में कर्नाटक से इस सांप को लेकर इंदौर जू लाया जा सकता है।

नीमच में तालिबानियों की तरह बर्बर मामला : मामूली बात पर आदिवासी को जमकर पीटा, फिर पिकअप से बांधकर 100 मीटर तक घसीटा; गंभीर हालत में अस्पताल में तोडा दम : 5 आरोपियों गिरफ्तार

डॉक्टर उत्तम यादव के मुताबिक वर्तमान में 17 प्रजाति के 40 से अधिक सांप जू में दर्शकों के लिए हैं। आने वाले दिनों में किंग कोबरा को लाने से दर्शकों में और भी रोमांच होगा और इसे देखने की ललक बढ़ेगी। आमतौर पर इसकी लंबाई 18 फीट होती है। यह आक्रमण के समय जमीन से 5 फीट ऊपर तक उठ जाता। अगर यह किसी को डंसता है तो 15 मिनट में ही उसकी मृत्यु हो जाती है। कुछ दिनों पहले नंदनकानन वन से ब्लैकधारी वाला टाइगर यहां लाया गया था, जिसे दर्शकों में खासी लोकप्रियता मिली हुई है। नए बाड़े में व्हाइट टाइगर और उनका परिवार शिफ्ट किया जा चुका है। मछली घर के लिए भी तमाम तैयारियां चल रही है

पति की प्रताड़ना से तंग आकर खुदकुशी : लव मैरिज शादी बाद 4 टेक्स्ट मैसेज कर युवती ने बयां किया अपना दर्द, शादी के पहले ही बहाना ढूंढा, मेरा यूज किया

शार्क और व्हेल के लिए तैयार हो रहा है फिश एक्वेरियम

तीन माह पूर्व ही इंदौर जू में और व्हेल मछली को लाने के लिए एक प्रोजेक्ट की शुरुआत हुई थी, जो निरंतर जारी है, जिसमें 50 करोड़ की लागत से डेढ़ एकड़ में ऐसा फिश एक्वेरियम बनाया जा रहा है। यहां शार्क से लेकर व्हेल, ऑक्टोपस, जापान की मछलियों के साथ-साथ 100 से ज्यादा प्रजातियों की डेढ़ से दो हजार मछलियां एक्वेरियम में रहेंगी। एक्वेरियम बनाने से पहले देश के चुनिंदा एक्सपर्ट से इंदौर की टीम का सतत सम्पर्क जारी है, जो तमाम इंतजाम से लेकर डिजाइन तक फाइनल करेगी। अब तक देश में ऐसा कोई जू नहीं है, जहां एक्वेरियम में शार्क और व्हेल रखी गई हों।

इंस्टाग्राम पर दोस्ती कर 9वीं कक्षा की 15 वर्षीय छात्रा के साथ दो युवकों ने किया दुष्कर्म : ब्लैकमेल कर घर के सामने बगीचे में बुलाकर करते थे दरिंदगी

45 दिन में जू में तैयार होगा समुद्री पानी

यादव के मुताबिक, इस एक्वेरियम में रखी जाने वाली सभी मछलियां समुद्री पानी में ही अपना जीवन यापन करती हैं। एक्वेरियम में एक्सपर्ट की मदद से समुद्र जैसा खारा पानी तैयार किया जाएगा। एक्वेरियम और उसके पानी के लिए कुछ अनोखे प्रबंध किए जाएंगे, ताकि मछलियों को वहां समुद्री एहसास हो सके। इसके लिए आधा शुद्ध पानी रहेगा और आधा समुद्री पानी मिलाया जाएगा। इसके लिए कुछ स्थानों पर पानी के टैंक बनाए जाएंगे।

Powered by Blogger.