MP : पकड़े गए लुटेरों का पुलिस ने निकाला जुलूस : धूम फिल्म की तर्ज पर लूट के बाद बाइक से हो जाते थे फरार, अलग-अलग थानों में दर्ज है कई अपराध

इंदौर शहर में लूट की वारदातों को अंजाम देने वाले बाइकर्स को आखिरकार पुलिस ने पकड़ लिया है। धूम फिल्म की तर्ज पर लूट के बाद बाइक से फरार होने वाले आरोपियों को पकड़ने के लिए भी पुलिस को उसी रणनीति पर काम करना पड़ा। पुलिस ने बाइकर्स की एक टीम बनाकर अलग-अलग स्थानों पर तैनात किया। गुरुवार को जैसे ही लूट की सूचना मिली तो पुलिस की बाइकर्स टीम ने एक किलोमीटर तक पीछा करके चार लुटेरों को पकड़ लिया।

फेसबुक से युवती की फोटो निकालकर आरोपी ने एडिट कर फिर अश्लील फोटो बनाकर कर दी वायरल : तमाम रिश्तेदारों व परिजनों को भी भेज दी फोटो

इंदौर शहर में लगातार कई इलाकों में मोबाइल लूट की घटना करने वाले मिसचिविस बाइकर्स (शरारती बाइकर्स) को विजय नगर पुलिस द्वारा गिरफ्तार किया गया है। गिरफ्तार किए गए आरोपियों के पास से दर्जनभर मोबाइल सहित दो बाइक बरामद हुई है। आरोपियों ने शहर के अलग-अलग इलाकों में कई घटनाओं को अंजाम दिया था। घटना के बाद यह इतनी तेजी से बाइक लेकर भागते थे कि सड़कों पर दिखाई नहीं देते थे।आरोपी नशा करने के लिए मोबाइल लूटते थे और उसे तुरंत किसी भी दुकान पर बेचकर ब्राउन शुगर, गांजा जैसे मादक पदार्थ खरीद कर नशा करते थे। आरोपियों पर इंदौर के अलग-अलग थानों में कई अपराध दर्ज है।

फ्री फायर गेम की ऐसी लत की पिता के खाते से उड़ा डालें 19 दिन में 90 हजार : फिर कोचिंग जाने के बहाने 20 हजार रुपए लेकर घर से भागा

थाना प्रभारी तहजीब काजी के अनुसार आईजी हरिनारायण चारी व डीआईजी मनीष कपूरिया के निर्देश पर बाइकर्स को पकड़ने के लिए थाने की एक खुफिया टीम तैयार की थी। सभी जवानों को पल्सर 180 cc गाड़ियों पर गश्त करने के लिए कहा था। इससे कि वारदात के बाद जैसे ही आरोपी की सूचना मिले तुरंत टीम बाइक से इनका पीछा कर आरोपियों को पकड़ सके। विजय नगर थाने की टीम में कुलदीप गरकल, अजय प्रताप, रामपाल यादव, निलेश व धर्मेंद्र शर्मा को देर रात शहर के कई इलाकों में सक्रिय किया गया और जैसे ही कोई सूचना मिलती थी सभी जवान अलग-अलग रास्तों से आरोपियों को पकड़ने में लग जाते थे।

ये हैं गिरफ्तार हुए लुटेरे

थाना प्रभारी तहजीब काजी के अनुसार पकड़े गए आरोपियों के नाम लोकेश पुत्र तुलसीराम (20), रोहित पुत्र रामप्रसाद भदौरिया (18), राज पुत्र दिलीप रघुवंशी (21) व शुभम पुत्र ओमप्रकाश (21) हैं।

कमजोर दिखने वाले को बनाते थे शिकार

लूट की वारदात करने वाले आरोपियों ने पुलिस को बताया कि लूट करने से पहले वह ऐसे व्यक्ति को देखते थे जो कि कमजोर हो या ऐसी लड़की जो दुबली हो वह ज्यादा दूर भाग न सके। जैसे ही उनका शिकार सड़क पर दिखता पीछे से बाइक सवार बदमाश आते और मोबाइल छीन कर तुरंत सुनसान इलाके की ओर भागते हुए उसके बाद हाईवे पकड़कर रफू-चक्कर हो जाते हैं।

जहां लूट की वहीं लगवाई उठक-बैठक


Powered by Blogger.