HIGH COURT : प्राइवेट कॉलेज के टीचर्स को बड़ी राहत ; सरकार ने कहा सातवें वेतनमान का लाभ देने करें विचार

मध्यप्रदेश हाईकोर्ट से MP के अनुदान प्राप्त प्राइवेट कॉलेजों के टीचर्स को बड़ी राहत मिली है। कोर्ट ने सरकार को कहा है कि ऐसे कॉलेजों के टीचर्स को सातवें वेतनमान का लाभ देने पर विचार किया जाए। जस्टिस अतुल श्रीधरन की एकलपीठ ने मप्र अशासकीय महाविद्यालयीन प्राध्यापक संघ की याचिका पर जल्द निर्णय लेने के निर्देश सरकार को दिए।

GOOD NEWS : प्रदेश में कम हुई तीसरी लहर की पीक; IIT कानपुर के प्रोफेसर राजेश रंजन का दावा : स्टडी

मप्र अशासकीय महाविद्यालयीन प्राध्यापक संघ के अध्यक्ष और जीएस कॉलेज के सहायक प्राध्यापक डॉ. ज्ञानेंद्र त्रिपाठी और डीएन जैन कॉलेज के सहायक प्राध्यापक डॉ. शैलेष कुमार जैन ने याचिका दायर की थी। कोर्ट ने सुप्रीम कोर्ट द्वारा 2014 में मप्र विरुद्ध डॉ. शारिक अली के मामले में दिए दिशा-निर्देशों और न्याय दृष्टांत के आधार पर इस आवेदन पर फैसला लेने को कहा है।

लॉ ऑफ कोट : अब न्यायालय में वकीलों के अलावा कोई भी व्यक्ति या लॉ के छात्र कोट पहनकर नहीं घूम सकेंगे

6वें वेतनमान का लाभ मिल चुका है

याचिकाकर्ताओं की ओर से कहा गया कि प्रदेश के सभी शासकीय कॉलेजों और विश्वविद्यालयों में 7वें वेतनमान का लाभ दिया जा रहा है। शासकीय की तरह अशासकीय महाविद्यालयों में भी नियुक्ति विश्वविद्यालय अधिनियम और कॉलेज कोड-28 के तहत ही नियुक्तियां होती हैं। इसके अलावा सुप्रीम कोर्ट ने 2014 अशासकीय महाविद्यालयों के प्राध्यापकों को 6वें वेतनमान का लाभ देने के आदेश दिए थे।

सीधी भर्ती में 73% आरक्षण देने का आदेश जारी : वर्गवार आरक्षण को लेकर क्या स्थिति बनेगी? जानिए नई पॉलिसी

सुप्रीम कोर्ट के आदेश का हवाला

सुप्रीम कोर्ट ने अपने आदेश में कहा था कि शासकीय अनुदान प्राप्त शिक्षकों एवं कर्मचारियों को भी सरकारी कॉलेज के टीचर्स और कर्मचारियों के समान वेतन दिया जाए। प्रदेश में शासन से अनुदान प्राप्त 75 प्राइवेट कॉलेज संचालित हैं। सरकारी कॉलेजों के समान यूजीसी वेतनमान मिल रहा है। इसके पहले 6वें वेतनमान का लाभ भी मिला है। याचिका में बताया गया कि इस संबंध में उच्च शिक्षा विभाग को आवेदन देकर मांग की गई कि सातवां यूजीसी वेतनमान दिया जाए। विभाग द्वारा कार्रवाई नहीं करने पर हाईकोर्ट की शरण लेनी पड़ी।

Powered by Blogger.