REWA : नगरीय निकाय चुनाव को लेकर सुगबुगाहट हुई तेज, कांग्रेस से इस बार युवा एवं नये चेहरा को मिल सकता है मौका

रीवा। नगरीय निकाय चुनाव की आहट के साथ ही टिकिट को लेकर जोर अजमाईस शुरू हो गई है। कांग्रेस पार्टी में टिकिट को लेकर दावेदारी भी की जा रही है।

रीवा समेत प्रदेशभर के 51 कॉलेज बंद करने की तैयारी में सरकार : देखें नाम 

सूत्रों की माने तो कांग्रेस इस बार युवा एवं नये चेहरा को मौका दे सकती है। जिसमें एडवोकेट विभूति नयन मिश्रा प्रबल दावेदारों में से एक हैं। नया चेहरा होने के साथ ही विरासत में मिली राजनीति और उनकी शिक्षा-दिक्षा को पार्टी में काफी महत्व दिया जा रहा है। इसी तरह शहर कांग्रेस कमेटी अध्यक्ष गुरूमीत सिंह मंगू,पार्षद दल के नेता रहे अजय मिश्रा बाबा, कविता पांडे, मनीष गुप्ता, पार्षद विनोद शर्मा, पार्षद गोविंद शुक्ला आदि ऐसे कांग्रेस में दावेदारों की लम्बी सूची है।

मिलावटी खाद्य पदार्थ बेचने वालों की खैर नहीं, 200 नमूनों की हुई जांच : अबतक तीन के खिलाफ FIR

माता-पिता से मिली राजनीति की शिक्षा

विभूति नयन मिश्रा को राजनीति की सीख उनके पिता पूर्व विधायक एंव जिला पंचायत अध्यक्ष अभय मिश्रा तथा उनकी माता पूर्व विधायक नीलम मिश्रा से मिली है। उन्होने सेंट जॉर्ज देहरादून बोर्डिंग के स्कॉलर, मुंबई से बीए एलएलबी ऑनर्स में गोल्ड मेडलिस्ट, यूनिवर्सिटी लंदन से साउथ एशियन हिस्ट्री, भारत, पाकिस्तान, अफगानिस्तान, बांग्लादेश भूटान, श्रीलंका जैसे देशों के इतिहास की पढ़ाई में मास्टर डिग्री प्राप्त की है।

फिर संजय गांधी अस्पताल में बड़ी लापरवाही : डॉक्टरों ने कान की जगह कर दिया दिमाग का ऑपरेशन : परिजनों ने अस्पताल में जमकर हंगामा

यूनिवर्सिटी ऑफ लंदन में पहली बार किसी भारतीय शोधार्थी ने द हिंदुत्व पर खुद का रिसर्च पेपर सम्मिलित किया है। जिसके लिए उन्हें यूनिवर्सिटी द्वारा मानक उपाधि दी गई है। वर्तमान में इंटरनेशनल पॉलीटिकल अफेयर्स पर पीएचडी के शोधार्थी है। 25 वर्षीय विभूति नगर निगम महापौर चुनाव में कांग्रेस से प्रत्याशी हो सकते हैं।

केन्दीय महासचिव के समक्ष जोर अजमाईस

महापौर के लिये दावेदारों की नब्ज टटोलने शनिवार को रीवा पहुचें केन्द्रीय महासचिव एवं प्रदेश प्रभारी मुकुल वासनिक के सामने गुटबाजी में बटी कांग्रेस के लोग आपस में भिड़ गये। दो गुटो के बीच महासचिव के समक्ष ही जमकर तू-तू मय-मय हुई। इसी बीच दोनों गुट को शांत रहने की समझाइस वे देते रहे। बहरहाल उॅट किस करवट बैठता है। यानि कि टिकिट किसे मिलती यह तो आने वाला वक्त ही बतायेगा।

पूर्व मंत्री कमलेश्वर पटेल ने दी दिवंगत पत्रकार प्रदीप द्विवेदी को श्रद्धाजलि, परिजनों का बढ़ाया मनोबल


हमारी लेटेस्ट खबरों से अपडेट्स रहने के लिए सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर भी जुड़ें:

FACEBOOK PAGE INSTAGRAMGOOGLE NEWS ,TWITTER

मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ जुड़े हमसे  

Powered by Blogger.