SIDHI : तेजी से बढ़ रहा कोरोना डॉक्टर हों, इंजीनियर हों, बैंककर्मी हों या फौजी : हर आयु वर्ग संक्रमण की जद में


सीधी. जिले में कोरोना का संक्रमण तेज होता ही जा रहा है। हर तबका इसकी गिरफ्त में आने लगा है। चाहे वह डॉक्टर हों, इंजीनियर हों, बैंककर्मी हों या फौजी। सीमेंट फैक्ट्री के वर्कर और पत्रकार भी कोरोना संक्रमण से जूझ रहे हैं। शुक्रवार को मिली रिपोर्ट में 12 नए पाजटिव पाये गये हैं जिसमें एक पत्रकार के साथ तीन वर्षीय बच्ची भी शामिल है।


बता दें कि जिले में कोरोना का आंकड़ा अब 300 के करीब पहुंच गया है। इस बीच अच्छी खबर यह है कि हर दो-तीन दिन में कोरोना को मात दे कर घर लौटने वालों की संख्या भी ठीक-ठाक है। कोरोना का आंकड़ा जहां वर्तमान में 292 पर पहुंच गया है वहीं 218 लोग संक्रमित होने के बाद स्वस्थ्य होकर घर जा चुके हैं। कोरोना के एक्टिव केस की संख्या 72 बताई जा रही है।


शुक्रवार को एक वेब चैनल के पत्रकार के संक्रमित पाए जाने के बाद उनके सम्पर्क में रहने वाले दूसरे पत्रकारो के भी संक्रमित होने की आशंका जताई जा रही है। वैसे प्रशासन की ओर से पत्रकारों के लिए कैंप लगा कर कोरोना टेस्टिंग कराई गई थी जिसमें सभी की रिपोर्ट निगेटिव आई थी।

इस संबंध में मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. बीएल मिश्रा ने बताया कि रीवा मेडिकल कॉलेज वायरोलॉजी लैब से 405 की रिपोर्ट प्राप्त हुई है जिनमें से 9 व्यक्ति कोरोना संक्रमित पाए गए हैं वहीं सीधी में ट्रू नॉट लैब से प्राप्त रिपोर्ट में 3 व्यक्ति कोरोना संक्रमित पाए गए हैं। उन्होंने बताया कि हालिया कोरोना रिपोर्ट में तीन साल की बच्ची से लेकर 75 वर्ष तक के वृद्ध तक की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। सभी को आइसोलेशन वार्ड में भर्ती कराया गया है। इनके संपर्कियों को तलाश कर उनकी जांच कराने और रिपोर्ट आने तक क्वारंटीन रहने की सलाह दी गई है।


मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. बीएल मिश्रा
सीएमएचओ डॉ. मिश्रा के अनुसार बुधवार की देर रात 2 पाजटिव मिले जबकि गुरूवार की सुबह 8 पाजटिव मिले हैं। नये पाजटिव मरीजों में सीमेंट फैक्ट्री में काम करने वाले रीवा जिला निवासी कर्मचारी की रिपोर्ट पाजटिव आने के बाद रीवा प्रशासन को वहीं भर्ती करने कहा गया है। जम्मू कश्मीर से आए एक फौजी की रिपोर्ट पाजटिव मिली है जबकि बंजारी गांव के पिता-पुत्र संक्रमित मिले हैं। आसाम से आई शहर निवासी महिला की भी रिपोर्ट पाजटिव आई है। नये रिपोर्ट में तीन स्वास्थ्य विभाग से संबंधित बताये जा रहे हैं। इसमें से एक ब्लड बैंक का कर्मचारी तो दूसरा एनएचएम में कार्यरत डाटा इन्ट्री आपरेटर जो सेमरिया में पदस्थ हैं और एक अन्य स्वास्थ्य विभाग कर्मचारी की रिपोर्ट पाजटिव आई है।


मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी ने बताया कि कोरोना संक्रमण से स्वस्थ होने के बाद 5 लोगों को डिस्चार्ज कर दिया गया है। इन्हें होम आइसोलेशन में एक सप्ताह के रहने के लिए कहा गया है। साथ ही जरूरी दवाएं भी दी गई हैं। बताया कि अब तक जिले में कुल 292 लोग कोरोना से संक्रमित हो चुके हैं। इसमें से अब तक 218 व्यक्तियों को स्वस्थ होने के बाद डिस्चार्ज किया जा चुका है। फिलहाल कुल एक्टिव केस 72 हो गए हैं।


सीएमएचओ ने कहा कि अधिकांश कोरोना पाजटिव 10 दिन के बाद ही स्वस्थ्य होकर घर रवाना हो रहे हैं। उन्होंने कहा कि समस्या उनसे हो रही है जो संक्रमण के लक्षण को जानने के बाद भी कोरोना टेस्ट नहीं करा रहे अथवा भर्ती होने में देरी कर रहे हैं। लेट-लतीफी के कारण संक्रमण ज्यादा दिनों तक खिच रहा है। उन्होंने सलाह दी कि बेहतर होगा कि सर्दी, खांसी, बुखार के लक्षण यदि दिखें तो शीघ्र जांच करा लें ताकि उपचार शुरू हो जाय। ऐसे में किसी तरह की समस्या नहीं आएगी। डॉ. मिश्रा ने बताया कि अभी तक मिले कोरोना पाजटिव मरीजों में केवल तीन ही गंभीर होने पर रीवा भेजे गए हैं जबकि अन्य सामान्य उपचार से ही स्वस्थ्य होकर घर रवाना हुए हैं।


Powered by Blogger.