REWA : संजय गांधी हास्पिटल के प्रभारी CMO डॉक्टर अलख प्रकाश 10 हजार रुपए की रिश्वत लेते रंगे हाथों गिरफ्तार : MLC मेडिकल रिपोर्ट बनाने मांगे थे 20 हजार रुपए

ख़बरों के बेहतर एक्सपीरिएंस के लिए डाउनलोड करें Rewa News Media ऐप, क्लिक करें

रीवा लोकायुक्त की टीम ने संजय गांधी स्मृति हास्पिटल के प्रभारी CMO डॉक्टर अलख प्रकाश को 10 हजार रुपए की रिश्वत गिरफ्तार किया है। वह अपनी क्लीनिक पर ही घूस ले रहा था। डॉक्टर ने मारपीट के मामले में MLC (Medico legal cases) यानि मेडिकल रिपोर्ट बनाने के लिए 20 हजार रुपए मांगा था। उसने पहले ही 5-5 हजार रुपए दो बार लिए थे। 10 हजार रुपए के लिए वह दबाव बना रहा था।

TOP WATERFALL IN REWA : उठाईये बारिश का लुफ्त : जानिए जिले में स्थित जलप्रपात के बारे में : पढ़िए पूरी जानकारी

लोकायुक्त SP राजेन्द्र कुमार वर्मा ने बताया कि रामपुर कर्चुलियान तहसील के 165 गोरगांव निवासी अमित तिवारी (26) ने कुछ दिन पहले अलख प्रकाश सिंह की शिकायत की थी। अमित तिवारी ने कहा कि मारपीट में उसके सिर पर गंभीर चोट आई है। यह बात MLC में जिक्र करने के लिए डॉक्टर अपने अटेंडर रणजीत अग्निहोत्री के माध्यम 20 हजार रुपए की रकम मांग रहे हैं।

लड़कियों को प्रताड़ित करने का मामला उजागर : चिरहुला वन स्टॉप सेंटर की संचालक ने विछिप्त महिला के बॉल पकड़कर कर दी पिटाई, सोशल मीडिया में वीडियो सामने आने से हड़कंप

अमित ने बताया कि अलख प्रकाश ने पहले 5000 रुपए ले चुके है। फिर कुछ दिन बाद सत्यापन के दिन आरोपी डॉक्टर ने बातचीत करते समय फिर से 5 हजार ले लिए। अब 10 हजार के लिए फिर परेशान कर रहे हैं। ऐसे में जब SP ने शिकायत की गोपनीय जांच कराई गई तो आरोपों को सही पाया गया। इसके बाद ट्रैपिंग के लिए गुरुवार का दिन तय किया गया।

नशे के तस्करों के बीच गैंगवार : SP कार्यालय से शिकायत कर लौट रहे युवक पर धारदार हथियार से हमला : SGMH में भर्ती

सिरमौर चौराहा में स्थित है क्लीनिक

डॉ. अलख प्रकाश सिंह का क्लीनिक सिरमौर चौराहा​ स्थित तानसेन कॉम्प्लेक्स में है। गुरुवार दोपहर 12.30 बजे अटेंडर रणजीत अग्निहोत्री के माध्यम से 10 हजार की रिश्वत लेते अलख सिंह को लोकायुक्त ने पकड़ लिया। इसके बाद लोकायुक्त की टीम अलख सिंह को संजय गांधी स्मृति हास्पिटल के CMO कार्यालय स्थित आकस्मिक चिकित्सा अधिकारी के कक्ष पर ले गए, जहां से MLC जब्त की गई।

नई गाइडलाइन जारी : 1 अगस्त से प्रवेश प्रक्रिया शुरू : आपराधिक प्रकरण वालों को कॉलेज में नहीं मिलेगा एडमिशन

लोकायुक्त टीम ने क्लीनिक में जमाया डेरा

लोकायुक्त SP ने कहा कि दूसरी टीम क्लीनिक में डेरा जमाए है। अलख प्रकाश सिंह का मूल पद मेडिकल आफिसर है। अन्य चिकित्सकों की गैर मौजूदगी में CMO पद पर बीच-बीच उनकी ड्यूटी लगती थी। यहां आकस्मिक चिकित्सा विभाग में MLC बनाने के चक्कर में लालच में वह बैठता है।

Powered by Blogger.