SATNA : कालाबाजारी करने वालों पर सख्ती / विंध्या इंजीनियरिंग का संचालक 25 हजार में बेच रहा था जंबाे सिलेंडर, 3 माह के लिए जेल भेजा

सतना। कोरोना संकट में ऑक्सीजन सिलेंडर, इंजेक्शन और दवाओं की कालाबाजारी करने वालों पर सख्ती तेज हो गई है। सतना में ऑक्सीजन सिलेंडर की काला बाजारी करने वाले विंध्या इंजीनियरिंग के संचालक को तीन माह के लिए जेल भेज दिया गया है। संचालक राजीव जैन पर 25 हजार रुपए में ऑक्सीजन सिलेंडर बेचने का आरोप था। छापे में 600 से ज्यादा छोटे और जंबो सिलेंडर प्रशासन को मिले थे।

बोरिंग को लेकर दो पक्षों में विवाद के चलते लाइसेंसी बंदूक से रिटायर्ड फौजी की गोली मारकर हत्या

एसपी के प्रतिवेदन पर जिला मजिस्ट्रेट ने आरोपी राजीव जैन को 3 माह की कैद के लिए आदेश दिया है। आरोपी ने अदालत के समझ जमानत याचिका लगाई थी। मगर कोर्ट ने याचिका ठुकरा दी थी। न्यायिक दंडाधिकारी प्रथम श्रेणी राजकुमार त्रिपाठी की अदालत ने 13 मई तक न्यायिक अभिरक्षा में भेजा है।

नहीं थम रही ऑक्सीजन की कालाबाजारी : विंध्य इंजीनियरिंग कंपनी में छापा : 300 से अधिक सिलिंडर जब्त

बता दें कि दो मई को कोरोना महामारी के बीच बड़े स्तर पर कलेक्टर अजय कटेसरिया को आक्सीजन सिलेंडरों के जमाखोरी की सूचना मिली थी। शिकायतकर्ता ने बताया था कि मुनाफाखोरी के लिए विंध्या इंजीनियरिंग का संचालक राजीव जैन अपने स्तर पर मनमाने रेट निर्धारित किया है। वह लोगों की मजबूरियों का फायदा उठा रहा है। ऐसे में कलेक्टर ने जिला प्रशासन और पुलिस की टीम बनाकर छापा मार कार्रवाई की। जहां कोलगवां स्थित विंध्या इंजीनियरिंग फर्म की गोदाम में दबिश दी गई।

सतना के BJP विधायक जुगल किशोर के निधन की उडी अफवाह, भोपाल के बंसल अस्पताल में भर्ती, हालत स्थिर

छापे में यह मिला था

जिला प्रशासन, पुलिस, ड्रग इंस्पेक्टर और नगर निगम की संयुक्त टीम ने दबिश दी। गोदाम से ऑक्सीजन के छोटे बड़े 661 सिलेंडर बरामद किए गए। इस सिलेंडरों में सर्वाधिक ऑक्सीजन के 571 जंबो सिलेंडर मिले थे। यहां आरोपी जरूरतमंदों को मजबूरी का फायदा उठाकर 25 हजार में ऑक्सीजन सिलेंडर और 7 हजार रुपए में किट बेचा करता था।

NH-30 पर भीषण सड़क हादसा : बस और ट्रैक्टर की आमने-सामने से जोरदार भिड़ंत, एक युवक की मौत 16 लोग घायल

राशि तो ली पर नहीं दिया सिलेंडर

विंध्या इंजीनियरिंग के संचालक राजीव जैन को भनक थी कि उसपर नजर रखी जा रही है। ऐसे में पैसे लेने के बाद उसने मरीज के परिजन को डिलीवरी देने से मना कर दिया। परिजन ने इसकी शिकायत कलेक्टर से कर दी।

Powered by Blogger.