SATNA : पुलिस ने दिखाई मानवता : बस चालक ने मृतक की डेड बॉडी को बीच रास्ते में उतारकर हुआ फरार


सतना। नेशनल हाइवे 30 के बेला चौकी अंतर्गत मुख्य मार्ग में पड़े शव को पुलिस ने मानवता दिखाते हुए कोरोना प्रोटोकॉल के तहत अंतिम संस्कार कराया है। पुलिस की मानें तो गुजरात के राजकोट से यूपी के आजमगढ़ जा रही बस में एक व्यक्ति की मौत हो गई थी। ऐसे में शनिवार की सुबह करीब 10 बजे अज्ञात बस चालक ने मृतक की डेड बॉडी व उसके भतीजे को उतार कर फरार हो गया। आसपास के लोगों ने जब हाइवे में पड़ा हुआ शव देखा तो रामपुर बाघेलान थाने की बेला चौकी को सूचना दी।

निजी BSC नर्सिंग/GNM प्रशिक्षण केंद्रों की छात्राओं की हो सकेगी नियुक्ति; 20 हजार रुपए तक वेतन मिलेगा

जानकारी के बाद चौकी प्रभारी नरेन्द्र सिंह मौके पर पहुंंच गए। उन्होंने पीपीई​ किट पहनकर भतीजे से पूरी जानकारी ली। इसके बाद पंचनामा कार्रवाई करते हुए एंबुलेंस में शव को लदवाकर रामपुर बाघेलान सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र में ले जाकर पीएम कराया गया। फिर परिजनों की मौजूदगी में कोरोना प्रोटोकॉल के तहत अंतिम संस्कार कराया गया।

अच्छी खबर / अब तक 8341 कोरोना पीडि़त जंग जीतकर हुए स्वस्थ

ये है मामला

मिली जानकारी के मुताबिक 29 अप्रैल की शाम गुजरात के राजकोट से एक बस बुक होकर यूपी के आजमगढ़ जा रही थी। जिसमे तकरीबन 50 प्रवासी मजूदर पलायन कर अपने अपने घर लौट रहे थे। जिसमे केदार चौहान पिता झूरी चौहान उम्र 54 वर्ष निवासी चच्चुपुर थाना तरवा जिला आजमगढ व उसका भतीजा नीरज चौहान भी सवार था। दो दिन तक लगातार बस में यात्री सवार रहे, लेकिन तीसरे दिन की सुबह मतलब एक मई को जैसे ही बस जबलपुर से आगे बढ़ी तभी केदार चौहान को दिल का दौरा पड़ गया और उनकी मौत हो गई।

चल बेटे अब देख क्या होती है पुलिस; बड़ों-बडो की हवा निकाल देती हैं, बाहर निकले तो खैर नहीं : जगह जगह सख्त पुलिस बल तैनात

अन्य यात्रियों के विरोध के बाद उतारा गया शव

मृतक के भजीत की मानें तो कटनी के पास जैसे ही बस पहुंची तो बस में सवार अन्य यात्री कोरोना संक्रमित मानते हुए विरोध शुरू कर दिया। जबकि मृतक का भतीजा साथी मजदूरों से बार बार मिन्नतें व बिनती करता रहा। लेकिन कोई मानने को तैयार नहीं हुए। ऐसे में शनिवार की सुबह जैसे ही बस बेला बाइपास से आगे रीवा बॉर्डर स्थित केमार गांव के ओम फीलिंग पेट्रोल पंप के पास पहुंची तो चालक बस को रोककर डेड बॉडी को नीचे उतार कर आगे के लिए रवाना हो गया।

वैवाहिक आयोजन पर खलल : प्रतिबंध के बाद भी चोरी छिपे वैवाहिक रस्मे चालू , दूल्हा व दुल्हन के पिता समेत चार गिरफ्तार

एमपी पुलिस ने दिखाई मानवता

मृत डेड बॉडी के साथ हाइवे में खड़ा भतीजा अपनी नजर झुकाकर खड़ा था। ऐसे में आसपास के ग्रामीण एकत्र होकर पूरे मामले की सूचना रामपुर बाघेलान थाना व बेला पुलिस को दी। जानकारी के बाद बेला चौकी प्रभारी नरेन्द्र सिंह मय पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंचे। वे डेड बॉडी को कोरोना संक्रमित मानते हुए पीपीई किट पहनकर शव का पंचनामा कराया। इसके बाद पूरे घटनाक्रम की जानकारी मृतक के भतीजे से ली। फिर शव को विशेष एंबुलेंस से रामपुर बाघेलान सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र में ले जाकर पीएम कराया गया। जहां विधिवत कोरोना प्रोटोकॉल के तहत अंतिम संस्कार परिजनों के सामने कराया गया।

Powered by Blogger.