REWA : झमा झम बारिश में तीन अलग-अलग हादसों में तीन लोगों की मौत : आकाशीय बिजली की चपेट में आया वृद्ध किसान तो बोलेरो वाहन ने मासूम को कुचला

ख़बरों के बेहतर एक्सपीरिएंस के लिए डाउनलोड करें Rewa News Media ऐप, क्लिक करें

रीवा​ जिले में शनिवार को हुए तीन अलग-अलग हादसों में तीन लोगों की मौत हो गई है। बताया गया कि पहला हादसा नईगढ़ी थाना क्षेत्र में हुआ। जहां खेत में कार्य कर रहा वृद्ध किसान आकाशीय बिजली की चपेट में आ गया। वहीं दूसरी और तीसरी दुर्घटनाएं मऊगंज व गोविंदगढ़ थाना क्षेत्र में हुई है। इनमे एक मासूम की मौत बोलेरो वाहन की चपेट में आने से हो गई तो दूसरी मासूम की रेलवे ब्रिज के गड्ढे में समा गई है। तीनों ही मामलों में थाना पुलिस ने मामला दर्ज कर पीएम के बाद शव परिजनों को सौंप दिया है।

आरक्षक की पत्नी ने फांसी के फंदे में झूलकर अपनी जीवन लीला कि समाप्त, 23 जुलाई को पत्नी के साथ आया था छुट्टी काटकर

नईगढ़ी: किसान के ऊपर गिरी बिजली

बताया गया कि गैवी प्रसाद तिवारी पिता रामसखा तिवारी (65) निवासी अकौरी शनिवार की दोपहर खेत में कार्य कर रहे थे। तभी अचानक से आकाशीय बिजली गिरी और वृद्ध चपेट में आ गया। तेज आवाज सुनकर मौके पर पहुंचे परिजनों ने तुरंत वृद्ध का लेकर अस्पताल पहुंचे। जहां चिकित्सकों ने मृत घोषित कर दिया। ऐसे में अ​ब रविवार की सुबह पीएम के बाद शव परिजनों को सौंपा जाएगा।

MP के चंबल, रीवा और सागर संभाग में लगातार मूसलधार बारिश जारी, इंदौर समेत 7 जिलों में चिंताजनक स्थिति

मऊगंज: बोलेरों की टक्कर से बच्ची की मौत

पुलिस ने बताया कि बीती शाम रूखसार पिता मोहम्मद साबिर (10) निवासी तडहर खेत में रोपा लगाने गई थी। तभी रीवा की ओर से आ रहे अनियंत्रित बोलेरो चालक ने लापरवाही पूर्वक टक्कर मार दी। दावा है कि टक्कर इतनी तेज थी कि मासूम बच्ची उझलकर धरती पर गिरी और घटनास्थल पर ही उसकी मौत हो गई। सूचना के बाद पहुंची पुलिस ने जाम लगाते हुए बवाल कर रहे परिजनों को समझाइश देकर पीएम के लिए अस्पताल भेजा। जहां ​पोस्ट मार्टम के बाद डेड बॉडी परिजनों को सौंप दी है।

शिक्षा के मंदिर में उड़ रहें नशेड़ी शिक्षकों के जाम : प्राचार्य से लेकर चतुर्थ श्रेणियों तक के शामिल : डीईओ ने बीईओ को दिए जांच के आदेश

गोविंदगढ़: रेल ब्रिज के गड्ढे में डूबने से मासूम की मौत

गोविंदगढ़ पुलिस ने बताया कि शनिवार की सुबह दिशा सोनी​ पिता दिनेश सोनी (10) निवासी बांसा छाता लेकर घर से शौच के लिए जा रही थी। तभी अचानक से तेज हवा आई। जब तक वह कुछ समझ पाती तब तक छाते के कारण उसका संतुलन बिगड़ गया। ऐसे में वह रेलवे ओवर ब्रिज के लिए बनने वाले गड्ढे में समां गई। जब परिजन पहुंचे तो उसकी मौत हो चुकी थी। हादसे के बाद पूरे मामले की सूचना पुलिस को दी गई। फिर पुलिस ने पंचानामा कार्रवाई के बाद पीएम उपरांत शव परिजनों को सौंप दिया है।


Powered by Blogger.