REWA : सहकारी निरीक्षक और प्रभारी CEO 10 हजार रुपए की रिश्वत लेते ट्रेप : ऑडिट कार्य के बदले पहले भी 15 हजार रुपए ले चुके थे

रीवा लोकायुक्त पुलिस ने सहकारिता विभाग के दो भ्रष्टाचारी अधिकारियों को बेनकाब किया है। सूत्रों की मानें तो सहकारी निरीक्षक और प्रभारी सीईओ सहकारी उपभोक्‍ता भण्‍डार को 10 हजार रुपए की रिश्वत के साथ ट्रेप किया गया है। दावा है दोनों अधिकारी सहकारी समिति घुरेहटा की वर्ष 2020-21 की ऑडिट कार्य के बदले पहले भी 15 हजार रुपए ले चुके थे। फिर कुछ दिनों बाद 20 हजार रुपए और लेने की डिमांड की। कर्मचारी ने काफी कोशिश की। लेकिन बिना पैसे लिए काम करने को तैयार नहीं थे।

पैसों के लेनदेन को लेकर तीन आरोपियों ने मारी युवक को गोली : गंभीर रूप से संजय गाँधी के ICU में भर्ती

थक हारकर समिति प्रबंधक लोकायुक्त एसपी के पास शिकायत लेकर पहुंचा। जहां आवेदन का सत्यापन कराने पर शिकायत सही पाई गई। ऐसे में बुधवार की दोपहर उपभोक्ता केन्द्र में जाकर 10 हजार रुपए प्रभारी CEO को दिए। फिर प्रभारी CEO ने सहकारिता निरीक्षक से बात कर 10 हजार लेकर शिल्पी प्लाजा स्थित ए ब्लॉक पहुंचा। जहां लोकायुक्त ने रंगे हाथ पकड़ लिया है। लोकायुक्त टीम दोनों अधिकारियों को लेकर राजनिवास पहुंची है। जहां भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम के तहत मामला दर्ज कर लिया गया है।

ये है मामला

लोकायुक्त एसपी गोपाल सिंह धाकड़ ने बताया कि बुधवार की दोपहर सहायक समिति प्रबंधक घुरेहटा अशोक कुमार तिवारी पुत्र तेजराम तिवारी (49) निवासी घुरेहटा थाना मऊगंज की शिकायत पर आरोपी धीरेन्‍द्र सिंह सहकारी निरीक्षक, कार्यालय सहायक आयुक्‍त सहकारिता विभाग रीवा और उदयशंकर तिवारी प्रभारी मुख्‍य कार्यपालन अधिकारी सहकारी उपभोक्‍ता भण्‍डार मर्यादित रीवा को 10 हजार की रकम के साथ पकड़ा है।

शादी कार्यक्रम से लौट रहे युवक को बइक सवार बदमाशों ने मारी गोली, बीच चौराहे पर मचा हड़कंप

डीएसपी प्रवीण सिंह परिहार के मार्गदर्शन में कार्रवाई

समिति प्रबंधक अशोक कुमार तिवारी का आरोप है कि सहकारी समिति घुरेहटा वर्ष 2020-21 की ऑडिट कार्य के एवज में धीरेन्‍द्र सिंह 15000 रुपए पहले ले चुके है। उसके बाद भी 20000 रुपए मांग कर लगातार दबाव बना रहे थे। सत्यापन उपरांत शिकायत सही पाए जाने पर बुधवार की दोपहर लोकायुक्त एसपी ने ट्रैपिंग के लिए डीएसपी प्रवीण सिंह परिहार के मार्गदर्शन में डीएसपी राजेश पाठक, निरीक्षक प्रमेंद्र कुमार, उपनिरीक्षक रितुका शुक्ला, उपनिरीक्षक आकांक्षा पाण्‍डेय के नेतृत्व वाली 15 सदस्यीय टीम भेजी।

हवस का पुजारी पिता गिरफ्तार : 7 साल से एक बालिक और दूसरी नाबालिग बेटी कर रहा था रेप, नशे की हालत में पत्नी से भी करता

निरीक्षक के चक्कर में प्रभारी CEO भी निपटे

चर्चा है कि शिकायतकर्ता अशोक कुमार तिवारी समिति प्रबंधक ने उदयशंकर तिवारी प्रभारी CEO सहकारी उपभोक्‍ता भण्‍डार से मिलकर धीरेन्‍द्र सिंह सहकारी निरीक्षक कार्यालय सहायक आयुक्‍त सहकारिता विभाग रीवा का माध्यम खोजा था। ऐसे में पीड़ित समिति प्रबंधक 10 हजार रुपए लेकर प्रभारी CEO के पास गया था। जहां दूरभाष में चर्चा हो जाने के बाद निरीक्षक के पास प्रभारी CEO रिश्वत की रकम देने पहुंचा। जहां लोकायुक्त टीम ने धर दबोचा है।

Powered by Blogger.