REWA : एक बार फिर सु​र्खियों में आये मऊगंज विधायक प्रदीप पटेल : गद्दा बिछाकर धरना दिया तब जारी हुआ गेहूं खरीदी का भुगतान

ख़बरों के बेहतर एक्सपीरिएंस के लिए डाउनलोड करें Rewa News Media ऐप, क्लिक करें

रीवा जिले के मऊगंज विधानसभा से भाजपा विधायक प्रदीप पटेल एक बार फिर सु​र्खियों में है। इस बार वह जिला सहकारी केंद्रीय बैंक की मुख्य शाखा के प्रशासक कक्ष में गद्दा बिछाकर धरना दे दिया था। विधायक का आरोप है कि खरीफ सीजन में खाद-बीज खरीदी के लिए किसानों के पास पैसा नहीं है। जबकि गेहूं उपार्जन का पैसा किसानों के खाते में डंप है।

वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाने का जुनून : रीवा की बेटी श्वेता नेमा ने 45 मिनट तक कुर्मासन कर बनाया रिकॉर्ड, गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड के लिए भेजा नाम

फिर भी कॉपरेटिव बैंक का अमला भुगतान नहीं कर रहा है। जबकि खेती के सीजन में किसानों को पैसे की तत्काल आवश्यकता है। ऐसे वे क्षेत्र के किसान रोजाना बैंक के चक्कर काटते है। फिर भी खुद का जमा पैसा नहीं निकाल पा रहे है। जिससे समय पर खाद-बीज की खरीदारी न होने के कारण खेती पिछड़ रही है।

कलेक्ट्रेट में प्रदर्शनकारियों का जमकर हंगामा : जलभराव को लेकर आक्रोश, निगम अमले पर लगा अनदेखी का आरोप : विधायक से लेकर अधिकारी सिर्फ दे रहें आश्वासन

हालांकि सोमवार की दोहपर 2 बजे से चले धरने के बाद शाम 6 बजे तक भुगतान के आदेश जारी हो गए है। सूत्रों का दावा है कि 4 घंटे में ही गहरी निद्रा में सोने वाले जिला सहकारी केंद्रीय बैंक के अधिकारियों की नींद खुल गई। क्योंकि इसके पहले भी मऊगंज विधायक बिजली विभाग अधिकारियों की नींद हराम कर दी थी।

घुचियारी गांव में 4 की मौत का मामला : परिवार वालों ने कहा; अगर सरकारी सिस्टम के लोग 15 हज़ार ​न मांगते तो PM आवास मिल जाता

प्रशासक एवं सीईओ ने जारी किए भुगतान के आदेश

प्रदीप पटेल के धरने के बाद जिला सहकारी केंद्रीय बैंक के प्रशासक एवं सीईओ ने गेहूं उपार्जन वर्ष 2021-22 में समर्थन मू​ल्य पर गेहूं खरीदी का भुगतान करने के आदेश दिए है। कहा है कि कृषकों को उनकी मांग अनुसार राशि का भुगतान किया जाए। जिससे किसानों को बार बार बैंक शाखा के चक्कर न काटना पड़े।

अगले 24 घंटे तक भोपाल, उज्जैन, सागर, रीवा समेत इन जगहों में मूसलधार बारिश की चेतावनी

धरने देने के लिए मशहूर है विधायक

बता दें कि मऊगंज विधायक प्रदीप पटेल रीवा जिले में धरने वाले विधायक के नाम से जाने जाते है। वह अक्सर अपनी शिकायत लेकर जाते है। जब सुनवाई नहीं होती है। तब वह संबंधित विभाग में गद्दा बिछाकर धरती पर बैठ जाते है। इसके पहले अमहिया स्थित अधीक्षण यंत्री कार्यालय में मौन धरना से जिला प्रशासन की नींद उड़ गई थी। आनन फानन में विधायक की बात माननी पड़ी थी। तब विधायक को तीन दिन निराकरण का समय दिया गया था। लेकिन निराकरण नहीं होने पर वह फिर गद्दा, प्याज रोटी लेकर कार्यालय पहुंच गए। धरने के बाद विद्युत विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों ने मऊगंज एई को हटा दिया था। तब मामला शांत हुआ था।

Powered by Blogger.