बड़ा खुलासा : रीवा का यह सराफा कारोबारी तीन साल से कई व्यापारियों को बेचा नकली सोना, ग्राहकों की शिकायत के बाद मामला दर्ज : जांच में जुटी पुलिस

ख़बरों के बेहतर एक्सपीरिएंस के लिए डाउनलोड करें Rewa News Media ऐप, क्लिक करें

रीवा. एक सराफा कारोबारी ने कई व्यापारियों को तीन साल तक नकली सोना बेचा है। इस दौरान किसी को भी उसकी करतृत की भनक नहीं लगी। जब ग्राहकों ने शिकायत की तो परेशान व्यापारी ने थाने पहुंचकर शिकायत दर्ज कराई है। पुलिस मामला दर्ज कर आरोपी की तलाश कर रही है।

पुलिस कप्तान नवनीत भसीन की बड़ी कार्यवाही : आधा दर्जन उपनिरीक्षकों को किया इधर से उधर : देखें नाम

मामला मनगवां थाने का है। मनगवां के कपसा चोरहटा निवासी राजेश सोनी पिता मनकामना प्रसाद सराफा कारोबारी विशाल पाटिल की दुकान से सोने-चांदी के आभूषण खरीदते थे। पिछले तीन साल से वे यहां से कारोबार कर रहे थे। इस दौरान आरोपी ने उनको 24 कैरेट सोने के नाम पर नकली सोना पकड़ा दिया। उसके हाथ की सफाई को पीड़ित खुद सराफा व्यापारी होने के बाद भी नहीं पकड़ सके।

बच्चों को अश्लील शिक्षा दे रहा शिक्षक : पूर्व में भी दो बार अश्लील वीडियो किए थे वायरल, 22 साल से एक ही स्कूल में पदस्थ है शिक्षक, राज्य शिक्षा केंद्र के अधिकारी नहीं करते हैं कार्यवाही

ठगी का राज उस समय खुला जब दुकान से सोने के जेवर खरीदने वाले लोगों ने शिकायत की जिस पर उन्होंने जांच कराई तो सोना नकली निकला। व्यापारी की शिकायत पर पुलिस ने धोखाधड़ी का मामला दर्ज कर लिया है। फिलहाल आरोपी की गिरफ्तारी नहीं हो पाई है। आरोपी महाराष्ट्र का रहने वाला है ओर यहां दुकान संचालित करता है। उससे कई व्यापारी सोना खरीदते हैं। मनगवां थाना प्रभारी केपी त्रिपाठी ने कहा कि सराफा व्यापारी ने थाने में आकर शिकायत दर्ज कराई थी जिनको मनगवां के एक कारोबारी ने नकली सोना बिक्री किया था। उसने कितने लोगों को ठगी का शिकार बनाया है, पता लगाया जा रहा है।

रीवा लोकायुक्त की बड़ी कार्यवाही : 15 हजार की रिश्वत लेते पंचायत सचिव गिरफ्तार

सोने के आभूषणों में थी 70% चांदी

आरोपी ने पीड़ित को सोने के जो आभूषण दिए थे उसमें 70 प्रतिशत चांदी है। सोना महज पांच से दस प्रतिशत के बीच में था। कई धातुओं को मिलाकर उसने जेवर बनाए थे और बाद में उसमें सोने का लेप चढ़ाकर हॉलमार्क लगा दिया था। इसके दम पर वह कई व्यापारियों को चूना लगाता रहा। उसके हाथों ठगे गए व्यापारी अब परेशान हैं क्योकिं उनसे जेवर खरीदने वाले ग्राहक अब उनसे दूसरे जेवर देने का दबाव डाल रहे है।

Powered by Blogger.