MP : सुरक्षा के कड़े इंतजाम में राजधानी भोपाल पहुंची कोरोना वैक्सीन की पहली खेप : अब जिलों में भेजे जाएंगे टीके

भोपाल। कोरोना वैक्सीन की पहली खेप आज सुबह 11 बजे राजधानी भोपाल पहुंच गई। मध्यप्रदेश को कोरोना की 5 लाख वैक्सीन की खेप मिली है। एयरपोर्ट के बाद अब  सभी जिलों में भेजी जाएगी। संभावना जताई जा रही है। इंदौर और जबलपुर में एयर कार्गो से वैक्सीन आएगी। ग्वालियर में रेफ्रिजरेटर वैन से वैक्सीन पहुंचेगी। आज देर रात तक टीके सभी जिलों मे डिलीवरी कर दी जाएगी।

एक्शन मूड में शिवराज : तक्काल प्रभाव से हटाए गए मुरैना कलेक्टर और एसपी : SDOP भी निलंबित

बता दें कि प्रदेश में करीब 325 वैक्सिनेशन सेंटर बनाये गए हैं, हर सेंटर पर डॉक्टर और इमरजेंसी सर्विस मौजूद रहेंगी। कोल्ड चेन को डेवलप कर लिया गया है, आईटी टेक्नोलॉजी का पूरा इस्तेमाल वेक्सिनेशन के लिए किया जाएगा, स्टोरेज का नियत तापमान कम ज्यादा होने पर कंट्रोल रूम में अलर्ट आएगा। 16 जनवरी से प्रदेश फ्रंट में लाइन वर्कर्स को वैक्सीन के टीके लगेंगे।

भोपाल, इंदौर, ग्वालियर और जबलपुर में पहुंचने के बाद होगी जिलों में होगी कोरोना वैक्सीन की सप्लाई

सबसे पहले सरकारी और प्राइवेट हेल्थ वर्कर्स को लगेंगे टीके

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि प्रदेश में कोरोना के वैक्सीनेशन 16 जनवरी से शुरू हो जाएगा। इसके लिए सरकार ने प्राथमिकताएं तय की है। जिसके मुताबिक सबसे पहले प्रदेश के 4.16 लाख सरकारी और प्राइवेट हेल्थ वर्कर्स को कोरोना की वैक्सीन (टीका) लगाई जाएगी।

शिवराज कैबिनेट की अहम बैठक खत्म : इन अहम प्रस्तावों पर मिली मंजूरी

इसके बाद फ्रंट लाइन कोरोना वॉरियर सफाई कर्मी और पुलिस कर्मियों का वैक्सीनेशन किया जाएगा। वैक्सीनेशन के लिए प्रदेश में 302 स्वास्थ्य केंद्र बनाए गए है। जबकि राज्य स्तर पर कंट्रोल रूम और कमांड सेंटर की स्थापना की जा चुकी है।

 चार IAS के तबादले : उज्जैन कमिश्नर आनंद शर्मा मुख्यमंत्री चौहान के सचिव बने

साथ ही हर जिले तथा ब्लॉक स्तर पर भी कार्य की निगरानी के लिए नियंत्रण कक्ष स्थापित किए जा रहे हैं। राजधानी भोपाल में 30 हजार स्वास्थ्य कर्मियों को पहले टीका लगाया जाएगा। खबर के मुताबिक एक दिन में 100 लोगों को टीका लगेगा और ये कार्यक्रम 3 से 5 दिन चलेगा। टीकाकरण के लिए भोपाल में 130 सेंटर बनाए गए हैं।

Powered by Blogger.