REWA : पूर्व नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह बोले, सिंधिया के गुलामों की अब कांग्रेस में जरूरत नहीं


रीवा। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता एवं पूर्व नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह ने कहा है कि पहले जो पार्टी छोड़कर गए हैं, उनकी घर वापसी का कोई विरोध नहीं है। विरोध उन नेताओं का है जिन्होंने मंच से भाषण दिया था कि जीवन भर सिंधिया की गुलामी करेंगे। अब कांग्रेस में जब सिंधिया नहीं हैं तो उनके गुलामों की क्या जरूरत है। रीवा में पत्रकारों से चर्चा करते हुए सिंह ने चौधरी राकेश सिंह चतुर्वेदी की पार्टी में वापसी को लेकर चल रहे विरोध पर यह बातें कही।

ये भी पढ़े : विधायक सकलेचा की रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव ,संपर्क में आये रीवा के 8 विधायक हुए ISOLATE 
उन्होंने कहा कि लोकसभा चुनाव में राकेश ने मंच से यह कहा था कि पूर्व की गलती से सबक सीख चुके हैं, जीवन भर सिंधिया की गुलामी करेंगे। इसलिए अब ऐसे लोग वहीं जाएं जहां पर उनके नेता चले गए हैं, वहां चाहे गुलामी करें या राज करें कांग्रेस का कोई मतलब नहीं है। सिंह ने कहा कि राकेश चौधरी के मामले में विधानसभा के सदन में की गई गद्दारी और भाजपा की टिकट पर चुनाव लडऩे का विरोध नहीं है। कांग्रेस कार्यकर्ता इन गलतियों को माफ कर सकते हैं लेकिन कोई व्यक्ति किसी एक नेता की गुलामी की बात करे तो उसकी क्या गारंटी है कि वह पार्टी के हित में काम करेगा।

ये भी पढ़े : पिता की है पान की दुकान IAS बनना चाहती हैं TOPPER प्रज्ञा, पैरेंट्स और टीचर्स को दिया क्रेडिट'
पूर्व नेता प्रतिपक्ष रीवा में कुछ समय के लिए पूर्व विधायक सुखेन्द्र सिंह बन्ना के आवास पर रुके। जहां पर पार्टी के सभी प्रमुख नेताओं से मुलाकात की। इस दौरान राज्यसभा सांसद राजमणि पटेल, पूर्व विधायक राजेन्द्र मिश्रा, जिला पंचायत अध्यक्ष अभय मिश्रा, पार्टी के जिला अध्यक्ष त्रियुगीनारायण शुक्ला, गुरमीत सिंह मंगू, डॉ. मुजीब खान, विद्यावती पटेल, रमाशंकर सिंह पटेल, गिरीश सिंह, शिवप्रसाद प्रधान, बबिता साकेत, विनोद शर्मा, नृपेन्द्र सिंह, विक्रम सिंह, राजेन्द्र सिंह, मुस्तहाक खान सहित अन्य मौजूद रहे। चीन के साथ चल रहे तनाव पर कहा कि सरकार को देश की जनता को भरोसे में लेकर काम करना चाहिए।

ये भी पढ़े : सांसद प्रज्ञा सिंह ठाकुर की अचानक बिगड़ी तबीतय ,BJP दफ्तर में बेहोश होकर गिरीं
पार्टी छोडऩे वालों की सीट संबंधित पार्टी को मिले 
कांग्रेस नेता अजय सिंह ने कहा कि पहली बार 24 की संख्या में उपचुनाव एक साथ हो रहे हैं। जिसमें 22 दलबदलुओं के चलते स्थिति बनी है। उन्होंने एक सुझाव देते हुए कहा कि उनका मानना है कि जिस दल का विधायक या सांसद पार्टी छोड़कर जाता है। उसे ही यह सीट शेष समय तक के लिए दी जानी चाहिए। क्योंकि कांग्रेस पार्टी को पांच वर्ष का लोगों ने अवसर दिया था तो मिलना चाहिए। स्वयं के चुनाव लडऩे को लेकर कहा कि छह स्थानों से लोग अटकलें लगा रहे हैं लेकिन उनकी इच्छा पार्टी के लिए चुनाव प्रचार करने की है।

ये भी पढ़े : रीवा मे LOCKDOWN 30 जून तक, नवागत कलेक्टर ने जारी किया आदेश : शर्ते लागू
बसपा-सपा वाले फिर लौटेंगे
अजय सिंह ने कहा कि राज्यसभा चुनाव में बसपा, सपा और निर्दलीय विधायक भाजपा के साथ चले गए थे। ये मनमौजी लोग हैं, हर समय के लिए समर्थन देने की गारंटी भाजपा को नहीं दी है। इसलिए उपचुनाव में कांग्रेस को जीत मिलने के बाद ये वापस लौटेंगे।


REWA NEWS MEDIA पढ़े ताजा ख़बरें, अभी Like करें और हमसे जुड़ें
रीवा, सिरमौर ,सेमरिया ,मनगवा, देवतलाब, मऊगंज ,गुढ व त्यौथर क्षेत्र की हर खबर सिर्फ  रीवा न्यूज़ मीडिया पर : VISIT NOW : www.rewanewsmedia.com

Powered by Blogger.