MP : आज से रीवा- सतना समेत कई जगहों में रुक-रुककर तीन-चार दिन तक बारिश का सिलसिला शुरू

भोपाल, जबलपुर। मानसून ट्रफ अपनी सामान्य स्थिति में आ गया है। मध्यप्रदेश के मध्य से भी एक अन्य ट्रफ तमिलनाडू तक बना हुआ है। हवा का रुख भी दक्षिण-पश्चिमी हो गया है। इस वजह से मिल रही नमी से प्रदेश में बादल छाने लगे हैं। साथ ही कई स्थानों पर गरज-चमक के साथ बौछारें पड़ने लगी हैं। मौसम विज्ञानियों के मुताबिक सोमवार से तीन-चार दिन तक प्रदेश में रुक-रुककर बारिश का सिलसिला शुरू होने के आसार हैं। इस दौरान कहीं-कहीं तेज बौछारें भी पड़ सकती हैं। वहीं महाकोशल-विंध्य के कई जिलों में जमकर बरसे बादल

गुढ़ के पूर्वा गांव में एक व्यक्ति पर आधा दर्जन लोगों ने किया कुल्हाड़ी से हमला

उधर, रविवार को राजधानी में कहीं-कहीं बौछारें पड़ीं। इसके अलावा रविवार सुबह साढ़े आठ बजे से शाम साढ़े पांच बजे तक सतना में 49, रायसेन में 29, इंदौर में 9.8, पचमढ़ी में नौ, जबलपुर में 8.2, दमोह और खरगोन में सात, नरसिंहपुर और गुना में छह, धार में चार, बैतूल और सागर में दो मिलीमीटर बारिश हुई।

कालेजों में एक अगस्त से शुरू होगा प्रवेश : इस बार भी रहेगी आनलाइन प्रवेश से जुड़ी सारी प्रक्रिया

मौसम विज्ञान केंद्र से मिली जानकारी के मुताबिक रविवार को राजधानी में अधिकतम तापमान 35.3 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। यह सामान्य से पांच डिग्रीसे. अधिक रहा। साथ ही शनिवार के अधिकतम तापमान (35.3 डिग्रीसे.) की तुलना में एक डिग्रीसे. कम रहा। मौसम विज्ञानी जेपी विश्वकर्मा ने बताया कि हवा के साथ लगातार मिल रही नमी से बादल छाने लगे हैं। बादलों के कारण अधिकतम तापमान में गिरावट दर्ज होने लगी है।

बेवफाई की वजह से हत्या : अवैध संबंधों के शक में पति ने पत्नी की पत्थर से कुचलकर कर दी हत्या

इन क्षेत्रों में बारिश के आसार

जेपी विश्वकर्मा के मुताबिक सोमवार-मंगलवार को होशंगाबाद, ग्वालियर, एवं चंबल संभाग के जिलों में तेज बौछारें पड़ने के आसार हैं। सागर, रीवा, जबलपुर, शहडोल, उज्जैन, इंदौर, भोपाल संभाग के जिलों में भी कहीं -कहीं गरज-चमक के साथ बारिश होने की संभावना है।

परिवार वालों ने शादीशुदा युवक से छात्रा के बिना मर्जी जबरजस्ती करवा दी शादी तो लड़की ने पति पर ही रेप का केस दर्ज करा दिया

कम दबाव का क्षेत्र बनने से बढ़ेगी बारिश की गतिविधि

मौसम विज्ञान केंद्र के पूर्व वरिष्ठ मौसम विज्ञानी अजय शुक्ला ने बताया कि मानसून ट्रफ सामान्य स्थिति में आ गया है। वर्तमान में वह राजस्थान से उत्तरप्रदेश होते हुए नगालैंड तक जा रहा है। इसका एक छोर सोमवार को बंगाल की खाड़ी में पहुंच सकता है। इससे बारिश की गतिविधियां और बढ़ेंगी। उधर, 23 जुलाई को बंगाल की खाड़ी में बनने जा रहे कम दबाव के क्षेत्र के असर से सोमवार से तीन-चार दिन तक प्रदेश के विभिन्ना जिलों में बरसात का सिलसिला बना रह सकता है।

भोपाल से वाराणसी- गांधीनगर के बीच सुपरफास्ट एक्सप्रेस ट्रेन का संचालन 21 जुलाई से शुरू : कन्फर्म टिकट के यात्रियों को अनुमति

कटनी, सतना, मंडला, डिंडौरी, दमोह और रीवा में झमाझम

जबलपुर (रीजनल टीम)। मानसून आने के एक माह बाद महाकोशल-विंध्य में बारिश का इंतजार समाप्त हो गया। रविवार को जुलाई माह में पहली बार झमाझम बारिश हुई। कटनी, सतना, मंडला, डिंडौरी, दमोह और रीवा जिलों में अच्छी बारिश की खबर है। इससे लोगों को गर्मी और उमस से राहत मिली।

24 घंटों में रीवा जिले सहित इन जगहों में भारी बारिश की चेतावनी : रेड अलर्ट जारी

कटनी में करीब एक घंटे की तेज बारिश से शहर की सड़कें लबालब हो गईं। सतना, मंडला, डिंडौरी, दमोह, रीवा में इस बारिश से सूख रहे खेत-खलिहानों को पानी मिला। सतना में दोपहर बाद शुरू हुई झमाझम बारिश से जहां शहर तरबतर हो गया, वहीं बच्चों ने भी झमाझम बरसात का खूब मजा लिया। अनूपपुर में दोपहर तीन बजे से बारिश का जो सिलसिला शुरू हुआ, वह शाम तक जारी रहा। इधर शहडोल, नरसिंहपुर और उमरिया में रिमझिम बारिश हुई है।

Powered by Blogger.