MP : बारिश से बिगड़े हालात : रीवा-सिंगरौली में 12 घंटे में दो बड़े हादसों में 6 की मौत, 5 लोग गंभीर

ख़बरों के बेहतर एक्सपीरिएंस के लिए डाउनलोड करें Rewa News Media ऐप, क्लिक करें

मध्य प्रदेश के विंध्य में लगातार बारिश से हालात बिगड़ने लगे हैं। रीवा-सिंगरौली में 12 घंटे में दो बड़े हादसों में 6 की मौत हो गई, जबकि 5 लोग गंभीर हैं। रीवा में रविवार तड़के कच्चे मकान की दीवार सो रहे परिवार पर गिर गई। मलबे में दबकर 4 लोगों की जान चली गई। मृतकों में मां-बेटा और दो बहनें शामिल हैं। परिवार के दो सदस्य गंभीर हैं। वहीं, सिंगरौली में कंपनी की दीवार झुग्गी पर गिर गई। इस घटना में 2 भाइयों की मौत हो गई, जबकि माता-पिता समेत 3 लोग घायल हो गए। परिवार झारखंड से मजदूरी करने आया था।

भाजपा के पूर्व महापौर शिवेन्द्र सिंह के खिलाफ समान थाने में FIR दर्ज : नगर निगम की टीम के साथ अभद्रता और गाली-गलौज का आरोप

विंध्य क्षेत्र में 24 घंटे से लगातार बारिश हो रही है। पहला हादसा शनिवार-रविवार रात 2 बजे सिंगरौली के विन्ध्यनगर थाना क्षेत्र की जयंत चौकी इलाके में हुआ। चौकी प्रभारी अभिमन्यु द्विवेदी ने बताया कि सामन्ता कंपनी की दीवार गिर गई। दीवार के मलबे के चपेट में मजदूर भोला मुंडा (32) निवासी झारखंड की झुग्गी आ गई। भोला के दो बच्चे नीरज मुंडा (10) और सनिका मुंडा (2) की मौके पर मौत हो गई। वहीं, भोला की बेटी रागिणी मुंडा (7) गंभीर रूप से घायल हुई है। हादसे में भोला और उसकी पत्नी विनीता (28) भी घायल है। बच्ची को नेहरू अस्पताल के वेंटिलेटर पर रखवाया गया है।

कच्चा मकान ढहने से मलवे में दफन हो गई चार जिंदगी, दम घुटने से निकले प्राण : दो लोग गंभीर रूप से अस्पताल में भर्ती

रीवा में शवों को निकालने में लग गए घंटों

एक सप्ताह से चल रही रिमझिम बारिश ने रविवार तड़के कहर बरपाया है। गढ़ थाना क्षेत्र के बहेरा घुचियारी गांव में कच्चा मकान ढहने से चार लोगों की मौत हो गई है। मनोज पांडेय (35), उनकी मां कमेली पांडेय (60), दो बेटियां काजल (8) और आंचल पांडे (7) की मौत हो गई। मलबे में दबे मनोज की पत्नी और बेटे को किसी तरह बच गया, लेकिन गंभीर रूप से घायल होने के बाद उनको अस्पताल में भर्ती कराया है।

पहली बार नई लोकेशन की नई दरें : जिलेभर के 355 नए लोकेशन कलेक्टर गाइडलाइन में शामिल : 50 हजार रुपए प्रति वर्गमीटर की दर से होगी रजिस्ट्री : पढ़िए पूरी जानकरी

गांव में सड़क नहीं है। इसलिए रेस्क्यू टीम घटना के बाद मौके पर समय से नहीं पहुंच पाई। इसकी वजह से घंटों लोग मलबे में फंसे रहे और उनकी मौत हो गई। गांव वालों ने कुदाली फावड़ा से मलबे को हटाया। सुबह 10 बजे शव निकाले गए। मृतकों की पुष्टि कलेक्टर इलैया राजा टी ने की है।

रीवा में भारी बारिश : तराई क्षेत्रों के निचले इलाकों पर बाढ़ का खतरा; बकिया बराज के 12 गेट खुले : जवा सहित टमस के निचले क्षेत्रों में अलर्ट

घटनास्थल पहुंचने के लिए गांव में रास्ता नहीं है। घुटने तक कीचड़ पार करके स्थानीय प्रशासन टीम पहुंची है। एसडीएम केपी पाण्डेय और एसडीओपी, तहसीलदार सहित अन्य लोग घटनास्थल में मौजूद हैं। गांव के सरपंच और सचिव के प्रति लोगों में काफी नाराजगी है। वहीं गांव के लोग जोर-शोर लगा कर कह रहे हैं कि कलेक्टर को बुलाइये, तक शव उठने देंगे।

Powered by Blogger.