REWA : शिक्षा के मंदिर में उड़ रहें नशेड़ी शिक्षकों के जाम : प्राचार्य से लेकर चतुर्थ श्रेणियों तक के शामिल : डीईओ ने बीईओ को दिए जांच के आदेश

ख़बरों के बेहतर एक्सपीरिएंस के लिए डाउनलोड करें Rewa News Media ऐप, क्लिक करें

( ग्राउंड एमपी 17 ऋतुराज द्विवेदी की रिपोर्ट ) रीवा जिले के हनुमना जनपद पंचायत अंतर्गत गौरी हायर सेकेंडरी स्कूल में टीचरों द्वारा शराबखोरी करने का मामला सामने आया है। वायरल वीडियो में दावा है कि कोरोना काल में कुछ टीचर शराब के नशे में मदहोश होकर विद्यालय पहुंचते है। फिर भी स्कूल प्रबंधन के जिम्मेदार नशेड़ी शिक्षकों के आगे ​बेबस नजर आते है।

रहवासियों ने लगाई गुहार : हल्की बारिश ने नगर निगम के सफाई व्यवस्था की खोली पोल कई सड़कों तथा घरों में घुस रहा पानी

वहीं कुछ सूत्रों का दावा है कि प्राचार्य से लेकर चतुर्थ श्रेणियों की भूमिका भी संदिग्ध है। क्योंकि प्रबंधन के दबाव को देखते हुए वीडियो बनाने वाले ने दूसरे वीडियो में शराबी शिक्षकों का बचाव किया है। हालांकि डीईओ केपी तिवारी ने इस पूरे मामले में बीईओ हनुमना को जांच के आदेश दे दिए है।

बकिया बराज के खोले गए 12 गेट : तीन दिन से चल रही रिमझिम बारिश से इलाकों में अलर्ट जारी : तराई क्षेत्रों में बाढ़ का खतरा

मिली जानकारी के मुताबिक कुछ दिनों से रीवा जिले की एक सरकारी स्कूल में शराबखोरी का वीडियो वायरल हो रहा है। वीडियो की पड़ताल में पता चला कि यह शासकीय हायर सेकेंडरी स्कूल गौरी का है। जहां पर पदस्थ शिक्षक विनोद शराब के नशे में टल्ली होकर स्कूल प्रांगण की जमीन में बेसुध पड़ा है। यहां तक की उसकी हेलमेट निकालने तक की हिम्मत नहीं है। वीडियो बनाने वाले ने आरोप लगाया है कि स्कूल के भृत्य पद पर तैनात सुंदर और एक अन्य कर्मचारी भी उस दिन शराब का नशा किए थे। जबकि एक कर्मचारी ने वीडियो बनाने वाले के ऊपर हमला भी किया है।

जिले में चार बड़े वाटरफॉल बहुती, क्योटी,चचाई व पुरवा का जलवा देखने जमकर पहुंच रहे पर्यटक

दूसरा वीडियो भी जारी

वीडियो बनाने वाले ने उसके कुछ दिन बाद दूसरा वीडियो भी जारी किया है। दूसरे वीडियो में उसने दावा किया कि पहले का जो वीडियो वायरल है। वह सिर्फ एक मजाक था। शिक्षा के मंदिर में कोई शराबखोरी नहीं करता है। मैं हंसाने के लिए वह वीडियो बनाया है। वहीं सूत्रों का दावा है कि स्कूल प्रबंधन के दबाव के आगे वीडियो बनाने वाले ने बचाव के लिए दूसरा वीडियो जारी किया है। जिसमे उसकी मनगढ़ंत कहानी सबके समझ में आ रही है।

कोरोना की तीसरी लहर से निपटने के लिए जिला पूरी तरह से तैयार : ऑक्सीजन युक्त एक हजार बेड तैयार

सवालों के घेरे में बच्चों का भविष्य

बच्चों के परिजनों ने आरोप लगाया है जिस स्कूल में ऐसे शिक्षक होंगे। उन स्कूलों के बच्चों का भविष्य क्या होगा। सहज ही अंदाजा लगाया जा सकता है। हालांकि इस कृत्य की जानकारी स्कूल के प्राचार्य वीके सिंह को है। फिर भी प्राचार्य द्वारा किसी भी तरह की कार्यवाही नहीं की गई। जबकि डीईओ केपी तिवारी ने पूरे मामले को संज्ञान में ले लिया है। कहा है कि वायरल वीडियो के बारे में जानकारी मिली है। बीईओ पूरे मामले की जांच कर प्रतिवेदन सौंपेगे। अगर ​कोई दोषी मिला तो कार्रवाई होगी।

Powered by Blogger.