MP : फरिश्ता से कम नहीं सतना पुलिस, एक फोन पर रिटायर्ड कैप्टन को घर बैठे उपलब्ध कराई दवा

ख़बरों के बेहतर एक्सपीरिएंस के लिए डाउनलोड करें Rewa News Media ऐप, क्लिक करें

सतना। लॉकडाउन के कारण घरों में कैद बुजुर्गों के लिए सतना पुलिस की हेल्प योजना किसी बरदान से कम नहीं है। यहां रिटायर्ड आर्मी कैप्टन गोकरण प्रसाद पांडेय (80) निवासी सिद्धार्थनगर बुढ़ापे में अपने घर पर अकेले रहते थे। वहीं कोरोना कर्फ्यू की वजह से घर में रखी दवाईयां भी खत्म हो रही थी। साथ ही डायबटीज और ब्लैड प्रेशर के कारण घर से नहीं निकल पा रहे थें।

जबरदस्ती मायके से ले गए ससुराल/ महिला को पति और ससुरालवालों ने बनाया बंधक, न्यायालय ने पीड़िता को 5 साल के बेटे के साथ दी मायके में रहने की इजाजत

ऐसे में सोशल मीडिया और अखबारों के माध्यम से रिटायर्ड आर्मी कैप्टन को सतना पुलिस की सीनियर सिटीजन को दवा की होम डिलीवरी के नवाचार के बारे में पता चला। फिर क्या वे हेल्प लाइन नंबर 7587635847 में बात कर दवा का पर्चा व्हाट्सएप कर दिया।

​सतना जिले में ब्लैक फंगस का खतरा, चार मरीज आए सामने : रीवा मेडिकल कालेज में भर्ती

देखते ही देखते कुछ ही घंटों में साइबर सेल प्रभारी अ​जीत सिंह और कोलगवां थाने से प्रधान आरक्षक विनोद मिश्रा मेडिकल स्टोर से दवा लेकर बुजुर्ग के घर पहुंच गए। जैसे ही पुलिस ने दरवाजा खटखटाया तो पहले रिटायर्ड कैप्टन को भरोसा नहीं हुआ। लेकिन जब पुलिस ने दवा दिखाते हुए बिल थमाया तो उनकी आंखे भर आई।

घबराएं नहीं अपनाए योगासन के ये तरीके : शंख की ध्वनि से मजबूत होते हैं लंग्स, एक सांस में गुब्बारा फुलाएं, तो नहीं होगी ऑक्सीजन की कमी

उन्होंने पुलिस का ये रूप देखकर जमकर प्रशंसा करते हुए पीठ थप थपाते हुए सभी को आशीर्वाद भी दिया। साथ ही उन्होंने कहा कि अगर पुलिस इस तहर बुजुर्गों की मानवीय संवेदनाओं से जुड़ जाए तो जीवन का सफर आसान हो सकता है।

लॉकडाउन को लेकर कलेक्टर और एसपी सख्त : छतरपुर के बड़ा मलहरा से सीधी बारात लेकर जा रहे दुल्हे का काटा चालान

व्हाट्सएप नंबर 7587635847 पर भेज सकेंगे पर्चा

कोरोना महामारी के दौर में घर पर अकेले रहने वाले बुजुर्गों के लिए सतना पुलिस ने 11 मई को नवाचार करते हुए हेल्प डेस्क बनाई थी। यहां पर सीनियर सिटीजन को घर बैठे दवा पहुंचाने का कॉन्सेप्ट तैयार किया गया था। यह नेक पहल की शुरुअता एसपी धर्मवीर​ सिंह के नेतृत्व में साइबर सेल टीम को सौंपा गया था। पुलिस हेल्प लाइन नंबर 7587635847 व्हाट्सएप में पर्चा मंगवाती है। इसके बाद भरहुत नगर ​मोड स्थित सत्या मेडिकल को पुलिस व्हाट्सएप फारवर्ड कर देगी। वहां पर संबंधित दवा को निकालकर रख दिया जाता है। फिर संबंधित थाना पुलिस से संपर्क कर अकेले रहने वाले बुजुर्ग के घर पर दवा पहुंचा दी जाती है। सीनियर सिटीजन के घर पर पुलिस मेडिकल स्टोर से बिल लेकर जाती है। वहां पर बिल में लिखा पैसा बुजुर्गों से लेकर पुन: मेडिकल स्टोर में जमा कर दिया जाता है।

सतना में आंधी तूफान ने मचाई तबाही, आधा सैकड़ा पेड़ धराशायी : कई खरीदी केंद्रों में खुले में रखा लाखों क्विंटल गेहूं भीगा

ये पुलिस टीम कर रही हेल्प

हेल्प डेस्क में साइबर सेल प्रभारी अ​जीत सिंह के अलावा थाना कोलगवां से प्रधान आरक्षक विनोद मिश्रा, साइबर सेल के आरक्षक अजीत मिश्रा, थाना सिविल लाइन से विपिन शर्मा, थाना कोतवाली से शंकर दयाल त्रिपाठी को रखा गया है। एसपी के अनुसार हेल्प डेस्क का जिम्मा साइबर सेल प्रभारी को दिया गया है। उनके साथ शहर के थानों की पुलिस समन्वय बनाकर जरूरतमंद व्यक्तियों को दवा पहुंचाने और उनकी खैरियत लेने में मदद करेंगी। अब तक सतना पुलिस करीब 20 बुजुर्गों की मदद कर चुकी है।

अच्छी पहल : अकेले रहने वाले बुजुर्गों को घर तक पहुंचाएगी दवा, व्हाट्सएप नंबर 7587635847 पर भेज सकेंगे पर्चा

दूसरे राज्यों से आ रहे फोन

हेल्प डेस्क के अजीत मिश्रा ने बताया कि बुजुर्गों के लिए संकटमोचक बनी सतना पुलिस की हेल्प योजना का अच्छा रिस्पांस आ रहा है। अब तक हमारी टीम दो दर्जन से ज्यादा लोगों की मदद कर चुकी है। अब तो सोशल मीडिया के माध्यम से नंबर तलाश कर दूसरे राज्यों के मैसेज और फोन आ रहे है। वहीं मध्यप्रदेश के अन्य जिलों के लोग भी दवा मंगा रहे है। हालांकि ये योजना अभी सतना शहर के तीन थाना क्षेत्रों में चल रही है। आने वाले कल में कुछ अच्छा परिणाम और आ सकता है।

Powered by Blogger.