PM मोदी ने देश को दी 'अटल टनल' की सौगात, बेहद अहम है ये सुरंग : जानिए इसकी खासियत

रोहतांग, हिमाचल प्रदेश। प्रधानमंत्री मोदी ने शनिवार को मनाली-लेह को जोड़ने वाली दुनिया की सबसे लंबी हाईवे सुरंग अटल टनल का उद्घाटन किया। सामरिक  रूप से महत्वपूर्ण सभी मौसम में खुली रहने वाली अटल सुरंग हिमाचल प्रदेश के रोहतांग में बना है। इस अटल सुरंग से मनाली और लेह के बीच की दूरी 46 किलोमीटर कम हो गई। उद्घाटन समारोह के बाद पीएम मोदी लाहौल स्पीति के सीसू और सोलांग घाटी में एक सार्वजनिक कार्यक्रम को संबोधित कर रहे हैं।

एक्शन में शिवराज ,बोले -रेप पीड़िता का FIR नहीं लिखने वाले चौकी प्रभारी होंगे गिरफ्तार : SP और SDOP को तत्काल प्रभाव से हटाने के दिए निर्देश

 अटल सुरंग दुनिया में सबसे लंबी राजमार्ग सुरंग है और 9.02 लंबी सुरंग मनाली को सालों भर लाहौल स्पीति घाटी से जोड़े रखेगी। पहले घाटी छह महीने तक भारी बर्फबारी के कारण शेष हिस्से से कटी रहती थी। सुरंग को हिमालय के पीर पंजाल की पर्वत श्रृंखलाओं के बीच अत्याधुनिक विशिष्टताओं के साथ समुद्र तल से करीब तीन हजार मीटर की ऊंचाई पर बनाया गया है।

15 अक्‍टूबर से खुलेंगे स्‍कूल, सिनेमा : पढ़िए कहा- क्या खुला : गाइडलाइन जारी

अटल सुरंग का दक्षिणी पोर्टल मनाली से 25 किलोमीटर की दूरी पर 3060 मीटर की ऊंचाई पर बना है जबकि उत्तरी पोर्टल 3071 मीटर की ऊंचाई पर लाहौल घाटी में तेलिंग, सीसू गांव के नजदीक स्थित है। घोड़े की नाल के आकार वाली दो लेन वाली सुरंग में आठ मीटर चौड़ी सड़क है और इसकी ऊंचाई 5.525 मीटर है।



हाथरस केस / पुलिस ने राहुल गांधी को किया गिरफ्तार, प्रियंका ने लगाया लाठीचार्ज का आरोप

इस सुरंग के दोनों द्वारों पर बैरियर लगे हैं। आपात स्थिति में बातचीत के लिए हर 150 मीटर पर टेलीफोन और हर 60 मीटर पर अग्निशमन यंत्र लगे हैं। घटनाओं का स्वत पता लगाने के लिए हर ढाई सौ मीटर पर सीसीटीवी कैमरा और हर एक किलोमीटर पर वायु गुणवत्ता निगरानी प्रणाली लगी है। हर 25 मीटर पर आपात निकास के संकेत है तथा पूरी सुरंग में ब्रोडकास्टिंग सिस्टम लगाया गया है। सुरंग में हर 60 मीटर की दूरी पर कैमरे भी लगाये गये हैं।

गैंगरेप पीड़ित के लिए सड़क पर कांग्रेस / पुलिस की धक्कामुक्की में राहुल जमीन पर गिरे, पूछा- क्या इस देश में सिर्फ मोदी जी ही चल सकते हैं

अटल सुरंग की डिजाइन प्रतिदिन तीन हजार कार और 1500 ट्रक के लिए तैयार की गई है, जिसमें वाहनों की अधिकतम गति 80 किलोमीटर प्रति घंटे होगी। अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार ने रोहतांग दर्रे के नीचे सामरिक रूप से महत्वपूर्ण इस सुरंग का निर्माण कराने का निर्णय किया था और सुरंग के दक्षिणी पोर्टल पर संपर्क मार्ग की आधारशिला 26 मई 2002 को रखी गई थी।

देशभर में 1 नवंबर से शुरू होंगी ग्रेजुएशन की क्लास, शिक्षा मंत्रालय ने जारी किया पूरा शेड्यूल

मोदी सरकार ने दिसम्बर 2019 में पूर्व प्रधानमंत्री के सम्मान में सुरंग का नाम अटल सुरंग रखने का निर्णय किया था, जिनका निधन पिछले वर्ष हो गया। इस सुरंग से हर रोज 3000 कार और 1500 ट्रक 80 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से आ जा सकेंगे। सुरंग में अग्नि शमन, रोशनी और निगरानी के व्यापक इंतजाम किये गए हैं।



इन पांच नियमों के चलते आज से कुछ ऐसी बदलेगी आपकी ज़िन्दगी : जेब में पड़ेगा भारी असर 

रोहतांग दर्रे के नीचे यह ऐतिहासिक सुरंग बनाने का निर्णय पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के कार्यकाल में तीन जून 2000 में लिया गया था। इसकी आधारशिला 26 मई 2002 को रखी गयी और इसके बाद से सीमा सड़क संगठन सभी प्रतिकूल परिस्थितियों के बावजूद इसे पूरा करने में जुटा था। सेरी नाला फाल्ट जोन में 587 मीटर क्षेत्र में सुरंग बनाने का काम सबसे चुनौतीपूर्ण था और इसे 15 अक्टूबर 2017 को पूरा किया गया।

UNLOCK 5 : 15 अक्टूबर से खुलेंगे सिनेमा हॉल और मल्टीप्लेक्स ,स्कूल, कोचिंग इंस्टिट्यूट्स पर होगा फैसला : 100 से अधिक लोग हो सकेंगे शामिल

प्रधानमंत्री बनने के बाद नरेन्द्र मोदी ने 2014 में निमार्ण स्थल का दौरा कर निमार्ण कार्य का जायजा लिया था। पिछले 24 दिसम्बर को पीएम मोदी की अध्यक्षता में केन्द्रीय मंत्रिमंडल ने वाजपेयी के इसमें योगदान के लिए इस सुरंग का नाम रोहतांग सुरंग के बजाय अटल सुरंग रखने को मंजूरी दी। सुरंग का 40 प्रतिशत कार्य पिछले दो सालों में पूरा किया गया है और इसके निमार्ण पर 3200 करोड़ रूपये की लागत आई है।

Powered by Blogger.