उमरिया : घर के मुखिया की कोरोना से मौत तो 15 साल का बेटा कैंसर से लड़ रहा जिंदगी की जंग : इलाज के लिए सोशल मीडिया में क्राउड फंडिंग के जरिए परिजन जुटा रहे 15 लाख

उमरिया . शहर में हंसते खेलते एक परिवार को कोरोना महामारी ने तबाही की कगार पर लाकर खड़ा कर दिया। कोरोना संक्रमण के चलते पहले 14 फरवरी को परिवार ने घर के मुखिया नरेश खट्टर (अण्डा वाला) को खो दिया। इस सदमे से पत्नी व दो बेटियां उबर भी नहीं सकी थी कि घर के इकलौते बेटे सुमित (15) को कैंसर ने गिरफ्त में ले लिया। सुमित मुंबई के कैंसर अस्पताल में भर्ती है।

अब 28 अप्रैल के बाद होने वाली शादियों पर लगेगा विराम, कोरोना की चेन तोड़ने शादियों पर एक माह तक रहेगी रोक

डॉक्टर ने इलाज के लिए 16 लाख रुपए का खर्च बताया है। घर की जमा पूंजी पुत्र के शुरूआती इलाज में खत्म हो गई। परिवार की माली हालत देख कुछ लोगों ने मदद की पेशकश की। फिर भी भारी भरकम राशि को जुटाने में अक्षम रहे। लिहाजा अब सोशल मीडिया में क्राउड फंडिंग के जरिए 'सेव सुमित फ्रॉम कैंसर' की मुहिम चलाई जा रही है। 1 लाख 33076 रुपए जमा भी किए गए। अभी भी 14,66,924 रुपए एकत्र करना शेष हैं।

डॉक्टर और परिजन के बीच जमकर मारपीट, परिजनों का आरोप- जनरल वार्ड में पलंग दिया और बिल डिलक्स वार्ड का थमाया

बता दें कि नरेश खट्टर (42) निवासी उमरिया ज्वालामुखी तिराहा में हाथ ठेला संचालित करता था। पत्नी चंचल खट्टर (40) के अनुसार फरवरी माह में वह कोविड 19 के संक्रमण की चपेट में आया था। इलाज के दौरान ही उसकी मौत हो गई। इधर, परिवार में नरेश के अलावा पत्नी एक पुत्र (15) व दो बेटियां (आयु 18, 13 वर्ष) हैं। फरवरी में पिता की मौत के बाद अप्रैल में सुमित को पेट में दर्द की शिकायत हुई। कटनी व जबलपुर में इलाज चला। जांच के दौरान ज्ञात हुआ कि उसे कैंसर के लक्षण हैं।

अगर अधिकारियों से जान-पहचान है तो बेड के लिए करो इंतजार : अस्पतालों में वेटिंग बढ़ी

12 अप्रैल को घर वाले सुमित को मुंबई की कोकिला बेन धीरूभाई अंबानी अस्पताल भर्ती कराया गया।रुपए की कमी आने पर कुछ अचल संपत्ति बेची। अब बचे हुए 14 लाख एकत्र करने का कोई माध्यम नहीं बचा है। लिहाजा, मृतक के साथी व सामाजिक कार्यकर्ता क्राउड फंडिंग के लिए अभियान चला रहे हैं।

Powered by Blogger.