REWA CORONA SOLDIER के काम को सलाम ,प्रशासन के साथ कदम से कदम मिलाकर तीन महीने से अब तक लगातार जरूरतमंदों तक सेवाएं दे रहे हैं


रीवा. कोरोना संकटकाल में गरीबों के सामने कई तरह से संकट आए हैं। मुसीबत की इस घड़ी में शहर के समाजसेवियों ने पूरी तन्मयता के साथ काम किया है। करीब तीन महीने का समय पूरा होने जा रहा है, लगातार अपना काम छोडक़र समाज के लिए काम कर रहे हैं। बता दें, मीडिया ने इन्हें कोरोना कम्युनिटी सोल्जर की संज्ञा से विभूषित करते हुए इनके प्रयासों को आमजन तक पहुंचाने को प्रदेश स्तरीय अभियान छेड़ रखा है।


बता दें कि जिस समय लॉकडाउन हुआ तब अचानक शहर की व्यवस्था प्रभावित होने लगी। दिहाड़ी श्रमिकों से लेकर गरीब तबके के लोगों के लिए भोजन का संकट उत्पन्न होने लगा। तब शहर के समाजसेवियों की टीमें सामने आईं। इन्होंने प्रशासन से बकायदे घर से बाहर निकलने की अनुमति मांगी और प्रशासन के साथ कदम से कदम मिलाकर जरूरतमंदों को सेवाएं दी। सिंधी समाज के लोगों ने सबसे पहले अपने घरों से भोजन के पैकेट तैयार कर दिहाड़ी श्रमिक जो लॉकडाउन में फंस गए थे, उन्हें वितरित कराना शुरू किया। धीरे-धीरे मदद का दायरा बढ़ता गया।


प्रशासन ने भी सिंधी समाज और विंध्य व्यापारी महासंघ से मदद मांगी और साथ में मिलकर लोगों को मदद पहुंचाने का अभियान तेज किया। करीब तीन महीने से अब तक इस टीम के लोग लगातार जरूरतमंदों तक सेवाएं दे रहे हैं। इसमें वे भोजन के पैकेट से लेकर मास्क, सेनेटाइजर का वितरण भी कर रहे हैं। कुछ दिन पहले ही बड़ी मात्रा में हाइवे से गुजरने वाले प्रवासी श्रमिकों को जूते-चप्पल, गमछा और कपड़ों का वितरण भी इनकी ओर से किया गया।


विंध्य व्यापारी महासंघ के अध्यक्ष नरेश काली 



मददगारों की टीम के सदस्य

इस टीम में प्रमुख रूप से सिंधी समाज के नरेश काली, प्रेमचंद बुधवानी, चंदीराम केसवानी, नानक पंजवानी, साधूमल माखीजा, रवि ठारवानी, सुधांशु पाठक, अमित ठारवानी, संदीप गुप्ता, मनीष गहोई, राजेश वाधवानी, पप्पू मजानी सहित अन्य हैं।


जरूरतमंदों के अंतिम संस्कार में कर रहे मदद
सिंधी समाज और विंध्य व्यापारी महासंघ की यह टीम उन गरीब लोगों की मदद कर रही है, जिनके पास आर्थिक रूप से कमियां होती हैं। अब तक करीब दर्जनों की संख्या में लोगों को मदद पहुंचा चुके हैं। दूसरे जिलों से संजयगांधी अस्पताल आने वाले गरीब परिवारों की भी मदद कर रहे हैं। कई ऐसे परिवार होते हैं जिनके सदस्यों की मौत के बाद घर तक शव को ले जाना मुश्किल होता है। साथ ही कई ऐसे लोग होते हैं जो शहर में ही अंतिम संस्कार करना चाहते हैं लेकिन उनके पास रुपयों की कमी होती है। तब उक्त संगठन के लोग पूरा खर्च उठा रहे हैं। यह शुरुआत कोरोना संक्रमण की वजह से लॉकडाउन प्रारंभ होने के समय की गई थी, जो अब तक लगातार जारी है।


पूरी कालोनी कोरोना कम्युनिटी सोल्जर की तरह जुटी
विंध्य व्यापारी महासंघ के अध्यक्ष नरेश काली बताते हैं कि लॉकडाउन के दौरान जरूरतमंदों को भोजन के पैकेट एवं खाद्यान्न वितरित करने का काम तो शुरू ही कराया था। साथ ही खुद की नगरिया कालोनी में रहने वाले लोगों को जिन्हें आवश्यकता थी, उन्हें भी मदद पहुंचाई। अब पूरी कालोनी के लोग ही अपनी ओर से लोगों को सेवाएं देने के लिए तैयार रहते हैं। कई ऐसे लोग हैं जो हर दिन किसी न किसी को मदद पहुंचाने का काम कर रहे हैं।



REWA NEWS MEDIA पढ़े ताजा ख़बरें, अभी Like करें और हमसे जुड़ें
रीवा, सिरमौर ,सेमरिया ,मनगवा, देवतलाब, मऊगंज ,गुढ व त्यौथर क्षेत्र की हर खबर सिर्फ  रीवा न्यूज़ मीडिया पर : VISIT NOW : www.rewanewsmedia.com

Powered by Blogger.