REWA : कांग्रेस पार्टी की ओर से अब तक पार्षद प्रत्याशियों की घोषणा नहीं, बडे़ नेताओं ने चहेतो को टिकट दिलाने झोंक दी ताकत

मध्य प्रदेश निर्वाचन आयोग ने निकाय चुनाव के लिए नामांकन पर्चा दाखिल करने 18 जून की तारीख अंतिम तारीफ निर्धारित की है और इस तारीख के लिए सिर्फ और सिर्फ 2 दिन का ही समय बचा हैए ऐसे में पार्षद प्रत्याशियों नामांकन पर्चा दाखिल करने की चिंता सता रही।

नकली सीमेंट की कंपनी पर पुलिस की बड़ी कार्यवाही, 3 ट्रक, 2 बल्कर, 1 पिकअप, 2500 बोरी सीमेंट सहित करोड़ों का माल जब्त

दरअसल रीवा जिले में कांग्रेस पार्टी की ओर से अब तक पार्षद प्रत्याशियों की घोषणा नहीं की गई है माना जा रहा है कि पार्षद प्रत्याशियों की घोषणा को लेकर कांग्रेस में अंतर्कलह मची हुई है और इसी अंतर्कलह के डर से कांग्रेस प्रत्याशियों की घोषणा नहीं कर पा रही है।

अपने सैकड़ों समर्थकों के साथ अजय मिश्रा 'बाबा' ने शुभ मुर्हूत पर भरा महापौर का पर्चा

कांग्रेस सूत्रों की माने तो पार्टी के कुछ बड़े नेताओं ने अपनी ही पार्टी के जमीनी और सक्रिय कार्यकर्ताओं की जगह अपने चहेतों को वार्ड पार्षद का टिकट दिलाने के लिए पूरी ताकत झोंक दी है ऐसे में पार्टी के अंदर घमासान की स्थिति निर्मित है और पार्टी खुद पार्षद प्रत्याशियों की घोषणा करने में असमंजस में फंसी हुई है। इधर पार्टी के ही कुछ कार्यकर्ताओं में प्रत्याशियों की घोषणा होने से पहले ही पार्षद पद की दावेदारी करने वालों में असंतोष व्याप्त है और वह सोशल मीडिया में अपना आक्रोश भी व्यक्त कर रहे है। बहरहाल अब देखना यह है कि नामांकन जमा करने के लिए महज 2 दिन का समय ही बचा हुआ है ऐसे में कांग्रेस पार्टी प्रत्याशियों की घोषणा कब करती है।

UPSC छात्रा का सुसाइड मामला : BF को फ़ोन करके कहा- मैं प्रेग्नेंट हूं, .... फिर ट्रेजरी अफसर ने

महापौरी में जल्दी लेकिन पार्षदी में देरी क्यों…


बता दें कि कांग्रेस ने महापौर प्रत्याशी के नाम की घोषणा करने में जरा भी देर नहीं लगाई और भारतीय जनता पार्टी से पहले ही रीवा नगर निगम के लिए महापौर प्रत्याशी के रूप में अजय मिश्रा बाबा के नाम की घोषणा कर दिया था जिसके कई दिनों बाद बीजेपी ने अपने प्रत्याशी का नाम घोषित किया लेकिन बीजेपी ने पार्षद प्रत्याशियों की घोषणा करने में जरा भी देरी नहीं की और बुधवार को ही भाजपा ने नगर निगम के सभी 45 वार्डों के पार्षद प्रत्याशियों की सूची जारी कर उनके नामों की घोषणा कर दी है लेकिन कांग्रेस का अब तक सूची जारी नहीं करना कहीं ना कहीं आपसी सामंजस्य का ना होना माना जा रहा है।

रीवा के इस गांव में हेलीकॉप्टर नहीं तो वोट नहीं, आजादी के 75 साल बाद भी नहीं बन पाई सड़क

पार्टी के वादों फिरा पानी

बताया जा रहा है कि कांग्रेस पार्टी शुरू से ही अपने सक्रिय कार्यकर्ताओं और जमीनी नेताओं पर ही विश्वास जताकर उन्हें पार्षद पद का टिकट देने का वादा किया था और पार्टी अपना वादा पूरा करने ही जा रही थी लेकिन पार्टी के ही कुछ बड़े नेता पार्टी के इस मंसूबे में पानी फेरते हुए अपने चहेतों को टिकट दिलाने की होड़ में जुट गए और इन नेताओं ने अपनी पूरी ताकत झोंकते हुए पार्टी द्वारा तैयार की गई लिस्ट में बड़ा फेरबदल करा दिया। हालांकि कांग्रेस ने अब तक पार्षद प्रत्याशियों की लिस्ट जारी नहीं की है लेकिन कांग्रेस का प्रत्याशियों की घोषणा में देरी करना कहीं ना कहीं अंतर्कलह माना जा रहा है बहरहाल अब देखना यह है कि कांग्रेस पार्टी की ओर से पार्षद प्रत्याशियों की घोषणा कब की जाती है।

Powered by Blogger.