REWA : कलेक्टर के निरीक्षण में संजय गाँधी हॉस्पिटल के डॉक्टरों की खुली पोल; जिला अस्पताल के मरीज छोड़ क्लीनिक से पैसे बटोरने में लगे डॉक्टर

Telegram

ऋतुराज द्विवेदी,रीवा। रोक के बावजूद कोरोनाकाल में ​डॉक्टर निजी क्लीनिक चला रहे हैं। इसका खुलासा बुधवार को हुआ। कलेक्टर और प्रभारी कमिश्नर ने डॉक्टरों के क्लीनिक पर छापा भी मारा। यहां मरीजों की कतार लगी थी। अंदर सरकारी डॉक्टर इलाज कर रहे थे। वहीं, जिला अस्पताल में मरीज डॉक्टरों का इंतजार कर रहे थे।

MP के सभी शहरों में अब हर संडे लॉकडाउन : रीवा में धारा 144 लागू

हुआ यूं कि सुबह करीब 11 बजे संभाग प्रभारी कमिश्नर और कलेक्टर इलैया राजा टी श्याम शाह मेडिकल कॉलेज में हुई बैठक हुई। यहां कई डॉक्टर नहीं पहुंचे। जब डीन से कारण पूछा, तो उन्होंने हास्यास्पद जवाब दिया। कहा- सभी चिकित्सक अपने-अपने क्लीनिक में बैठे होंगे।

मंत्री के रिश्तेदार बताने वाले पूर्व DEO आर.एन.पटेल कब होगे निलंबित : 70 लाख के घोटाले से शिक्षा विभाग में मचा है हड़कंप

कुछ देर बाद प्रभारी संभागायुक्त एसएस मेडिकल कॉलेज से बाहर निकले, तो कई पीड़ित पहुंच गए। उन्होंने प्रभारी संभागायुक्त को बताया कि सर ओपीडी में कई चिकित्सक नहीं हैं। ऐसे में प्रभारी संभागायुक्त भड़क गए। गाड़ी को डॉक्टर कॉलोनी को मुड़वा दिया। डॉक्टर कॉलोनी परिसर पहुंचे, तो क्लीनिकों के बाहर कतार लगी थीं, जबकि अंदर चिकित्सक पैसे छापने में लगे थे।

बढ़ते कोरोना संक्रमण को लेकर कलेक्टर ने जिले में धारा-144 के तहत आदेश जारी किये : पढ़िए क्या खुला क्या बंद !

इनकी क्लीनिक में दबिश

यहां प्रभारी संभागायुक्त ने देखा, सरकारी डॉक्टर कॉलोनी में चिकित्सक निजी क्लीनिक बना लिए हैं। पहले कलेक्टर हृदय रोग विशेषज्ञ डॉ. केडी सिंह के बंगले में पहुंचे। जहां ओपीडी के समय में वह मरीज देख रहे थे। तब प्रभारी संभागायुक्त ने डॉ. केडी सिंह को फटकारा। इसके बाद डॉ. हरिओम गुप्ता और डॉ. मंजर उस्मानी के निजी क्लीनिक में पहुंचकर भी डांट फटकार लगाई। इसके बाद डॉक्टरों के बीच हड़कंप की स्थिति बन गई। सब भागकर अस्पताल पहुंचे।

कलेक्टर इलैया राजा टी ने की नेक पहल; संजय गांधी के डॉक्टरों को घरों में निजी प्रैक्टिस करते पकड़ा : डॉक्टरों में मचा हड़कंप

बड़ी कार्रवाई के संकेत

सूत्रों का कहना है, कोरोना महामारी में राज्य सरकार हर दिन बैठक लेकर जिलों की स्थिति का आकलन करती है। संजय गांधी अस्पताल और एसएस मेडिकल कॉलेज के चिकित्सकों ने अस्पताल की ओपीडी छोड़कर निजी क्लीनिक में बैठे दिखे। हालांकि प्रभारी संभागायुक्त ने बड़ी कार्रवाई के संकेत दिए हैं।

जगह जगह मास्क चेकिंग से नवयुवकों में मचा हड़कंप : जुर्माना वसूलकर भेजे गए जेल

बड़ी बिल्डिंग में हद दर्जे का इलाज

मरीज के परिजनों का आरोप है, जिला अस्पताल में सिर्फ बड़ी बिल्डिंग ही है, लेकिन इलाज हद दर्जे का होता है। आए दिन चिकित्सक अंधेर गर्दी का विरोध करने पर विवाद करते हैं। आरोप है कि यहां जूनियर चिकित्सकों से लेकर सीनियर चिकित्सकों का यही रवैया है। मजबूरन निजी अस्पताल जाना पड़ता है।


रीवा जिले की सबसे ज्यादा पढ़ी जाने वाली खबरें 

इन दिनों रीवा यूपी, बिहार से कम नहीं: गर्लफ्रेंड की फोटो के साथ दूसरे युवक को देख भड़का बॉयफ्रेंड, हुई जमकर मारपीट

घर के पोर्च से फायरिंग कर रहे आरइएस के SDO को पुलिस ने दबोचा





30 मोबाइल पार्टियां बाइकर्स गैंग की हुड़दंग रोकने चप्पे-चप्पे पर तैनात : ट्रिपल बाइकर्स की निकाली हवा






ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें या गूगल न्यूज़ या ट्विटर पर फॉलो करें. www.rewanewsmedia.com पर विस्तार से पढ़ें  मध्यप्रदेश  छत्तीसगढ़ और अन्य ताजा-तरीन खबरें

विज्ञापन देने के लिए संपर्क करें  7694943182, 6262171534

Powered by Blogger.