REWA : सतना, रीवा और सिंगरौली के कई गांवाें में बाढ़ का पानी घुसा, प्रशासन ने 300 लोगों को पहुंचाया राहत कैंप : SDRF टीम तैनात

ख़बरों के बेहतर एक्सपीरिएंस के लिए डाउनलोड करें Rewa News Media ऐप, क्लिक करें

मध्य प्रदेश के विंध्य और ग्वालियर-चंबल क्षेत्र में लगातार बारिश से नदियां उफान पर हैं। सतना, रीवा और सिंगरौली के कई गांवाें में बाढ़ का पानी घुस गया है। रीवा के त्योंथर ब्लॉक के बाढ़ प्रभावित गांव को खाली कराया जा रहा है। यहां से 300 लोगों को राहत कैंप में भेज दिया गया है। पार्वती और सिंध के उफान पर होने से भिंड और श्योपुर के कई गांव बाढ़ में घिर गए हैं। सतना में रपटा पार करते दो लोग बह गए। इनमें से एक को बचा लिया गया।

बारिश से बिगड़े हालात : रीवा-सिंगरौली में 12 घंटे में दो बड़े हादसों में 6 की मौत, 5 लोग गंभीर

इधर, मौसम विभाग ने ग्वालियर और चंबल संभाग में कहीं-कहीं 24 घंटे में गरज-चमक के साथ तेज बारिश की संभावना जताई है। वहीं, मंदसौर और नीमच में भी बारिश की संभावना जताई है। इसके अलावा, रीवा, सागर, भोपाल संभागों में भी बारिश की संभावना है।

कच्चा मकान ढहने से मलवे में दफन हो गई चार जिंदगी, दम घुटने से निकले प्राण : दो लोग गंभीर रूप से अस्पताल में भर्ती

सतना और सीधी में बारिश की वजह से तराई में बाढ़ की स्थिति है। यहां से पानी आने की वजह से रीवा सबसे ज्यादा प्रभावित है। शनिवार रात से बकिया बराज के 8 गेट एवं बीहर बराज के 12 गेट खोले जा चुके हैं। साथ ही अदवा डैम का भी एक गेट खोला गया है। इससे जिले के तराई अंचल में बाढ़ की स्थिति निर्मित हो गई है। नईगढ़ी-बहूती मार्ग, सोहागी-बड़ागांव का मुख्य मार्ग और त्योंथर क्षेत्र के धोबा नाला में बाढ़ के हालात है। पटेहरा के पास टमस और बेलन नदी का जल स्तर तेजी से बढ़ रहा है।

पहली बार नई लोकेशन की नई दरें : जिलेभर के 355 नए लोकेशन कलेक्टर गाइडलाइन में शामिल : 50 हजार रुपए प्रति वर्गमीटर की दर से होगी रजिस्ट्री : पढ़िए पूरी जानकरी

ऐसे में रीवा कलेक्टर इलैया राजा टी, एसपी राकेश कुमार सिंह पूरे जिले में नजर बनाए हुए हैं। प्रशासन के निर्देश पर स्थानीय प्रशासन ने तत्काल टमस और बेलन नदी से लगे गांवों में रहने वाले व्यक्तियों को अलर्ट कर दिया है। साथ ही, गांव में होमगार्ड की टीमें सभी नालों और पुलों पर मुस्तैद की गईं। सतना, सीधी और सिंगरौली में भी नदी-नाले उफान पर होने की वजह से गांव पानी में घिर गए हैं।

रीवा में भारी बारिश : तराई क्षेत्रों के निचले इलाकों पर बाढ़ का खतरा; बकिया बराज के 12 गेट खुले : जवा सहित टमस के निचले क्षेत्रों में अलर्ट

सोहागी पहाड़ में भूस्खलन

दो दिन से चल रही तेज बारिश के बाद रविवार सुबह सोहागी पहाड़ में भूस्खलन हुआ है। पहाड़ की चट्टानें नेशनल हाईवे 30 में आकर गिर गई हैं। हालांकि बड़ा हादसा नहीं हुआ। हाईवे पुलिस ने सोहागी पुलिस की मदद से जेसीबी से चट्टानें हटवा दी हैं। साथ ही, हाईवे में कई जगह पर पेड़ गिरे हैं, जिनको सोहागी पुलिस सुबह से हटा रही है।

रीवा के सोहागी में तेज बारिश के कारण पहाड़ में से मिट्‌टी धंसक गई।
रीवा के सोहागी में तेज बारिश के कारण पहाड़ में से मिट्‌टी धंसक गई।
सतना में घटनास्थल पर लगी ग्रामीणों की भीड़।
सतना में घटनास्थल पर लगी ग्रामीणों की भीड़।

गुना: सिंध नदी भी उफान पर, बमोरी क्षेत्र में सबसे ज्यादा नदी-नाले उफान पर

जिले में शुक्रवार से फिर बारिश का दौर लगातार जारी है। निरंतर हो रही बारिश से सिंध नदी भी अब उफान पर है। पार्वती पहले ही खतरे के निशान से बस कुछ ही नीचे बह रही है। शनिवार शाम से रविवार सुबह 8:30 बजे तक 1 इंच बारिश हो चुकी है। रविवार सुबह से भी निरंतर बारिश जारी है। बमोरी क्षेत्र में सबसे ज्यादा नदी-नाले उफान पर हैं। पुलियाओं के ऊपर से पानी बह रहा है। सबसे ज्यादा गांव पानी से यहीं घिरे हुए हैं। म्याना के कई मोहल्ले जलमग्र हो गए। तेज बारिश से म्याना के नदी नाले उफान पर आ गए। कटरा मोहल्ले का नाला उफान पर होने से जमरा मार्ग, म्याना छापर मार्ग बंद हो गया। वहीं, कटरा मोहल्ला स्थित शासकीय स्कूल तक यह पानी पहुंच गया।

पांच दिन से चल रही भारी बारिश के कारण तराई क्षेत्र के त्योंथर और जवा में हालात खराब : अचानक जलस्तर बढ़ने से आवागमन प्रभावित

होशंगाबाद: 24 घंटे में एक फीट बढ़ा तवा का जलस्तर

पिछले 24 में जिले में 4.2 मिमी बारिश दर्ज की गई। वहीं बैतूल, पचमढ़ी व कैंचमेंट एरिया में बारिश होने से तवा डैम में जलस्तर बढ़ रहा है। 24 घंटे में एक फीट पानी बढ़ा है।

झमा झम बारिश में तीन अलग-अलग हादसों में तीन लोगों की मौत : आकाशीय बिजली की चपेट में आया वृद्ध किसान तो बोलेरो वाहन ने मासूम को कुचला

जिले में पिछले 12 दिनों से मानसून सक्रिय है। रुक-रुककर तेज बारिश व रिमझिम बारिश हो रही है। वहीं, दो माह में जिले में 536 मिमी से अधिक बारिश हो चुकी है। रविवार को सुबह से हल्की बौछारें हो रही है। मौसम विभाग ने गरज-चमक के साथ हल्की बारिश होने की संभावना जताई है। शनिवार सुबह 6 बजे 947.80 फीट जलस्तर था। जो रविवार सुबह 6 बजे 948.80 फीट हो गया। वहीं नर्मदा में 40 फीट बढ़कर जलस्तर 936.90फीट हो गया। इसी प्रकार बरगी का जलस्तर 417.60 मीटर, 343.72 मीटर हो गया है।

MP के चंबल, रीवा और सागर संभाग में लगातार मूसलधार बारिश जारी, इंदौर समेत 7 जिलों में चिंताजनक स्थिति


सीधी-सिंगरौली: गोपद नदी उफान पर, कच्चा मकान गिरने से बुजुर्ग की मौत

सीधी-सिंगरौली में भारी बारिश के कारण नदियां रौद्र रूप धारण कर चुकी हैं। दोनों जिलों को जोड़ने वाले एकमात्र पुल गोपद पुल में गोपद नदी का पानी भर सकता है। भारी बारिश के कारण गोपद नदी उफान पर है। इसके कारण दोनों जिलों का आवागमन लगभग ठप है। लोग जान हथेली पर रखकर पुल पार कर रहे हैं। जिले के सिरगुड़ी में कच्चा मकान गिरने से रामकुमार साकेत (90) की दबकर मौत हो गई।

शिक्षा के मंदिर में उड़ रहें नशेड़ी शिक्षकों के जाम : प्राचार्य से लेकर चतुर्थ श्रेणियों तक के शामिल : डीईओ ने बीईओ को दिए जांच के आदेश

सतना में मऊ नदी उफान पर, रास्ता बंद

सतना के बिरसिंहपुर से रीवा के सेमरिया जाने का मार्ग मऊ नदी उफान में होने से बंद कर दिया गया है। मऊ नदी पर पानी पुल से 4 फीट ऊपर चल रहा है। इस कारण पुलिस ने आवागमन रोक दिया है। इससे वाहनों की कतारें लग गई हैं। यही हाल अमरपाटन से ताला, मुकुन्दपुर बा़या रीवा मार्ग का भी है। यहां जगह-जगह बरसाती नाले उफान पर हैं। मुरजुआ पुल के ऊपर पानी आ जाने के कारण आवागमन ठप हो गया है। जैतवारा, खुटहा और नयागांव के पास भी नदी नालों का पानी सड़क पर आने से आवागमन ठप है। कोठी की सुजावल नदी उफान पर होने के कारण कोठी के आसपास के कई गांवों के आवागमन कर रास्ते बंद हो गए हैं। कोटर अस्पताल परिसर और आवास में पानी घुस गया है।

बकिया बराज के खोले गए 12 गेट : तीन दिन से चल रही रिमझिम बारिश से इलाकों में अलर्ट जारी : तराई क्षेत्रों में बाढ़ का खतरा

सतना के कोटर पतौड़ा गांव में रपटा पार करते समय ट्रैक्टर सहित दो लोग बह गए। इनमें से 18 वर्षीय विजय परिहार नामक युवक को बचा लिया गया, जबकि अतुल मिश्रा (23) का पता नहीं चला। घटनास्थल पर ग्रामीणों की भीड़ लगी रही।  

चित्रकूट में मंदाकिनी नदी उफान पर है। नदी में जलस्तर बढ़ने से आसपास के घाट डूब गए हैं।
चित्रकूट में मंदाकिनी नदी उफान पर है। नदी में जलस्तर बढ़ने से आसपास के घाट डूब गए हैं।
सतना में कई जगह मोहल्लों में पानी भर गया है।
सतना में कई जगह मोहल्लों में पानी भर गया है।
Powered by Blogger.