REWA : हाल- ये -रीवा पुलिस .... अब पछताए होत क्या जब चिड़ियाँ चुग गई खेत

ख़बरों के बेहतर एक्सपीरिएंस के लिए डाउनलोड करें Rewa News Media ऐप, क्लिक करें

(ग्राउंड एमपी 17 ऋतुराज द्विवेदी की रिपोर्ट ) रीवा न्यूज। किसी जानकर ने लोगों को ज्ञान देने के उद्देश्य से इन लाईनों को लिखा होगा जिसमें कहा गया था अब पछताए होत क्या जब चिड़ियाँ चुग गई खेत जिसमे पीछे का अभिप्राय यह था कोई भी काम समय रहते करना चहिये जिससे उस काम का सकारात्मक प्रभाव पड़े इन दिनों रीवा जिले की पुलिस व उनके अफसर अपनी अलमस्तगी को लेकर चर्चाओं के केंद्र बिंदु बने हुए है।  

जबरदस्ती मायके से ले गए ससुराल/ महिला को पति और ससुरालवालों ने बनाया बंधक, न्यायालय ने पीड़िता को 5 साल के बेटे के साथ दी मायके में रहने की इजाजत

अब आप सोच रहे होंगे पुलिस का चिड़ियाँ व खेत से क्या लेना देना है. लेकिन हम बता दे उन लाईनों से उन चेहरों को बेनकाब करने की कोशिश कर रहा है, जिसमे पुलिस अपनी झूठे प्रपंचो के माध्यम से अपनी खोयी हुई विश्वसनीयता कीअस्मिता वापस पाना चाह रही है। 

कोरोना के बाद Black fungus का कहर, संक्रमितों में युवा ज्यादा : 12 का चल रहा इलाज, एक को किया भोपाल रेफर

समय था जिले के अफसरों के बेतुके बयानों का जिसमे किसनों की सब्जियों को जहरीला बताना  किसानों को लात मारना ,विभिन्न चौराहों पर गणमान्य नागरिकों को अपमानित करना, एवं पुलिस के कृत्यों को वीडियो कमरे में कैद करने वालों पर दबाब बनाना प्रमुख बिंदु रहे है। वर्तमान रीवा पुलिस पूर्व में पुलिस कप्तान रहे आबिद खान के वीडियो को पोस्ट कर रीवा जिले की जनता से हमदर्दी बटोरने का प्रयास कर रही है। 

कॉलेज चौराहे पर स्वास्थ्य कार्यकर्ता ने पुलिस को सुनाई खरी-खोटी : स्कूटी पर न नंबर प्लेट न आईकार्ड : फिर बाद में लिखा माफीनामा ; वीडियो वायरल

एक साल पुराना वीडियो वायरल कर; पुलिस की छवि को सुधारने में जुटे, पुलिस के आगे पीछे घूमने वाले

जिस तरह पुलिस की बर्बरता की कहानियाँ निकल कर सामने आ रही है, उसके चलते कुछ बड़े चैनल बड़े पत्रकार अपने को कहने वालों ने पुलिस की छवि को सुधरने में जुटे है। जिसके चलते पिछले साल का वीडियो निकाला गया और यह कहकर वायरल किया गया की ये वीडियो अभी का है, पुलिस अब इस तरह की कार्यवाही कर रही है। जबकि वायरल वीडियो में साफ़ दिखाई दे रहा है की वीडियो पिछले साल की है। 

इस साल कोई भी इस प्रकार की घटना नहीं घाटी 

रीवा न्यूज़ मीडिया ने जब इस वीडियो की पड़ताल की तो वीडियो में कुछ चेहरे परिचित नजर अये, उन्ही में से युवा पत्रकार विवेक द्विवेदी थे, जो की पूरे घटनाक्रम को एक वर्ष पूर्व कवरेज किया था। इस मामले में जब पत्रकार विवेक द्विवेदी से मामले को लेकर चर्चा की गयी, तो उन्होंने बताया की यह वायरल वीडियो एक वर्ष पूर्व का है। 


जब रीवा के सिरमौर चौराहा के पास यातायात पुलिस ने लॉकडाउन के दौरान लॉकडाउन का उलंघन करने वालो का तिलक और आरती उतारकर शर्मिंदा किया जा रहा था, उसी वीडियो को आज का बता कर वायरल किया जा रहा है। 


ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें या गूगल न्यूज़ या ट्विटर पर फॉलो करें. www.rewanewsmedia.com पर विस्तार से पढ़ें  मध्यप्रदेश  छत्तीसगढ़ और अन्य ताजा-तरीन खबरें

विज्ञापन देने के लिए संपर्क करें  7694943182, 6262171534

Powered by Blogger.