REWA : शर्मसार : 75 साल के बुजुर्ग सेवानिवृत्त पुलिसकर्मी के साथ पुलिस ने की मारपीट : जानिए पूरा मामला


रीवा। शहर के विश्वविद्यालय थाना क्षेत्र के अनंतपुर में 75 साल के सेवानिवृत्त पुलिसकर्मी के साथ पुलिस ने न केवल मारपीट की बल्कि सरकारी काम में बाधा डालने का मामला भी दर्ज कर लिया। गिरफ्तार कर उन्हें कोर्ट में पेश किया जहां से जमानत मिल गई। बुजुर्ग पर लॉकडाउन में दुकान खुली रखने और डीएसबी के उपनिरीक्षक से झूमाझटकी करने का आरोप है। जिससे बुजुर्ग ने साफ इंकार किया है।


शर्मसार करने वाला यह वाकया सोमवार दोपहर का है। बताया गया है कि 75 वर्षीय रमेश सिंह घर से खाना खाकर अनंतपुर स्थित गुरु मार्केट के पास बैठे थे। वहीं बगल में इलेक्ट्रिकल की एक दुकान खुली थी। इसी दौरान मौके पर डीएसबी में पदस्थ उपनिरीक्षक सतीश मिश्रा पहुंच गए और दुकान खुली होने के बाद में पूछतांछ करने लगे। इस पर रमेश सिंह ने सवाल उठाया तो सतीश उन्हीं से भिड़ गए। लोग जब बीच बचाव के लिए आए तो विवाद बढ़ गया। सतीश की सूचना पर विश्वविद्यालय थाने से डायल 100 की टीम पहुंच गई। जिसने पहले तो बुजुर्ग से विवाद करने पर सतीश मिश्रा को ही खरी-खोटी सुनाई बाद में परिचय देने पर रमेश सिंह सहित अन्य को हिरासत में ले लिया। थाने में ले जाकर 75 वर्षीय बुजुर्ग रमेश सिंह के साथ मारपीट की गई। उनपर सरकारी काम में बाधा डालने, मारपीट, गाली-गलौज व लॉकडाउन उल्लंघन का मामला दर्ज कर गिरफ्तार कर लिया। शाम को उनको कोर्ट से जमानत मिल गई।


धौंस जमाने का है मामला
बताया गया है कि यह पूरा मामला धौंस जमाने का है। डीएसबी उपनिरीक्षक सतीश मिश्रा का घर अनंतपुर में ही है। गृह जिला होने के बाद भी उनकी पदस्थापना पहले से ही सवालों से घिरी हुई है। बताया गया है कि जिस जगह विवाद हुआ उसी के ठीक सामने उनके परिवारजनों की भी दुकानें हैं। इसी की धौंस जमाने के लिए वे वहां पहुंचे थे और कथित तौर पर दुव्र्यवहार किया। इसी का विरोध करने पर वे बुजुर्ग रमेश सिंह से भिड़े थे। विवाद बढऩे पर लॉकडाउन में खुली दुकान का फोटो लेने और वीडियो बनाने की कहानी अफसरों के सामने गढ़ी। गृह जिले में पदस्थापना की वजह से जिला पुलिस बल से हटाकर डीएसबी में भेजा गया है। 


जिसने विवाद टाला उसे ही लाइनअटैच कर दिया
विवाद बढऩे पर सतीश मिश्रा की सूचना पर डायल 100 मौके पर पहुंची थी। उस समय वे बुजुर्ग रमेश सिंह से भिड़े हुए थे। इस पर नाराजगी जताते हुए आरक्षक नागेंद्र मिश्रा ने उम्र का हवाला देकर उन्हें छोडऩे को कहा। इसपर तैश में आकर सतीश मिश्रा ने अधिकारियों को फोन लगाया और फोटो और वीडियो बनाने की कहानी बताकर आरक्षक की शिकायत की। अंतत: विवाद टालने वाले आरक्षक को ही लाइनअटैच कर दिया गया। जबकि वह सतीश मिश्रा को पहचानता तक नहीं था।


मनगढंत है मेरी दुकान खुली होने की बात : रमेश सिंह
पुलिस प्रताडऩा के शिकार रमेश सिंह ने बताया कि रिटायरमेंट के बाद उन्होंने अनंतपुर में हार्डवेयर की दुकान संचालित की है। लेकिन लॉकडाउन में उनकी दुकान खुली होने का आरोप मनगढ़ंत है। कर्मचारियों को शुक्रवार को ही छुट्टी दे दी थी और उनकी दुकान बंद थी। उनके द्वारा अभद्र व्यवहार का विरोध करने पर मारपीट की गई और मुकदमा बनाया गया। उन्होंने बताया कि उनके साथ मारपीट किए जाने के दौरान विरोध करते हुए बहसबाजी हुई थी, लेकिन पुलिस अधिकारी उनकी सुनने को तैयार नहीं थे।


उपनिरीक्षक हार्डवेयर की दुकान की फोटो खींच रहे थे जहां दुकानदार सहित अन्य लोगों ने उनके साथ मारपीट कर विवाद किया है। मामला दर्ज कर घटना की जांच की जा रही है। एक आरक्षक को लाइन अटैच कर दिया गया है।

शिवेन्द्र सिंह, सीएसपी रीवा




Powered by Blogger.