MP : नशा-ए-इश्क : तीन बच्चों को छोड़कर भागी पत्नी, प्रेमी से पीछा छुड़ाने के लिए पति बना अपराधी


इंदौर। पंकज मिश्रा। बेटी की बीमारी की झूठी ख़बर दे कर पत्नी और उसके प्रेमी को भोपाल से जबलपुर बुलाया। रेलवे कॉलोनी में ले जाकर पत्नी के प्रेमी की चाकू से गर्दन व पेट में ताबड़तोड़ वार कर हत्या कर दी। वहां से पत्नी के पास पहुंचा और उसे लात मारकर फरार हो गया।

MP के 5 शहरों में 3 मई की सुबह छह बजे तक लॉकडाउन बढ़ा : पहले की तरह सभी पाबंदियां रहेंगी लागू

जबलपुर मांडवा टेंटर टूर सामुदायिक भवन के पास गोरखपुर में रहने वाली नीतू जाटव (47) की शादी 2001 में रामप्रसाद जाटव के साथ हुई थी। उनके तीन बच्चे हैं। एक बेटी व दो बेटे हैं। उनके ही मोहल्ले में राजू ठाकुर भी रहता था। रामप्रसाद पत्नी नीतू पर संदेह करता था। इसे लेकर वह अक्सर उसके साथ मारपीट करता था।

मर गई इंसानियत : ​​​​​​​रेमडेसिविर की शीशी में ग्लूकोज का पानी भर कर 20-20 हजार में बेचा : गिरफ्तार

नौ महीने पहले नीतू (पत्नी) तीनों बच्चों को छोड़कर राजू ठाकुर के साथ भोपाल भाग गई। वहां दोनों छोटा तालाब कुम्हार मोहल्ला भोपाल में रहकर मजदूरी करने लगे थे। इधर, रामप्रसाद लगातार राजू ठाकुर के मोबाइल पर फोन करता रहता था। कुछ दिन पहले उसने राजू को फोन कर बताया कि उसकी बेटी की तबीयत बहुत खराब है। एक बार नीतू को लेकर आ जाओ, दिखाकर चले जाना। राजू ने नीतू से इसके बारे में बात की तो वह भी बेटी को लेकर बहुत परेशान हो गई। राजू को शक था कि ये रामप्रसाद की साजिश भी हो सकती है। राजू के समझने पर भी नीतू नहीं मानी और बेटी को देखने की जिद करती रही।

इंदौर में पति ने पत्नी के इंस्टाग्राम को अपने मोबाइल से लॉगिन कर प्रेमी को मिलने बुलाया और कर लिया अगवा : फिर ....

नीतू और उसका प्रेमी राजू ठाकुर शनिवार रात भोपाल से शाम 05.40 बजे की ट्रेन से जबलपुर के लिए निकले थे। रास्ते भर रामप्रसाद उनका लोकेशन लेता रहा। ट्रेन के स्टेशन पहुंचने पर रामप्रसाद भी प्लेटफार्म नंबर पांच पर पहुंच गया।

सरकारी सिस्टम फेल / बार-बार कॉल करने के बाद भी नहीं आई एंबुलेंस; पत्नी को ऑक्सीजन लगाया और ठेले पर डालकर ले गया अस्पताल

नीतू के मुताबिक रामप्रसाद बोला कि चलो तुम्हें लेने आया हूं। दोनों उसके साथ सामान लेकर पैदल चलने लगे। आगे अंकित होटल के पास पुरानी प्रकाश रेलवे कॉलोनी ले गया। चूंकि रामप्रसाद मांडवा बस्ती में रहने से पहले प्रकाश रेलवे कॉलोनी में ही रहता था।

प्रदेश के अस्पतालों में 94% ICU और 83% ऑक्सीजन बेड फुल, जगह नहीं मिलने से दम तोड़ रहे मरीज

उसने नीतू से कहा कि सामान लेकर यहीं पर खड़ी रहो, पुराने कमरे के पास उसने बाइक खड़ी की है। राजू ठाकुर को लेकर वह चला गया। 10 मिनट बाद बाइक से अकेला लौटा। राजू के बारे में बताया कि मैंने उसका काम-तमाम कर दिया हूं। इसके बाद नीतू को लात मारकर गिरा दिया और बाइक लेकर भाग गया।

बीमार मां को बीच रास्ते छोड़ जाने की अमानवीयता : माँ का कोरोना टेस्ट कराने जा रहे बेटे को गाड़ी में भरकर थाने ले गई पुलिस : फिर ...

नीतू चीखते हुए घटनास्थल पर पहुंची। वहां राजू खून से लथपथ हालत में मृत पड़ा था। उसके पेट व गर्दन पर चाकू के धारदार वार के निशान थे। वह चिल्लाते हुए बाहर निकली। वहां पास में रहने वाला मोनू कुंचबंधिया भी चीख सुनकर पहुंचा। मामला समझते ही उसने तत्काल सिविल लाइंस पुलिस को खबर दी। टीआई धीरज राज के मुताबिक नीतू की शिकायत पर आरोपी के खिलाफ हत्या का प्रकरण दर्ज कर जांच में लिया गया है।

Powered by Blogger.