REWA : बिछिया जिला अस्पताल को बेहतर बनाने की कवायद शुरू, 2 करोड़ से होगा कायाकल्प; परिजनों को ठहरने के लिए बनेगा धर्मशाला : लगेगी सीटी स्कैन मशीन

रीवा। शहर के बिछिया स्थित कुशाभाऊ ठाकरे स्मृति जिला चिकित्सालय को बेहतर बनाने की कवायद शुरू हो गई है। यहां जिला प्रशासन की पहल पर 2 करोड़ रुपए से ज्यादा की राशि मिलने की संभावना है। हालांकि राशि अभी जिला अस्पताल तक नहीं पहंची है, लेकिन जारी होने की प्रक्रिया अंतिम पड़ाव पर है।

देसी कट्टा और कारतूस के साथ दो आरोपित गिरफ्तार

सीएमएचओ डॉ. एमएल गुप्ता ने बताया कि राशि मिलते ही सबसे पहले बेड की संख्या बढ़ाने के साथ एक सीटी स्कैन मशीन, मरीज के परिजनों को ठहने के लिए धर्मशाला निर्माण, ठंड पानी की व्यवस्था, साफ-सफाई और बेहतर शौचालय बनवाएं जाएंगे।

केंद्र में उड्डयन मंत्री का कार्यभार संभालते ही ज्योतिरादित्य सिंधिया से राजेंद्र शुक्ला ने रीवा के प्रतीक भेंट कर की ये मांग ....

बाहरी हिस्सों में शिफ्ट होंगे ओपीडी और दवा वितरण केंद्र

बताया गया कि राशि मिलते ही सबसे पहले सुविधाएं विकसित करने की योजना तैयार की गई है। वहीं ओपीडी और दवा वितरण केंद्र को अस्पताल के भीतर से बाहरी हिस्से में शिफ्ट किया जाएगा। साथ ही जिला अस्पताल के बचे हिस्से में आकर्षण गार्डन बनाने की तैयार है।

पुलिस की कार्यवाही से शहर के दर्जन भर मार्गों में कार्यवाही से मचा हड़कंप, एक सैकड़ा पर ठोंका जुर्माना

सीटी स्कैन मशीन लगाने की तैयारी

सीएमएचओ ने कहा कि वर्तमान समय में जिला अस्पताल इलाज कराने आ रहे मरीजों के लिए सीटी स्कैन की व्यवस्था नहीं है। ऐसे में मरीजों को सीटी स्केन के लिए संजय गांधी स्मृति अस्पताल या फिर निजी सेंटरों में जाना पड़ता है। जिसको देखते हुए जिला अस्पताल परिसर में एक सीटी स्कैन मशीन की व्यवस्था बनाने का निर्णय लिया गया है।

नई गाइडलाइन के तहत 31 जुलाई तक कलेक्टर ने लगाई धारा- 144 : जिम, सिनेमाघर समेत रेस्टोरेंट, क्लब पूरी क्षमता के साथ रात 10 बजे तक खुल सकेंगे

परिजनों को ठहरने के लिए बनेगा धर्मशाला

जिला अस्पताल में उपचार कराने वाले मरीजों के साथ-साथ परिजनों का भी ख्याल रखा जा रहा है। बताया गया कि जिन मरीजों के परिजन भर्ती होकर उपचार करा रहे हैं। उनके रुकने और रात्रि विश्राम के लिए आकर्षक धर्मशाला तैयार होगा। वहीं परिसर के बाहरी हिस्सों में शौचालय बनाने की योजना है। उल्लेखनीय है कि अभी तक इन सुविधाओं के न होने से मरीज के परिजनों को इधर-उधर भटकना पड़ता था।

Powered by Blogger.