REWA : क्योटी जलप्रपात में युवक की डूबने से मौत, पुलिस ने कुंड से बरामद किया शव

रीवा जिला के क्योटी जलप्रपात के कुंड में रविवार शाम नहाते समय डूबने से एक युवक की मौत हो गई। हादसे के बाद साथियों ने लालगांव चौकी पुलिस समेत गढ़ थाने को सूचना दी। जानकारी के बाद पहुंची पुलिस ने कुंड से शव बरामद कर पीएम के लिए अस्पताल भेज दिया है।

बेवा महिला के घर से दबंग जबरन उठा ले गए स्कॉर्पियो और ट्रैक्टर, चोरहटा थाने में शिकायत दर्ज बाद भी नहीं हुई कार्यवाही : अब SP से लगाई गुहार

मिली जानकारी के मुताबिक मोहम्मद जी शान (18) निवासी सुल्तानपुर यूपी अपने तीन अन्य साथियों के साथ रीवा के क्योटी जलप्रपात पिकनिक मनाने आया था। आसपास घूमने के बाद रविवार की शाम करीब 5 बजे चारों साथी वॉटर फाल में नहा ही रहे थे, तभी मोहम्मद जी शान पैर फिलस गया। वह देखते ही देखते कुंड के गड्ढे में समा गया।

प्रेम-प्रसंग का मामला : SAF की 25वीं बटालियन के जवान ने किया सुसाइड, नदी के किनारे पेड़ में लटका मिला शव,

कुंड के गड्ढे से अनजान साथी बचाने की कोशिश तो किए पर उनका प्रयास असफल रहा। ऐसे में तुंरत स्थानीय लोगों की मदद लेकर लालगांव चौकी प्रभारी यूवी सिंह को सूचना दी गई। क्योटी जलप्रपात के हादसे की खबर सुनते ही। लालगांव पुलिस चौकी का बल मौके पर पहुंचकर रेस्क्यू करते हुए कुंड में डूबे युवक का शव बरामद कर अस्पताल भेज दिया है।

रीवा सांसद का जागरूक संदेश : पद यात्रा निकाल ग्रामीणों से रूबरू होकर घर-घर वैक्सीनेशन कराने का दे रहें संदेश

बैरिकेड्स ने होने से बारिश के समय में होते है सबसे ज्यादा हादसे

स्थानीय लोगों का दावा है कि क्योटी जलप्रपात में बैरिकेड्स ने होने से बारिश के समय में सबसे ज्यादा हादसे होते है। फिर भी पुलिस और प्रशासन इस ओर ध्यान नहीं देते है। यहां 2020 की बारिश में एक बड़ा हादसा भी हो चुका है, लेकिन स्थानीय प्रशासन बैरिकेड्स तक की व्यवस्था नहीं कर पाया है।

वर्षों तक युवती से प्यार का नाटक कर युवक ने कई बार शारीरिक संबंध बनाए, सुहागरात से पहले धोखेबाज प्रेमी को पीड़ित प्रेमिका ने पहुंचाया जेल

सुरक्षा की व्यवस्था नहीं

बता दें, बारिश के समय में एमपी और यूपी समेत आसपास के जिलों के युवा पिकनिक मनाने रीवा के वॉटर फाल पर पहुंचते हैं, लेकिन सबसे ज्यादा बुरे हाल क्योटी जलप्रपात के है। यहां सुरक्षा के नाम पर इंतजाम नहीं है। प्रशासन यदि ध्यान दे तो तो एक दर्जन से ज्यादा मौतों को रोका जा सकता है।

Powered by Blogger.