MP : खूनी हड़ताल! जूनियर डॉक्टरों ने GMC की बिल्डिंग पर टांगे खून से रंगे एप्रेन

ख़बरों के बेहतर एक्सपीरिएंस के लिए डाउनलोड करें Rewa News Media ऐप, क्लिक करें

भोपाल .सरकार के खिलाफ जूनियर डॉक्टरों की हड़ताल लगातार छठे दिन भी जारी जारी है. डॉक्टरों का कहना है कि उन्होंने सरकार से कई बार बात करने का प्रयास किया लेकिन सफलता हाथ लगी है. ऐसे में अब आज डॉक्टरों ने खून से सनी जर्सी टांगकर अपने विरोध दर्ज कराया

सरकार बोली- मरीजों के साथ ब्लैकमेलिंग ठीक नहीं, जूडा ने कहा- सुप्रीम कोर्ट जाएंगे

आंदोलन बड़ा करने की चेतावनी

बता दें कि डॉक्टरों की मांग है कि उनके ऊपर जो हमले होते हैं, उन्हें प्रताड़ित किया जाता है इसके लिए सरकार कोई कदम उठाए. अगर सरकार मांगे नहीं मानती है तब डॉक्टर इस आंदोलन को बड़ा रूप दे सकते हैं

सरकार और जूडा भी आमने-सामने / सरकार को दर्द समझाने के लिए जूनियर डॉक्टरों ने गाया.. 'सारी उम्र हम मर-मर कर जी लिए'

हॉस्टल से निकालने का नोटिस

जूनियर डॉक्टरों ने बताया कि उन्हें अब हॉस्टल से निकालने के नोटिस आ गए हैं. सभी बच्चों को हॉस्टल से निकालने की कार्रवाई की जा रही है. उनसे कहा जा रहा है कि आप अपना सामान लेकर कहीं और चले जाएं. आप यहां पढ़ाई नहीं कर सकते. इसके विरोध में सभी डॉक्टरों ने अपना सामान बाहर निकाल लिया है. डॉक्टरों ने सामान को सड़क पर रखकर डीन ऑफिस के सामने विरोध प्रदर्शन किया

SDM ने महिला फूड इंस्पेक्टर को भेजा अश्लील मैसेज : शाम को बोले- कमरे पर आ रहा हूं : फिर ..

सरकार पर लगाया ये आरोप

डॉक्टरों का कहना है कि सरकार अब तानाशाही पर उतर आई है, जो बच्चे यहां डॉक्टर की परीक्षा पास कर पढ़ाई कर रहे हैं. उनके साथ जानवरों जैसा बर्ताव किया जा रहा है. डॉक्टर ने आरोप लगाया है कि उनके परिवार वालों को भी परेशान किया जा रहा है. साथ ही दबाव बनाया जा रहा है कि वह हड़ताल से वापस आ जाएं, लेकिन डॉक्टर अपनी मांगों को लेकर अड़े हुए हैं

प्रदेश के करीब 3500 जूडा ने डीन को सौंपा इस्तीफा : रीवा, जबलपुर समेत इन मेडिकल कॉलेजों के 468 PG स्टूडेंट्स बर्खास्त

पूरे देश से मिल रहा हड़ताल को समर्थन

डॉक्टरों का कहना है कि उन्हें पूरे देश से समर्थन मिल रहा है. शासन को अलग-अलग मेडिकल एसोसिएशन और संस्थानों द्वारा जूनियर डॉक्टर्स की मांग मानने के लिए चिट्टियां लिखी जा रही हैं. अगर यह आंदोलन अभी सरकार द्वारा समाप्त नहीं किया जाता है, तो पूरे देश के डॉक्टर इस आंदोलन में शामिल होंगे

शादी का झांसा देकर 60 साल के वृद्ध ने 22 साल की युवती के साथ दुष्कर्म कर बनाया गर्भवती : आरोपी के खिलाफ रेप का मामला दर्ज

जूनियर डॉक्टर ने बताया कि उन्हें आदेश मिले हैं कि अगर मेडिकल की पढ़ाई बीच में छोड़ते हैं तो, उन्हें 1000000 से लेकर 300000 रुपए तक वापस करना पड़ेंगे. यह आदेश पढ़ाई कर रहे डॉक्टर के भविष्य के साथ खिलवाड़ है. क्योंकि प्रदेश में 3000 से ज्यादा डॉ ने अपने इस्तीफे सौंप दिए हैं. इसके खिलाफ सरकार ने 28 जूनियर डॉक्टर के नामांकन रद्द करने की कार्रवाई की है .

Powered by Blogger.