SATNA : नई प्रेमिका मिलते ही कुख्यात बबली कोल ने गुड़िया के साथ रचाया विवाह, हुई मौत : पढिये हत्या की पूरी कहानी


सतना. MP-UP की सीमा से लगे सतना-रीवा, कर्वी-बांदा जिले में आतंक का पर्याय रहे दुर्दांत दस्यु सरगना बबली कोल की रखैल का कत्ल बुधवार-गुरुवार की दरमियानी रात कर दिया गया। डकैत की रखैल पर धारदार हथियार से हमला किया गया। दुर्दांत डकैत की रखैल रही गुड़िया की हत्या के पीछे उसके नए प्रेमी का हाथ बताया जा रहा है। संदेह है कि जायजाद हथियाने के लिए गुड़िया की हत्या की गई है। कत्ल की वारदात की चश्मदीद मृतका गुड़िया की पांच साल की बेटी है। पुलिस के द्वारा प्रकरण दर्ज कर घटना की जांच शुरू कर दी गई है। 


इसी बीच गुड़िया ने ओबरा गांव में नया घर बनवा लिया जहां वह अपनी बेटी के साथ रहने लगी। बुधवार की रात गुड़िया अपनी बेटी के साथ घर पर थी। रात में घर में घुसकर गुड़िया पर धारदार हथियार से हमला किया गया। हमले में चोट की वजह से गुड़िया की मौत हो गई। घटना की जानकारी गुरुवार की सुबह मृतका गुड़िया की पांच वर्षीय बेटी के द्वारा पड़ोसियों को दी गई। पड़ोसी घर के अंदर गए जहां गुड़िया की लाश पड़ी हुई थी। सूचना पुलिस को दी गई तत्पश्चात पुलिस मौका-ए-वारदात पर जांच कर ने पहुंची।


इस संबंध में पुलिस सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक दुर्दांत सरगना बबली कोल की पत्नी बनकर रहने वाली गुड़िया उर्फ ठकुराइन उसके मारे जाने के बाद विवाह रचा लिए, जिससे विवाह रचाया उसकी भी मौत हो गई। इसके बाद गुड़िया रीवा जिले के सेमरिया थाना अन्तर्गत डाढ़ गांव में अपनी पांच वर्ष बेटी के साथ रहने लगी। इस दौरान गुड़िया का सम्पर्क अशोक बरगाही से हुआ जल्द ही दोनों नजदीक आ गए।


घटना के वक्त मौजूद थी बेटी
बताया जा रहा है कि गुड़िया की पांच साल की बेटी थी। रात में जब उसकी हत्या हुई तो बच्ची घर में ही मौजूद थी। लेकिन डर के कारण वह नहीं उठी। सुबह होने पर बच्ची ने ही आसपास के लोगों को जानकारी दी। जिसके बाद स्थानीय लोग मौके पर पहुंचे और पुलिस को बुलाया। फिलहाल पुलिस बच्ची से हत्यारों के संबंध में जानकारी जुटाने का प्रयास कर रही है।


पिछले वर्ष 15 सितम्बर 2019 को धारकुंडी थाना अन्तर्गत सतना एसपी रियाज इकबाल की अगुवाई में पुलिस ने डकैत बबली कोल और उसके साले लवलेश कोल को एनकाउंटर में मार गिराया। बबली के मारे जाने के एक माह बाद ही गुड़िया ने रीवा जिले के कोतवाली थाना अन्तर्गत रहने वाले अनिल सिंह बरगाही से विवाह रचा लिया। विवाह के बाद अनिल की उम्र 55 वर्ष के करीब थी। विवाह के बाद गुड़िया अपने नए पति के साथ छत्तीसगढ़ के रायपुर चली गई। विवाह के एक सप्ताह के दौरान ही गुड़िया के नए पति अनिल की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई। नए पति की मौत के बाद गुड़िया डाढ़ गांव में रहने लगी। यहां रहते हुए उसकी नजदीकियां अनिल सिंह बरगाही से बढ़ीं। 

बबली के मारे जाने के बाद रचाया था विवाह
गुड़िया उर्फ ठकुराइन का सम्पर्क बबली से तकरीबन दस साल पहले रहा। जल्द ही दोनों नजदीक आ गए। नई-नई प्रेमिका बनाने के लिए कुख्यात बबली कोल ने गुड़िया के साथ कथित रूप से विवाह रचा लिया और उसे पत्नी बनाकर रख लिया। जंगल में सक्रिय रहने के दौरान बबली को कथित पत्नी गुड़िया के द्वारा प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से सहयोग किया जाता रहा। बबली की मदद करने के आरोप में गुड़िया को गांजा की खेप के साथ पकड़कर पुलिस ने जेल भेजा था।

हत्या की वजह संपत्ति विवाद 
प्रारंभिक जांच में पुलिस के सामने जो तथ्य आए हैं, उसके आधार पर माना जा रहा है कि संपत्ति की लालच में गुड़िया की हत्या की गई है। बता दें कि गुड़िया के पति अनिल सिंह के पास काफी संपत्ति थी। अनिल की मौत के बाद सारी संपत्ति गुड़िया के नाम हो गई थी। इसी वजह से अशोक ने उसे अपने जाल में फंसाया था। बताते हैं कि ओबरा गांव में घर गुड़िया ने उक्त संपत्ति से अर्जित धन से ही बनवाया है। जिसे अशोक सिंह हड़पना चाहता था। शायद यही वजह होगी कि अशोक ने उसकी हत्या कर दी। हालांकि अभी यह पूरी तरह से स्पष्ट नहीं हो पाया है। पुलिस इस ओर जांच कर रही है।


Powered by Blogger.