MP : झुकने को तैयार नहीं अफसर : सुर्खियों में है IAS लोकेश जांगिड़ : कहा- 'ईमानदारी महंगा शौक है, यह हर किसी के बस का नहीं'

भोपाल. 2014 बैच के आइएएस लोकेश कुमार जांगिड़ के तेवर वॉट्सऐप स्टेटस पर भी तीखे नजर आए। उन्होंने स्टेटस पर लिखा कि ईमानदारी एक महंगा शौक है। यह हर किसी के बस की बात नहीं। लोकेश ने करीब 12 स्टेटस कोट्स लिखे, जो उनके किरदार को दर्शा रहे हैं। एक अन्य स्टेटस में उन्होंने लिखा कि मुझमें दस खामियां हैं माफ कीजिए... पर अपने आईने भी तो कभी साफ कीजिए। बहरहाल, यह एपिसोड फिलहाल आइएएस लॉबी में चर्चा का विषय बना हुआ है।

MP BOARD का फार्मूला : अब CBSE की तर्ज पर बन सकता है 12वीं का रिजल्ट, प्रस्ताव में 40-60% का फाॅर्मूला शामिल

सपोर्ट में भाजपा सांसद

भाजपा सांसद सुमेर सिंह सोलंकी ने लोकेश का सपोर्ट किया है। सोलंकी ने कहा कि उन्होंने बड़वानी में अच्छा काम किया है। हालांकि दूसरी ओर चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग ने उनके चैट पर कमेंट को सर्विस रूल का उल्लंघन बताया है।

MP में एक बार फिर स्कूल खुलने की शुरुआत : सिर्फ शिक्षकों और कर्मचारियों को आना अनिवार्य : छात्रों के लिए चलेगी ऑनलाइन क्लास

ये भी स्टेटस कोट्स

-हारा वहीं जो लड़ा नहीं- ईमानदारी तेरा किरदार है तो खुदकुशी कर लें, सियासत को तो जी-हुजूरी की आदत है।

-जिंदगी में एक बात तो तय है कि तय कुछ भी नहीं है।

- जितना कठिन संघर्ष होगा, जीत उतनी ही शानदार होगी

अभी नोटिस का जवाब नहीं

लोकेश ने अभी तक नोटिस का जवाब नहीं दिया है। उन्हें सात दिन जवाब के लिए मिले हैं। इस कारण फिलहाल वे सर्विस रूल्स और लीगल स्थिति को देख रहे हैं। उनका कहना है कि सर्विस रूल्स नहीं तोड़ा है।

मानसून की दस्तक : रीवा, सतना समेत प्रदेश के सभी हिस्सो में आज झमाझम बारिश की संभावना

क्रांति अगर पॉजिटिव तो बुरी बात नहीं

लोकेश ने कहा, यदि क्रांति के विचार पॉजिटिव हो तो बुरी बात नहीं। मेरा किसी से विरोध या बगावत नहीं है। अपनी बात कहने का सबको हक है, सर्विस रूल पब्लिक फोरम पर बात कहने से रोकते हैं, लेकिन निजी फोरम पर बात कही जा सकती है।

काम सवारी के साथ 47 बसें 6 रूटों पर दौड़ रही, फिर भी नहीं है सोशल डिस्टेंसिंग, नहीं दिख रहा लोगों में मास्क, ऐसे तो बढ़ेगा कोरोना का संक्रमण

यह है मामला

लोकेश का फील्ड पोस्टिंग में आने के बाद चार साल में आठ बार तबादला किया गया है। बड़वानी से भोपाल में राज्य शिक्षा केंद्र में वापस तबादला करने पर उन्होंने आइएएस एसोसिएशन के सिग्नल गु्रप पर बड़वानी कलेक्टर को लेकर कई कमेंट लिखे, जो सोशल मीडिया पर वायरल हो गए। बाद में यह चैट डिलीट कर दी गई। इसके अलावा तबादला का फोन पर निर्देश देने वाली पीएस दीप्ति गौड़ की ऑडियो क्लिप भी वायरल हो गई। इस पर ऑडियो क्लिप को सर्विस रूल का उल्लंघन बताकर जांगिड को नोटिस मिला है।

Powered by Blogger.