MP : 20 करोड़ रुपए की ऑनलाइन ठगी : इंजीनियरिंग की पढ़ाई करने के बाद रेलवे में सब इंजीनियर पद पर लगी नौकरी, फिर जो हुआ सुनकर उड़ जाएंगे आपके होश

20 करोड़ रुपए की ऑनलाइन ठगी मामले में बड़ा खुलासा हुआ है। पूछताछ के दौरान बालाघाट के दो आरोपियों की गिरोह में अहम भूमिका होने की बात सामने आई है। भटेरा और किरनापुर से पुलिस के शिकंजे में आया मनोज (35) पिता टुंडीलाल राणा, हुकुम सिंह (28) पुत्र योगीराज बिसेन आपस में जीजा-साले हैं। दोनों वर्ष 2019 से नेटवर्क से जुड़कर फर्जीवाड़ा कर रहे थे। भोपाल में इंजीनियरिंग की पढ़ाई पूरी करने के बाद पिछले वर्ष ही हुकुम की रेलवे में सब इंजीनियर पद पर नौकरी लगी थी। वह नागपुर रेलवे में था, लेकिन जल्द अमीर बनने की चाहत ने ठग बन गया।

सराफा बाज़ारों में अब ग्राहकों की चहल पहल शुरू : सोना इतने रुपये तक घटा तो दूसरी ओर चांदी अंतरराष्ट्रीय बाजार में हुई मजबूत

गिरोह के 13 सदस्य गिरफ्त में

एसपी अभिषेक तिवारी ने बताया, इंजीनियरिंग के दौरान हुकुम फेसबुक समेत अन्य सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म के जरिए इस नेटवर्क से जुड़ा था। मामले में बुधवार को 8 आरोपियों में दो को बालाघाट जेल भेज दिया गया। जबकि आंध्रप्रदेश और झारखंड से गिरफ्तार 5 आरोपियों को पुलिस ने कस्टडी में लिया है। इन्हें पुलिस ने बुधवार को कोर्ट में पेश किया। वहीं, झारखंड के एक अन्य आरोपी को ट्रांजिट रिमांड पर लिया गया है।

काम सवारी के साथ 47 बसें 6 रूटों पर दौड़ रही, फिर भी नहीं है सोशल डिस्टेंसिंग, नहीं दिख रहा लोगों में मास्क, ऐसे तो बढ़ेगा कोरोना का संक्रमण

नौकरी रेलवे में, काम ऑनलाइन ठगी का

इंजीनियरिंग के बाद हुकुम की नागपुर रेलवे में नौकरी लग गई। इसके बाद उसने ऑनलाइन ठगी के काम में अपने जीजा मनोज को भी जोड़ लिया। मनोज, मैनेजर के रूप में हुकुम के साथ काम कर रहा था। व्यापारियों को फर्जी तरीके से खरीदे गए मोबाइल सप्लाई करने और उनसे वसूली की जिम्मेदारी मनोज संभालता था। दोनों के पास से पुलिस को पिछले 4 से 5 महीनों के दौरान गिरोह के जरिए कमाए 1.30 करोड़ के लेन-देन का हिसाब मिला है।

बर्थडे पार्टी में मेडिकल स्टूडेंट को बुलाकर केक में नशीला पदार्थ मिलाकर किया दुष्कर्म, फिर वीडियो बनाकर करता रहा शरीरिक शोषण

अलग-अलग लेवल में बंटे थे काम

बालाघाट समेत झारखंड और आंध्रप्रदेश के अलग-अलग शहरों में गिरोह के कई लेवल में काम बंटे थे। झारखंड के देवघर में बैठे आरोपी ओटीपी से जुड़े फर्जीवाड़ा कर रहे थे। वहीं, रांची में साइबर फ्रॉड नेटवर्क का काम हो रहा था। पुलिस के मुताबिक, यह अंतरराज्यीय गिरोह ऑर्गनाइज तरीके से काम को अंजाम दे रहा था।

सेक्स रैकेट : इंदौर के होटल से हैदराबाद की 2 लड़कियां और 8 लड़के पकड़ाईं; भिंड के होटल से महिला दलाल, 5 युवतियाें सहित 14 गिरफ्तार

5 से 10% कमीशन में कर रहे थे काम

ठगी के नेटवर्क से जुड़कर दोनो परसेंटेज बेसिस पर काम कर रहे थे। दोनों बालाघाट समेत सिवनी, किरनापुर, गोंदिया, जबलपुर जैसे शहरों के मोबाइल व्यापारियों से मोबाइल हैंडसेट की डिमांड लेकर झारखंड में बैठे अपराधियों को सूचना देते थे। फिर ये लोग ओटीपी फर्जीवाड़ा कर लोगों के अकाउंट से फ्लिपकार्ट, अमेजन जैसी कमर्शियल कंपनियों से मोबाइल मंगाकर बालाघाट के आरोपियों को सप्लाई करते थे। एक बार में अलग-अलग ब्रांड के 25 से 30 महंगे मोबाइलों की सप्लाई होती थी। फिर व्यापारियों को फर्जी बिल के साथ मोबाइल बेचा जाता था। सभी मोबाइल बेचने के बाद जमा हुई राशि झारखंड में बैठे अपराधियों के बैंक खाते में जमा कराई जाती थी, जिसमें दोनों को 5 से 10 % का कमीशन मिलता था।

अजब गजब / 23 साल के युवक ने 1.50 लाख ठगने के लिए कलेक्टर-तहसीलदार के नाम से जारी किया नोटिस, फिर बरी होने का सर्टिफिकेट भी दे दिया

क्या है मामला

गौरतलब है, बालाघाट पुलिस ने सेंट्रल और विभिन्न जांच एजेंसियों की मदद से मंगलवार को 20 करोड़ का अंतरराज्यीय साइबर फ्रॉड का पर्दाफाश किया है। मामले में मप्र, झारखंड और आंध्रप्रदेश से 8 आरोपी गिरफ्तार किए गए हैं। इनमें दो आरोपी बालाघाट के हैं। इस नेटवर्क के तार 18 राज्यों में फैले हैं। अब तक पुलिस ने 300 से ज्यादा मोबाइल हैंडसेट और 10 लाख रुपए जब्त किए हैं।

अनलॉक जबलपुर : आज से पूरी क्षमता के साथ शाम सात बजे तक खुलेंगे सभी बाजार, हाेटल-रेस्टोरेंट और ढाबे रात 9 बजे तक खुलेंगे

एसपी अभिषेक तिवारी ने बताया कि ठगी का यह गिरोह व्यवस्थित ढंग से फर्जीवाड़े को अंजाम दे रहा था। आरोपियों से पूछताछ जारी है। पुलिस समेत सभी जांच एजेंसियां जांच में जुटी हैं।

गर्लफ्रेंड ने रचा खतरनाक खेल : प्रेमी ने खुद कर ली थी शादी, फिर पुराने VIDEO डालकर करने लगा ब्लैकमेल इसलिए मार डाला

ऑनलाइन ठगी का अंतरराज्यीय गिरोह पकड़ा:बालाघाट पुलिस ने किया 20 करोड़ के फ्रॉड का खुलासा, 300 से ज्यादा मोबाइल हैंडसेट जब्त, 8 गिरफ्तार

Powered by Blogger.