GOOD NEWS : कोरोना वैक्सीन की 1 डोज ले चुके लोगों में मौत का खतरा 92% घटा.. दोनों खुराक ली तो.. 98%, STUDY में दावा

नई दिल्ली। कोरोना वैक्सीन से जुड़ी एक सुकून देने वाली जानकारी सामने आई है। कोरोना वैक्सीन की दोनों डोज महामारी से होने वाली मौत के खतरे को 98 फीसदी कम कर देती हैं जबकि एक डोज करीब 92 फीसदी बचाव करती है। सरकार ने पंजाब में पुलिसकर्मियों पर किए गए एक अध्ययन का हवाला देते हुए शुक्रवार को यह बात कही।

PM CARE FUND : शिवराज सरकार की मंत्री का बड़ा बयान, फ्री में वैक्सीन लगवाने वाले सक्षम लोग पीएम केयर फंड में 500 रुपए दान करें'

पुलिसकर्मियों पर यह अध्ययन चंडीगढ़ स्थित स्नातकोत्तर चिकित्सा शिक्षा एवं अनुसंधान संस्थान ने पंजाब सरकार के साथ मिलकर किया है।

12 साल पहले लव मैरिज की थी : रोज-रोज की तू-तू- मैं-मैं से तंग आकर पति ने लैपटॉप के वायर से पत्नी का घोंटा गला

प्रेस कांफ्रेंस में अध्ययन के आंकड़े साझा करते हुए नीति आयोग के सदस्य (स्वास्थ्य) डा. वीके पाल ने कहा कि 4,868 पुलिसकर्मियों को टीका नहीं लगा था और उनमें से 15 की कोरोना वायरस संक्रमण के कारण मौत हो गई, जो प्रति हजार 3.08 मामले हैं।

ब्लैक फंगस के मरीजों को अब नई परेशानी; जबड़े की हड्‌डी सड़ रहीं, हमीदिया में 20 से ज्यादा मामले आए सामने , कई के जबड़े काटकर अलग करना पड़ा

टीके की पहली डोज ले चुके 35,856 पुलिसकर्मियों में से नौ की मौत हो गई यह आंकड़ा प्रति हजार 0.25 का है। वहीं वैक्सीन की दोनों डोज लेने वाले कुल 42,720 पुलिसकर्मियों में से सिर्फ दो की मौत हुई जो प्रतिहजार 0.05 मामलों के बराबर है।

घर का सपना आसमान पर : MP में रजिस्ट्री पर सबसे ज्यादा शुल्क, 31 जुलाई तक पुरानी गाइडलाइन पर होगी रजिस्ट्री

पाल ने कहा, 'पुलिसकर्मी उच्च जोखिम वाले समूह में आते हैं। इन आंकड़ों से हमनें पाया कि कोरोनारोधी टीके की एक डोज मृत्यु से 92 प्रतिशत सुरक्षा देती है जबकि दोनों डोज 98 प्रतिशत सुरक्षा देती हैं।'

Powered by Blogger.