REWA : सावधान जरा देखे के चलें ! ठेका कंपनियों की मनमानी आम लोगों को परेशानी : नालियां और गड्ढे दुर्घटनाओं को दे रहे आमंत्रण


ऋतुराज द्विवेदी,रीवा। शहर में चल रहे कुछ प्रमुख विकास कार्यों की वजह से लोगों को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। इसमें प्रशासनिक उदासीनता और संबंधित ठेका कंपनियों की मनमानी हावी होने के चलते आम लोगों को परेशानी हो रही है, साथ ही खतरा भी बना रहता है। इनदिनों गैस पाइपलाइन के कार्य ने एक बार फिर से तेजी पकड़ी है।

 
जिसकी वजह से शहर के मुख्य मार्ग को कई स्थानों पर खोदा गया है। रतहरा से लेकर कालेज चौराहे तक कई जगह सड़क खोदी गई है, नाली खोदकर ठेकेदार ने छोड़ रखा है। कुछ जगह पाइप भी डाली गई है लेकिन उसे मिट्टी से ढंका नहीं गया है। इतना नहीं करीब छह से सात फिट तक गहराई की इस नाले के किनारे से आवागमन भी निर्वाध रूप से चल रहा है। इन स्थानों पर सुरक्षा व्यवस्था के कोई इंतजाम नहीं किए गए हैं। कभी भी हादसा हो सकता है। सिरमौर चौराहे में फ्लाइओवर के हिस्से में भी सड़क पर नाली खोद दी गई है। प्रशासन ने न तो इसके नजदीक से चल रहे ट्रैफिक को रोका और न ही किसी तरह के वेरीकेटिंग या सूचना बोर्ड ही लगाया गया है। इस कारण दुर्घटनाएं भी बढ़ रही हैं। जानकारी मिली है कि कई दोपहिया वाहन चालक दुर्घटनाग्रस्त हो चुके हैं, साथ ही पैदल चलने भी गिर चुके हैं। इसके बाद भी व्यवस्था नहीं बनाई जा रही है। 


शहर में गैस पाइपलाइन के लिए खोदे गए गढ्डे में  महिला गिरी आई गंभीर चोट
निर्माण कार्य करा रही एजेंसी की लापरवाही के चलते बड़ी दुर्घटना टली।  शहर में गैस पाइपलाइन का कार्य करा रही निर्माण एजेंसी की लापरवाही आई सामने पूरे शहर में खोद रखे है जानलेबा गढ्ढे ,पी के स्कूल ओवर ब्रिज के पास से खोदे गए गढ्ढे में एक महिला अचानक गिर गई जिसे सड़कों पर चल रहे राहगीरों की मदत से बाहर निकाल लिया गया।महिला के सिर हाथ और कमर में गंभीर चोट आई जिसे स्थानीय लोगो ने संजय गांधी हास्पिटल पहुँचया। महिला ने बताया की मैं हॉस्पिटल जा रही थी जैसे ही ऑटो से उतरी की सड़क के किनारे खोदे गए जानलेबा गड्ढे में अचानक पैर फिसल गया जिसकी बजह से 5 फिट से ज्यादा खोदे गए गहरे गड्ढे में जा गिरी। 




आखिर निर्माण एजेंसी को किसी भी अधिकारी का खौफ क्यो नही जो पिछले 10 दिनों से पीके स्कूल से लेकरके कॉलेज चौक तक मौत के कुएं को यू ही खोदकर छोड़ दिया है । जिससे शहर का पूरा आबागमन भी प्रभावित हो रहा है लोगो को काफी परेसानियो का सामना करना पर रहा है आखिर इन सबका जिम्मेदार कौन । निर्माण करा रही निर्माण एजेंसी की घोर लापरवाही सामने आई है अगर इसी तरह गढ्ढे को खुला छोड़ दिया गया तो किसी दिन बड़ी अप्रिय घटना घट सकती हैं।


कलेक्टर के निर्देश को भी हवा में उड़ाया
कुछ दिन पहले ही शहर के निर्माण कार्यों के तौर तरीके पर कलेक्टर इलैयाराजा टी ने नाराजगी जाहिर की थी। साथ ही कहा था कि जो टारगेट है उसके अनुसार कार्य किए जाएं लेकिन सुरक्षा के पूरे इंतजाम होने चाहिए। जहां पर कार्य चल रहे हैं वहां सूचना बोर्ड और वेरीकेटिंग भी हो ताकि लोग सतर्क हो सकें। शहर के पीके स्कूल से लेकर कालेज चौराहे तक फ्लाइओवर के किनारे सड़क खोदी गई है, उसके किनारे ट्रैफिक भी चल रहा है, दुकानें भी लगी हुई हैं। इस तरह से कभी भी हादसा हो सकता है।


सीवरेज ठेकेदार ने लगाए सूचना बोर्ड
इसके पहले सीवरेज प्रोजेक्ट के कार्यों में व्यापक पैमाने पर मनमानी की शिकायतें आ रही थी। उस ठेकेदार को भी कलेक्टर ने फटकार लगाई थी और सुरक्षा व्यवस्था की अनदेखी पर सख्ती के निर्देश दिए थे। जिसके चलते कंपनी ने अब कई जगह पर सूचना बोर्ड लगवा दिया है कि यहां पर कार्य चल रहा है। साथ ही कुछ जगह पर वेरीकेट्स भी लगाए हैं। हालांकि अभी और बेहतर व्यवस्था की मांग लोगों ने उठाई है।

हमारी लेटेस्ट खबरों से अपडेट्स रहने के लिए सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर भी जुड़ें:

FacebookInstagramGoogle News ,Twitter

मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ जुड़े हमसे

Powered by Blogger.