REWA : गलत संगत में पड़ा CA स्टूडेंट : फरियादी ही निकला आरोपी, स्वयं रची थी फर्जी लूट की कहानी : ऐसे हुआ 3.50 लाख की लूट का खुलासा

ख़बरों के बेहतर एक्सपीरिएंस के लिए डाउनलोड करें Rewa News Media ऐप, क्लिक करें

रीवा। बैकुंठपुर थाना क्षेत्र के कठमना गांव में 3.50 लाख की लूट का खुलासा हो गया है। अर्पित गुप्ता (21) निवासी मनगंवा CA का स्टूडेंट है। परिवार ने खाद बीज की दुकान की 25 लाख की इंश्योरेंस पॉलिसी ले रखी थी। इंदौर में रहते समय वह गलत संगत में पड़ गया था। उस पर कर्ज भी हो गया था। ऐसे में उसने लूट के पैसे से कर्ज चुकाने के लिए लूट की कहानी गढ़ दी। उसने पैसे घर में ही छिपा दिए थे। पुलिस के सवालों के जाल में वह उलझ गया और जुर्म कबूल कर लिया।

तेज रफ्तार कार को बचाने रीवा के सेमरिया से सतना आ रही यात्री बस बेकाबू होकर पलटी, 16 यात्री घायल, 7 गंभीर

22 जुलाई को अर्पित गुप्ता ने शिकायत की थी कि वह बैकुंठपुर से खाद-बीज के साढ़े तीन लाख रुपए लेकर घर मनगंवा जा रहा था। इसी बीच कठमना गांव के पास रोड पर अज्ञात 4 नकाबपोश बदमाश उसके साथ मारपीट कर रुपयों से भरा बैग छीन लिया। इस पर पुलिस टीमों ने एएसपी, सिरमौर एसडीओपी, बैकुण्ठपुर थाना प्रभारी के नेतृत्व में कार्य करना शुरू की।

कल होगी दो पालियों में MPPSC की प्रारंभिक परीक्षा, यह न ले जाएं? : क्या ध्यान रखें

ऐसे हुआ खुलासा

दरअस, लूट के बाद से ही पुलिस को पीड़ित पर अंदेशा था। क्योंकि पुलिस के आला अधिकारियों ने आसपास के सीसीटीवी फुटेज, पूर्व के बदमाशों से पूछताछ, साइबर सेल की मदद, मोबाइल नेटवर्क का आना-जाना, कॉल डिटेल्स सहित हर पहलू पर जांच की। साथ ही व्यापारी से पूछताछ कर रही थी। सिल-सिलेवार लगातार उससे पूछताछ की, जिससे वह अपने ही जवाबों में उलझ गया। कभी कहता उसने घटनास्थल पर बगल से निकलने की कोशिश की। कभी कहता गाड़ी 10 मीटर दूर खड़ी कर दी थी, तभी रुपयों से भरा बैग छीन लिया गया।

कोर्ट मैरिज करने पहुंचे प्रेमी जोड़े : युवती को कलेक्ट्रेट से उठा ले गए परिजन : बचाने पहुंचा प्रेमी तो परिजनों ने उसे भी पीटा

लूट की वारदात से सनसनी:रीवा जिले में दिन दहाड़े खाद-बीज के व्यापारी से 3.50 लाख की लूट, 4 नकाबपोश बदमाशों ने दो चांटा मार कर छुड़ा लिया रुपयों से भरा झोला

रीवा के भूल-भुलैया जंगल में 3 दिन से गहरी खाई में फंसा था युवक, 300 फिट की गहराई से यूवक को जिंदा बाहर निकाला

दूसरी ओर पीड़ित के बताए अनुसार घटना के ठीक पूर्व व ठीक बाद किसी से बात नहीं की। काॅल डिटेल्स से पाया गया कि वह लगातार अपने परिचितों से बात कर रहा था। उसके साथ मारपीट की गई, लेकिन चोट के निशान नहीं थे। घटना की जानकारी परिजन को नहीं दी, बल्कि घर पहुंचकर जानकारी दी, जबकि पीड़ित के पास फोन था। ऐसे में पूछताछ करते समय उसने जुर्म कबूल कर लिया। पुलिस ने रुपए भी बरामद कर लिए।

रतहरा-चोरहटा मार्ग पर चलना हुआ दूभर, अधूरी मॉडल रोड एक्सीडेंट जोन में तब्दील : आए दिन दो पहिया वाहन चालक गिरकर रहें घायल

लेना चाहता था क्लेम का पैसा

फर्जी लूट की कहानी रचने वाला व्यापारी इंदौर में रहकर चार्टेड अकाउंटेंट की पढ़ाई करता था। वह इंश्योरेंस क्लेम आदि से परिचित था। इसीलिए उसने अपनी दुकान की 25 लाख की इंश्योरेंस पॉलिसी ले रखी थी। इसमें 5 लाख का इंश्योरेंस कैश इन मोवेंट ​शामिल है। यानी फरियादी द्वारा 5 लाख रुपए कैश ले जाते समय उसके पैसे चोरी या छीन लिए जाते हैं, तब इंश्योरेंस कंपनी FIR के आधार पर कुल राशि का 10-15 प्रतिशत काटकर बाकी पैसे उसे दे देती। इंश्योरेंस पॉलिसी के पैसों को हड़पने के लालच में आकर उसने फर्जी लूट की कहानी रच दी।

Powered by Blogger.