REWA : मीडिया में प्रकाशित खबरों के बाद दुष्कर्म के आरोप को राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग ने लिया संज्ञान : DIG स्तर के अधिकारी से जांच के निर्देश



रीवा। जिले के मनगवां थाने के लॉकअप में हत्या की आरोपी महिला कैदी के साथ पांच पुलिसकर्मियों के गैंगरेप के मामले में राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग ने संज्ञान लिया है। आयोग ने प्रदेश के मुख्य सचिव, डीजीपी और डीजी जेल को नोटिस जारी किया है। आयोग ने इस पूरी घटना की जांच डीआइजी स्तर के अधिकारी से कराने के निर्देश दिए हैं। आयोग ने मीडिया की खबरों के आधार पर स्व संज्ञान लिया है।

खबर के मुताबिक महिला कैदी ने आरोप लगाया है कि बीते 9 से 20 मई 2020 तक उसे मनगवां थाने के लॉकअप में रखा गया था। जहां पर तत्कालीन एसडीओपी, थाना प्रभारी, दादा नाम का पुलिसकर्मी और दो अन्य ने थाने में ही गैंगरेप किया। उस दौरान मनिकवार चौकी की महिला एसआई को भी इस घटना की जानकारी थी, क्योंकि उसे पकड़कर थाने तक वही लाई थी और पूछताछ भी कर रही थी।

युवती के साथ 10 दिन तक बारी-बारी से थाना प्रभारी ,SDOP एवं 3 आरक्षको ने अलग-अलग समय पर किया बलात्कार

दो दिन पूर्व ही जिला अधिवक्ता संघ के अध्यक्ष राजेन्द्र पाण्डेय ने इस मामले का खुलासा मीडिया के सामने करते हुए दोषी पुलिसकर्मियों पर कार्रवाई की मांग की थी। उन्होंने कहा कि इस मामले की न्यायिक जांच भी जिला एवं सत्र न्यायाधीश ने बैठा दी है। वहीं पुलिस की ओर से आधिकारिक रूप से इस मामले में कुछ नहीं बोला जा रहा है। पुलिस की ओर से यह भी कहा जा रहा है कि उक्त युवती इसके पहले भी कई लोगों पर आरोप लगा चुकी है।

शर्मनाक : रक्षक ही बने भक्षक, SDOP समेत 3 आरक्षकों पर युवती से थाने के अंदर 8 दिनों तक गैंगरेप का लगा गंभीर आरोप

जिस तारीख के दौरान उसके साथ गैंगरेप का आरोप लगाया जा रहा है, वह घटना और गिरफ्तारी के पहले की बात कर रही है। पुलिस का कहना है कि जिस हत्या की घटना में युवती आरोपी है, वह घटना १६ मई को प्रकाश में आई थी, इसलिए उसके तर्क बेबुनियाद हैं। वहीं एसपी राकेश सिंह का कहना है कि इस संबंध में अभी जिला न्यायालय की ओर से कोई पत्र उन्हें नहीं मिला है।

पत्नी व बेटी की हत्या करके लाश को बोरी में भरकर फेकने जा रहा था तभी, बदबू आई और फिर पैरों तले से जमीन खिसक गई 

आइजी के पास शिकायत लेकर पहुंचे लोग
गैंगरेप का आरोप लगाने वाली युवती जिस महिला की हत्या के आरोप में बंद है, उसके परिजन आइजी और एसपी कार्यालय शिकायत लेकर पहुंचे थे। उनका कहना है कि वह जेल से बाहर आने के लिए षणयंत्र रच रही है। वहीं जेल से ही वह संदेश भिजवा रही है कि बाहर आएगी तो पीडि़त परिवार को नहीं छोड़ेगी। लोगों ने यह भी मांग उठाई कि जब पुलिस ही उसके चलते सुरक्षित नहीं है तो आम लोगों का क्या हाल होगा। आरोप लगाने वाली युवती पर सख्त कार्रवाई की मांग उठाई गई है।

हमारी लेटेस्ट खबरों से अपडेट्स रहने के लिए सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर भी जुड़ें:

FacebookInstagramGoogle News ,Twitter

मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ जुड़े हमसे  

Powered by Blogger.