MP : ईमानदार उपभोक्ताओं से खुली लूट : सरकार लगा रही चूना; हर माह करीब 950 शिकायतें हो रही दर्ज

प्रदेश में बिजली कंपनियों द्वारा मनमाने बिजली बिल दिए जाने की शिकायतों की मानो बाढ़ सी आ गई है. यहां तक कि प्रदेश की राजधानी भोपाल (rajdhani bhopal ) में भी हर दिन ऐसी दर्जनों शिकायतें हो रहीं हैं. राजधानी में पिछले 6 माह में मीटर रीडिंग में गफलत, मीटर जलने या खराब होने की 5760 शिकायतें प्राप्त हो चुकी हैं. इस तरह हर माह करीब 950 उपभोक्ता शिकायत दर्ज करा रहे हैं. इनमें मीटर जलने या खराब होने की शिकायतें नाममात्र की ही हैं.

Weather update : आगामी दो दिन ठिठुरन भरी ठंड से मिलेगी राहत : जानिए क्या कहते है वरिष्ठ कृषि मौसम वैज्ञानिक

राजधानी (rajdhani bhopal ) में बिजली उपभोक्ता मनमाने बिलों से इतने त्रस्त हैं कि इस संबंध में उर्जा मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर तक को शिकायत की गई है. बार—बार और लगातार शिकायतें आने के बाद मंत्री ने बिजली कंपनियों के अफसरों को बिजली उपभोक्ताओं को खासतौर पर वास्तविक रीडिंग के ही बिल दिए जाने की हिदायत दी है. 

Job job !! मुख्यमंत्री राशन आपके द्वार’ में निकली वैकेंसी : 21 से 45 साल के होंगे उमीदवार, 5 जनवरी अंतिम तारीख़ : ऐसे करें APPLY

दरअसल प्रदेश में फ्री और सस्ती बिजली योजनाओं से कंपनियों को खासा घाटा हो रहा है. इस घाटे की प्रतिपूर्ति घरेलू और ईमानदार उपभोक्ताओं से बिजली बिल में मनमानी राशि वसूलकर की जा रही है.

सरकारी नौकरी की चाह रखने वाले सबसे ज्यादा बेरोजगार ग्वालियर और भोपाल में : प्रदेश के 48 जिलों में 708 पदों के लिए 2 लाख से ज्यादा आवेदन

उपभोक्ताओं की शिकायतों और मंत्री के निर्देश के बाद बिजली अधिकारी मीटर रीडिंग सिस्टम को दुरुस्त करने की कवायद में जुट गए हैं. बिजली कंपनियां मीटर रीडिंग सिस्टम को 100 प्रतिशत एक्यूरेसी मोड पर लाने की तैयारी कर रहीं हैं. इसके लिए आधिकारिक रूप से ही 15 मार्च तक की समय सीमा तय की गई है. कंपनी के अधिकारियों के अनुसार इसके लिए कार्यक्षेत्र में आनेवाले एक जिले के रीडर दूसरे जिले के रीडर की मीटर रीडिंग को क्रासचैक भी करेंगे.

Powered by Blogger.