BHOPAL : सरकार का बड़ा फैसला, कोरोना संक्रमण के कारण इस बार 15 अगस्त को परेड नहीं


भोपाल। मध्य प्रदेश सरकार ने राज्‍य में कोरोना वायरस संक्रमण के कारण उपजे हालातों को देखते हुए विद्यार्थियों और शिक्षकों के हित में बड़ा फैसला किया है। सरकार ने निर्णय लिया है कि इस बार 15 अगस्‍त यानि स्‍वतंत्रता दिवस के अवसर पर परेड और सांस्‍कृतिक कार्यक्रम आयोजित नहीं किए जाएंगे।


मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की अध्यक्षता में बुधवार को मंत्रालय में हुई कैबिनेट बैठक में तय किया गया है कि स्कूल के बच्चों के माध्यम से होने वाले सांस्कृतिक कार्यक्रम भी इस बार नहीं होंगे।


मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान सहित मंत्रिमंडल के अन्य सदस्य भोपाल में एक जगह 15 अगस्त के कार्यक्रम में शामिल होंगे। जिला और तहसील स्तर पर अधिकारी कार्यक्रम करेंगे।


बैठक में मुख्यमंत्री ने कहा कि स्वतंत्रता दिवस 15 अगस्त के दिन समारोह सीमित व्यक्तियों की उपस्थिति के साथ मनाना आवश्यक है। सोशल डिस्टेंसिंग का ध्यान रखते हुए कार्यालयों में राष्ट्रध्वज फहराया जाए। स्वतंत्रता दिवस समारोह पूर्वक न होकर प्रतीक स्वरूप हो। इनमें पारंपरिक रूप से बच्चों को बुलाए जाने और कार्यक्रम में शामिल करने की परंपरा इस वर्ष स्थगित रखी जाए।


मुख्यमंत्री ने कहा है कि कोविड-19 को देखते हुए आर्थिक क्षेत्र की समृद्धि और अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने में सभी विभागों की महत्वपूर्ण भूमिका रहेगी। इसके लिए यह आवश्यक है कि प्रत्येक मंत्री अपने विभाग की आत्मनिर्भर मध्यप्रदेश में भूमिका के संबंध में विचार-विमर्श कर एक प्रारूप बनाएं। इस रोडेमैप के अनुसार मासिक, त्रैमासिक और छमाही लक्ष्य बनाकर कार्य किया जाए। मंत्री गण विभागीय समीक्षा भी करें। यह समीक्षा जुलाई माह में ही संपन्न की जाना है। इसके बाद भी प्रति माह समीक्षा की जाएगी। चौहान ने कहा 22 और 23 जुलाई को वे स्वयं मंत्रियों से वन-टू-वन चर्चा भी करेंगे।


मुख्यमंत्री ने मंत्रियों को विभागीय समीक्षा इसी माह करने के निर्देश दिए हैं। कैबिनेट बैठक में बताया कि अपराधिक तत्वों के विरुद्ध मुहिम जारी रहेगी। किसी भी स्थिति में दुष्कृत्य के आरोपियों को माफ नहीं किया जाएगा। इसी सिलसिले में मुख्यमंत्री ने उज्जैन में पदस्थ शासकीय सेवक आबकारी उप निरीक्षक पंकज जैन जो एक नाबालिग से दुष्कर्म के आरोपी हैं, उनकी बर्खास्तगी के निर्देश दिए।
Powered by Blogger.