REWA : नगरीय निकाय चुनावों की तैयारी को लेकर इस बार कांग्रेस आगे , दावेदारों को वचन पत्र समेत दिलाया जा रहा वफादारी का संकल्प

रीवा। नगरीय निकाय चुनावों की तैयारी को लेकर इस बार कांग्रेस भाजपा से आगे नजर आ रही है। लगातार बैठकें आयोजित कर दावेदारों से आवेदन लिए जा रहे हैं। इसी कड़ी में रविवार को रीवा नगर निगम के चुनाव प्रभारी पूर्व मंत्री हर्ष यादव ने दावेदारों से मुलाकात की।

साथ ही टिकट की चयन समिति के साथ भी बैठक कर उन्होंने पार्टी की गाइडलाइन बताई। इस दौरान सभी दावेदारों से वचन पत्र लिया गया है कि वह पार्टी के सिद्धांतों के अनुरूप काम करेंगे और यदि उन्हें टिकट नहीं मिलेगी तो किसी तरह से पार्टी के साथ बगावत नहीं करेंगे और न ही विपक्षी प्रत्याशियों के समर्थन में कोई काम करेंगे।

यह वचन पत्र महापौर के साथ ही पार्षदों के लिए दावेदारों से भी लिए गए हैं। इस पर प्रभारी हर्ष यादव ने कहा है कि पार्टी का यह आंतरिक मामला है, अनुशासन के दायरे में ही सारे काम किए जा रहे हैं। जो संगठन के सिद्धांतों के विपरीत काम करेगा उसके विरुद्ध आगे सख्त कार्रवाई भी होगी।

प्रत्याशी चयन समिति की बैठक देर शाम हुई। जिसमें पार्टी के जिला एवं शहर अध्यक्ष के साथ ही पिछले चुनाव के लोकसभा एवं विधानसभा के प्रत्याशी, महिला कांग्रेस, युवा कांग्रेस, एनएसयूआइ के प्रतिनिधि, नगर निगम के नेता प्रतिपक्ष आदि शामिल हुए।

इस बैठक में एक बात पर आम सहमति बनी है कि टिकट उसी नेता को दी जाए जिसे शहर की राजनीतिक एवं भौगोलिक समझ हो। पार्टी के लिए लंबे समय से काम करने वाले व्यक्ति को ही महापौर का टिकट मिलना चाहिए। बाहर से किसी भी प्रत्याशी को बुलाए जाने पर सभी ने विरोध किया है और कहा कि यदि टिकट वितरण में कोई लापरवाही होगी तो पार्टी के भीतर बगावत होगी और चुनाव में इसका असर पड़ सकता है।

महापौर के लिए इन्होंने पेश किया दावा

महापौर पद के लिए जिन नेताओं ने दावा पेश किया है उसमें प्रमुख रूप से शहर अध्यक्ष गुरमीत सिंह मंगू, नेता प्रतिपक्ष अजय मिश्रा बाबा, कविता पाण्डेय, गोविंद शुक्ला, विनोद शर्मा, शिवप्रसाद प्रधान, मानवेन्द्र सिंह नीरज, अनुपम तिवारी, बृजेश पाण्डेय, सज्जन पटेल, डॉ. विनोद शुक्ला सहित अन्य शामिल रहे।

संगठन प्रभारी ने पूछा आप के बाद कौन लोकप्रिय

प्रत्याशी चयन में इस बार कांग्रेस हर दावेदार को संतुष्ट करने के प्रयास में है। संगठन प्रभारी ने पार्षद पद के दावेदारों से आवेदन लेने के साथ ही अन्य दावेदारों की भी वरीयता उन्हीं से पूछी। कई दावेदारों से कहा कि आपके बाद दूसरा कौन है जिस पर पार्टी भरोसा कर सकती है।

इसमें कई लोगों ने नाम भी बताए हैं लेकिन अधिकांश लोगों ने कहा कि वह केवल अपनी बात करेंगे। पार्षद पद के लिए अनारक्षित वार्डों में अधिक संख्या में आवेदन आए हैं। कई बार्ड ऐसे हैं जहां पर सात से आठ आवेद हैं तो वहीं कुछ वार्ड ऐसे हैं जहां पर एक या दो आवेदन हैं। इसलिए संगठन के नेताओं से कहा गया है कि यदि कोई और दावेदार सामने आता है तो उसकी भी रिपोर्ट प्रस्तुत करें।


मध्यप्रदेश की सबसे ज्यादा पढ़े जाने वाली खबरें 

बेसहारा हुए माँ- बाप : बजरंग दल के कार्यकर्ता ने जिसकी पत्नी को खून देकर बचाया उन्हीं लोगों ने कर दी हत्या















रीवा की सबसे ज्यादा पढ़ी जाने वाली खबरें 

पिता से रुपये ऐंठने स्वयं के अपहरण की पुत्र ने रची कहानी, SP रीवा ने ऐसे किया खुलासा

खेत में मिली महिला की छत-विछत हालत में लाश, रेप के बाद हत्या का आरोप












लेटेस्ट न्यूज़ से अपडेट रहने के लिए REWA NEWS MEDIA फेसबुक पेज लाइक करें

Powered by Blogger.